• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • जीतन राम मांझी बोले- चिराग पासवान, पीएम नरेंद्र मोदी के हनुमान नहीं थे, उनकी कोई जमीन नहीं

जीतन राम मांझी बोले- चिराग पासवान, पीएम नरेंद्र मोदी के हनुमान नहीं थे, उनकी कोई जमीन नहीं

जीतन राम मांझी ने चिराग पासवान पर निशाना साधा. (फाइल फोटो)

जीतन राम मांझी ने चिराग पासवान पर निशाना साधा. (फाइल फोटो)

जीतन राम मांझी ने कहा कि अब चिराग पासवान एनडीए में नहीं हैं. चिराग के तेजस्वी के साथ जाने से नहीं पड़ेगा कोई फर्क. ऐसा नहीं है कि दलित वोटर अकेले चिराग के साथ है. उनके पिता का जो जनाधार रहा है, उसमें से पशुपति पारस के भी साथ जाएंगे कई लोग.

  • Share this:
पटना. बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (HAM) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतनराम मांझी ने चिराग पासवान पर निशाना साधा है. मांझी ने न्यूज 18 से कहा कि अब चिराग पासवान एनडीए में नहीं हैं. उन्होंने कहा कि चिराग के तेजस्वी के साथ जाने से नहीं पड़ेगा कोई फर्क. ऐसा नहीं है कि दलित वोटर अकेले चिराग के साथ है. उनके पिता का जो जनाधार रहा है, उसमें से पशुपति पारस के भी साथ जाएंगे कई लोग.

'मोदी को राम बताना चिराग का छलावा था'

तेजस्वी यादव के दो-तीन महीने में बिहार सरकार गिरने के दावे को मांझी ने खारिज कर दिया. मांझी ने कहा कि एनडीए पूरी तरह एकजुट है. विकासशील इंसान पार्टी और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा एनडीए के साथ मजबूती से खड़े हैं. उन्होंने कहा कि चिराग पासवान की कोई जमीन नहीं है. जितना जनसंपर्क होना चाहिए, वे नहीं बना पाए हैं. चिराग तो अपने पिता जी की विरासत पर हैं. उन्होंने अपने जीवन काल में ही चिराग को बनाया अध्यक्ष. केवल रामविलास पासवान की जयंती मनाने से एससी नहीं चला जाएगा तेजस्वी के साथ. मांझी ने कहा कि चिराग के अपने-आप को हनुमान और नरेंद्र मोदी को भगवान कहने से कुछ लोग भ्रमित हो गए थे. इसलिए उनका वोट प्रतिशत कुछ बढ़ गया था. लेकिन, नरेंद्र मोदी जी को राम कहना चिराग पासवान का छलावा था.

चिराग पर मांझी के बाद अब केसी त्यागी के तल्ख तेवर

तेजस्वी यादव के चिराग पासवान को ऑफर और आने वाले दिनों के समीकरण पर केसी त्यागी ने कहा कि वे दोनों पहले से ही एक हैं, यह बात हम कई अवसर पर बोल चुके हैं. आरजेडी को चिराग ने मदद की है. तेजस्वी यादव के खिलाफ ऐसा उम्मीदवार दिया, जो वोटकटवा था. चिराग खुद बहुत बड़े वोटकटवा थे. लेकिन, ये काठ की हांडी एक बार चढ़ती है. उन्हें गलतफहमी है कि उन्हें 6 प्रतिशत वोट मिले हैं और बिहार की राजनीति में उनकी महती भूमिका है. त्यागी ने कहा कि पारस पहले से ही बिहार में स्थापित नेता हैं. पारस ही बिहार में रामविलास पासवान की एलजेपी चलाते रहे हैं.

पारस गुट के प्रवक्ता ने मांझी और त्यागी के सुर में बोला

उधर पशुपति पारस गुट के प्रवक्ता श्रवण अग्रवाल ने भी मांझी और त्यागी के सुर में सुर मिलाया है. श्रवण अग्रवाल ने कहा है कि मांझी और केसी त्यागी अनुभवी नेता हैं. दोनों की बात बिलकुल सही है. चिराग पासवान ने बिहार चुनाव में तेजस्वी की मदद की. राघोपुर में भी तेजस्वी को जिताने में मदद की. चिराग नरेंद्र मोदी के हनुमान नहीं थे. चिराग तेजस्वी यादव के हनुमान थे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन