होम /न्यूज /बिहार /पशुपति पारस के स्वागत में पोस्टर-बैनर से पटा पटना, चिराग पासवान को नहीं मिली जगह

पशुपति पारस के स्वागत में पोस्टर-बैनर से पटा पटना, चिराग पासवान को नहीं मिली जगह

पटना में पशुपति कुमार पारस के स्वागत में लगा पोस्टर जिसमें चिराग पासवान को जगह नहीं मिली है.

पटना में पशुपति कुमार पारस के स्वागत में लगा पोस्टर जिसमें चिराग पासवान को जगह नहीं मिली है.

लोजपा (LJP) में टूट के बाद अब विद्रोह की स्थिति हो गई है. चिराग पासवान (Chirag Paswan) के अलग-थलग पड़ने के बाद चिराग के ...अधिक पढ़ें

    पटना. लोक जनशक्ति पार्टी (LJP) में जारी विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. दो दिन पहले पार्टी में तख्तापलट करने के बाद नए सुप्रीमो पशुपति कुमार पारस (Pashupati Kumar Paras) बुधवार को पहली बार पटना आ रहे हैं. इस बीच पटना में लोक जनशक्ति पार्टी के पोस्टर और बैनर से पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके चिराग पासवान (Chirag Paswan) की फोटो को गायब कर दिया गया है. पटना में पशुपति पारस के स्वागत में जितने भी पोस्टर लगाए गए हैं उनमें कहीं भी चिराग पासवान नहीं दिख रहे हैं और ना ही उनका नाम अंकित है, ऐसे में बुधवार को पटना में फिर से लोजपा के दोनों घटकों के बीच टकराव की संभावना से भी नकारा नहीं जा रहा है.

    पारस दोपहर बाद फ्लाइट से पटना आएंगे ऐसे में उनके स्वातग की तैयारी जोरो पर है. इससे पहले मंगलवार को  चिराग के समर्थकों ने मंगलवार को लोजपा कार्यालय में जमकर बबाल काटा था. चिराग समर्थको ने लोजपा के सांसद पशुपति पारस  के नेम प्लेट पर कालिख पोता और जमकर विरोध में नारेबाजी की. चिराग समर्थक लोजपा के कार्यकर्ताओं ने पांच सांसद पशुपति पारस,चन्दन सिंह,महबूब अली कैसर,वीणा सिंह और प्रिंस राज के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और उनका पोस्टर भी जलाया. चिराग समर्थक कार्यकर्ताओ ने नीतीश कुमार पर भी हमला बोला और नीतीश का भी पोस्टर जलाया.

    प्रदर्शन कर रहे कार्यकर्ताओं ने साफ कहा था कि चिराग पासवान ही हमारे नेता हैं. लोजपा इनकी पार्टी है और हमारी ही रहेगी. हम किसी पशुपति पारस को नहीं जानते हैं और हमलोग किसी को भी यहां नहीं आने देगे. चिराग के समर्थन में उतरे कार्यकर्ताओ में भीम आर्मी के अमर आजाद ने कहा कि हम चिराग पासवान के साथ हैं. उनके सिवा किसी को नहीं जानते हैं. हम उनके लिए कुछ भी करने को तैयार हैं. मंगलावर को चिराग पासवान ने लोजपा  कार्यसमिति की वर्चुअल बैठक ली. इस दौरान बड़ा फैसला लेते हुए चिराग पासवान ने बगावत करने वाले अपने  चाचा पशुपति पारस  समेत सभी 5 सांसदों को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया.इसके बाद ही चिराग ने पार्टी के अध्यक्ष पद पर भी अपना दावा पेश किया है.

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें