लाइव टीवी

प्रशांत किशोर ने CAA-NRC को रोकने के बताए तरीके, सुझाया यह उपाय
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: December 22, 2019, 12:22 PM IST
प्रशांत किशोर ने CAA-NRC को रोकने के बताए तरीके, सुझाया यह उपाय
प्रशांत किशोर ने NRC और CAB को घातक जोड़ करार दिया है. (फाइल फोटो)

प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर CAA और NRC के क्रियान्‍वयन को रोकने के दो प्रभावी तरीके बताए हैं. उन्‍होंने सभी स्‍तर पर अपनी आवाज उठाकर शांतिपूर्वक विरोध जारी रखने की सलाह दी है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: December 22, 2019, 12:22 PM IST
  • Share this:
पटना. नागरिकता कानून (CAA) और एनआरसी (NRC) के मुद्दे पर सबसे मुखर लोगों में जेडीयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) भी एक हैं. एक के बाद एक ट्वीट के जरिये जब उन्होंने CAA और NRC के खिलाफ आवाज बुलंद की तो CAB पर केंद्र सरकार को सपोर्ट करने वाले सीएम नीतीश कुमार को भी कहना पड़ गया कि वह एनआरसी पर केंद्र सरकार के साथ नहीं हैं और अपने राज्य में इसे लागू नहीं होने देंगे. एक बार फिर प्रशांत किशोर ने ट्वीट किया है, जिसमें उन्‍होंने सीएए और एनआरसी के क्रियान्‍वयन को रोकने के तरीके बताए हैं.

प्रशांत किशोर ने ट्वीट किया, में लिखा, 'CAA-NRC के क्रियान्‍वयन को रोकने के दो प्रभावी तरीके हैं. पहला, सभी प्लेटफार्मों पर अपनी आवाज उठाकर शांतिपूर्वक विरोध जारी रखें. दूसरा, यह सुनिश्चित करें कि सभी 16 गैर बीजेपी शासित राज्‍यों या इनमें से अधिकांश प्रदेशों के सीएम NRC को अपने राज्‍यों में न लागू होने देने पर सहमत हों. बाकी की जो भी महत्‍वपूर्ण चीजें हैं, वे प्रतीकात्‍मक (Tokenism) हैं.'



बता दें कि प्रशांत किशोर ने शनिवार को CAA और NRC के खिलाफ सड़क पर चल रहे विरोध-प्रदर्शनों से कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की अनुपस्थिति पर नाराजगी जाहिर की थी. उन्होंने कांग्रेस पार्टी के नेताओं से कहा था कि वे इन प्रदर्शनों में भाग लें अन्यथा सोनिया गांधी द्वारा इस संबंध में वीडियो जारी करने का कोई मतलब नहीं रह जाएगा.



प्रशांत किशोर के ट्वीट के बाद कांग्रेस ने सोमवार को राजघाट पर धरना देने का ऐलान किया था. इसमें कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और कांग्रेस के कई अन्य वरिष्ठ नेताओं के भाग लेने की संभावना जताई गई थी. हालांकि, इस प्रदर्शन को अब टाल दिया गया है.

 

 

ये भी पढ़ें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 22, 2019, 11:57 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर