अपना शहर चुनें

States

सुशील मोदी को राज्यसभा उम्मीदवार बनाए जाने पर चिराग पासवान ने साधी चुप्पी, नीतीश-तेजस्वी पर कही यह बात

चिराग पासवान (फाइल फोटो)
चिराग पासवान (फाइल फोटो)

Rajya Sabha Election: बिहार विधानमंडल में सीएम नीतीश कुमार ( CM Nitish Kumar) और तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के बीच हुए बयानबाजी पर चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने कहा पर्सनल अटैक नहीं करना चाहिए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 28, 2020, 8:01 AM IST
  • Share this:
रिपोर्ट- धर्मेंद्र कुमार
पटना. बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) के भाजपा (BJP) की ओर से राज्यसभा उम्मीदवार घोषित करने के बाद लोजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) पटना पहुंचे, लेकिन इस मामले पर मौन रहे. सुशील मोदी की राज्यसभा उम्मीदवारी (Rajya Sabha Election) को लेकर पूछे गए सवालों पर चिराग ने चुप्पी साध ली. मीडिया के बार-बार पूछने पर भी उन्होंने इस मुद्दे पर कुछ नहीं कहा. हालांकि विधानमंडल में सत्ता पक्ष व विपक्ष के नेताओं के बीच तीखी नोंक-झोंक व व्यक्तिगत टिप्पणियों पर अपनी बात रखते हुए उन्होंने कहा कि जिस तरह से दोनों की तरफ से मर्यादाएं लांघी गयीं वो सही नहीं है.

बिहार विधानमंडल में सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) और तेजस्वी यादव (Tejashwi Yadav) के बीच हुए बयानबाजी पर चिराग पासवान ने कहा कि पर्सनल अटैक नहीं करना चाहिए. हालांकि दोनों तरफ से अटैक हुए हैं. जिस तरह से दोनों की तरफ से मर्यादाएं लांघी गयीं वो सही नहीं है. बता दें कि शुक्रवार को सदन में सीएम नीतीश कुमार पर तेजस्वी यादव ने अमर्यादित टिप्पणी की थी जिसके बाद हंगामा खड़ा हो गया था. आपको बता दें कि तेजस्वी ने विधानसभा चुनाव के दौरान उनके परिवार को लेकर नीतीश कुमार द्वारा की गई टिप्पणी के ऊपर प्रतिक्रिया दी थी. नीतीश ने भी इसके जवाब में काफी तीखी प्रतिक्रिया दी है.

अपने कार्यक्रम 'फर्स्ट बिहारी' पर चिराग ने कहा कि शनिवार को पार्टी का 20वां स्थापना दिवस है. पूरे देश मे स्थापना दिवस मनाया जाएगा, लेकिन कोई बड़े कार्यक्रम नहीं होंगे. पिता रामविलास पासवान के सपनों और विचार को जनता तक पहुंचाया जाएगा. गौरतलब है कि 28 नवंबर, 2000 को चिराग पासवान के पिता व दिवंगत पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान ने लोक जनशक्ति पार्टी बनाई थी.
किसानों पर हुए हमले पर बोले चिराग ने कहा कि केंद्र ने दो बार पहले भी उनसे वार्ता की थी और आगे भी वार्ता करेगी, लेकिन इस ठंड के मौसम में वाटर कैनन का इस्तेमाल करना उचित नहीं है. बता दें कि दिल्ली, पंजाब व हरियाणा के किसान केंद्र सरकार के कृषि बिल के विरोध में दिल्ली में प्रदर्शन करना चाह रहे थे, इसी क्रम में किसानों को रोकने के लिए वाटर कैनन का इस्तेमाल किया गया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज