बिहार: राज्यसभा चुनावों को लेकर यूपीए में मारामारी, क्या टूट जाएगा महागठबंधन?
Patna News in Hindi

बिहार: राज्यसभा चुनावों को लेकर यूपीए में मारामारी, क्या टूट जाएगा महागठबंधन?
राज्यसभा की सीट को लेकर भिड़े कांग्रेस आरजेडी

बिहार में महागठबंधन एक बार फिर आपसी टसल में फंस गया है. मामला राज्यसभा (Rajyasabha) टिकट का है और इस बार आरजेडी के सामने कांग्रेस है. बिहार के बाकी दल इस मामले को लेकर आरजेडी पर चुटकी ले रहे हैं.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. बिहार में राज्यसभा चुनावों को लेकर महागठबंधन (Alliance) के घटक दलों में ठन गई है. मामला राज्यसभा में एंट्री का है लिहाजा कोई भी पीछे हटने को तैयार नहीं है. इस बार मोर्चा खोल दिया है आरजेडी (RJD) की सबसे पुरानी और भरोसेमंद साथी कांग्रेस ने. लालू यादव को बचाने के लिए वर्षों से ढाल की तरह खड़ी रही कांग्रेस इस बार आरजेडी को झटका दे रही है. कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने आरजेडी को उसके पुराने वचन की याद दिलाई है. गोहिल का कहना है कि जो बात सार्वजनिक तौर पर कही थी, उसी बात को मैं याद दिला रहा हूं. लालू जी एक सुलझे हुए नेता हैं, वो वादे को याद रखेंगे.

महागठबंधन की 2 सीटों में हिस्सा चाहती है कांग्रेस
दरअसल बिहार में राज्यसभा की 5 सीटें खाली हो रही हैं. मौजूदा समीकरण के मुताबिक, एनडीए को तीन जबकि आरजेडी के नेतृत्व वाले महागठबंधन को दो सीटें हासिल हो सकती हैं. आरजेडी इन दोनों ही सीटों पर अपने उम्मीदवारों को उतारना चाहती है, लड़ाई इसी बात को लेकर है. कांग्रेस अपनी सहयोगी आरजेडी से दो में से एक सीट की मांग कर रही है. कांग्रेस की तरफ से 2019 के लोकसभा चुनाव में आरजेडी की तरफ से दिए गए उस वचन की याद दिलाई जा रही है, जिसमें राज्यसभा चुनाव के वक्त कांग्रेस को एक सीट देने की बात कही गई थी.

RJD का तर्क



कांग्रेस की इस मांग पर आरजेडी की तरफ से उस वक्त के संदर्भ का हवाला दिया जा रहा है. न्यूज 18 से बात करते हुए आरजेडी के राज्यसभा सांसद और मुख्य प्रवक्ता मनोज झा कहते हैं कि उस वक्त का संदर्भ दूसरा था, उस वक्त आरजेडी को 24-25 सीटों पर चुनाव लड़ना था, लेकिन अब संदर्भ बदल गया है. आरजेडी ने शक्ति सिंह गोहिल के पत्र पर भी आपत्ति जताई है. मनोज झा ने कहा कि बंद जेहन से खुले खत नहीं लिखे जाते. हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू यादव और कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी के पुराने संबंध रहे हैं, उसका ख्याल तो रखना चाहिए था.



क्यों दोनों सांसद अपनी पार्टी से चाहती है RJD?
दरअसल, आरजेडी की तरफ से एक और तर्क दिया जा रहा है. पार्टी की तरफ से फिलहाल राज्यसभा में 4 सीटें हैं जिनमें झारखंड से प्रेम चंद गुप्ता की सीट खाली हो रही है. लिहाजा पार्टी के केवल 3 सांसद ही राज्यसभा में रह जाएंगे. नियम के मुताबिक, राज्यसभा में 5 से कम सांसद रहने पर आरजेडी को अन्य की कैटेगरी में रखा जाएगा. लेकिन, अगर बिहार से आने वाली 2 सीटों पर अगर आरजेडी के सांसद चुने जाते हैं तो राज्यसभा में पार्टी के पांच सांसद हो जाएंगे. लिहाजा, पार्टी को अन्य की कैटेगरी में नहीं रखते हुए आरजेडी पार्टी के नाम से जाना जाएगा.
लेकिन, आरजेडी का यह तर्क महागठबंधन के दूसरे सहयोगियों को रास नहीं आ रहा है.

पप्पू यादव ने ली चुटकी
कांग्रेस के बाद आरएलएसपी की तरफ से भी आरजेडी को पुराने वादे की याद दिलाई जा रही है. आरएलएसपी के प्रधान महासचिव माधव आनंद ने कहा कि आरजेडी को अपना वचन निभाते हुए कांग्रेस को राज्यसभा की एक सीट दे देनी चाहिए. जाप अध्यक्ष पप्पू यादव ने भी आरजेडी पर हमला बोलते हुए कहा कि यह तो आरजेडी के चरित्र में ही है कि जरूरत पड़ने पर पैर पकड़ लेंगे और जरूरत खत्म होने पर गले मरोड़ देंगे.

महागठबंधन में बढ़ती जा रही रार
महागठबंधन की इस पूरी लड़ाई में जेडीयू चुटकी ले रही है. जेडीयू के प्रधान महासचिव के सी त्यागी ने कहा, यह महागठबंधन नहीं लठबंधन बन गया है. महागठंधन के भीतर असल लड़ाई बिहार विधानसभा चुनाव के पहले अपनी स्थिति मजबूत करने को लेकर है. आरजेडी ने पहले ही बिना किसी से रायशुमारी किए तेजस्वी यादव को मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर पेश कर दिया है. जबकि, कांग्रेस, हम, वीआईपी और आरएलएसपी इस मुद्दे पर समन्वय समिति बनाने की लगातार मांग कर रहे हैं. कांग्रेस के साथ इन तीनों दलों के प्रमुखों जीतनराम मांझी, मुकेश सहनी और उपेंद्र कुशवाहा की मुलाकात हो चुकी है.

तेज हुई हलचल
आरजेडी के अलावा बाकी सभी दलों के नेता एक बार फिर दिल्ली में होली के बाद मिलने वाले हैं, जिनमें आगे की रणनीति पर चर्चा होगी. ऐसे में आरजेडी की तरफ से राज्यसभा चुनाव में भी कांग्रेस को लाल झंडी दिखाए जाने के बाद महागठबंधन के भीतर हलचल बढ़ सकती है. कांग्रेस बाकी दलों के साथ मिलकर आगे अलग रणनीति पर भी विचार कर सकती है.

ये भी पढ़ें -
तीन सीटों के लिए पांच दावेदार, सवर्णों को लेकर टेंशन में है बिहार बीजेपी
राज्यसभा का रण: RJD सांसद मनोज झा बोले-हम कांग्रेस के लिए एक सीट नहीं छोड़ेंगे
First published: March 9, 2020, 5:07 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading