CM नीतीश का ऐलान- हर सरकारी भवन पर लगाए जाएंगे सोलर प्लांट

मुख्यमंत्री ने कहा कि सौर ऊर्जा लोग पहले नकली बिजली कहते थे, लेकिन लोगों को मालूम नहीं है कि सौर ऊर्जा अक्षय ऊर्जा है. यही असली बिजली है. जो ग्रिड से बिजली आती है वह कोयले की बिजली है. कोयले की सीमा है और यह एक दिन खत्म हो जाएगा.

News18 Bihar
Updated: August 9, 2019, 3:31 PM IST
CM नीतीश का ऐलान- हर सरकारी भवन पर लगाए जाएंगे सोलर प्लांट
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पृथ्वी दिवस के मौके पर जल-जीवन-हरियाली जागरूकता अभियान की शुरुआत की. (फाइल फोटो)
News18 Bihar
Updated: August 9, 2019, 3:31 PM IST
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पटना के बापू सभागार में जल-जीवन हरियाली-अभियान के तहत जन जागरूकता अभियान कार्यक्रम की शुरुआत की. हालांकि, इस अभियान की विधिवत शुरुआत 15 अगस्त से होगी, लेकिन  इससे पहले जागरूकता अभियान की शुरुआत की गई. पृथ्वी दिवस पर आयोजित इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम ने कहा कि जलवायु परिवर्तन पर जन जागृति की जरूरत है. लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता है. इसके लिए पूरे बिहार में अभियान चलाना होगा. उन्होंने सोलर प्लांट लगाने पर दिया जोर दिया और कहा कि सभी सरकारी भवनों पर सोलर प्लांट लगाये जाएंगे.

'कोयला एक दिन खत्म हो जाएगा'
मुख्यमंत्री ने कहा कि सौर ऊर्जा लोग पहले नकली बिजली कहते थे, लेकिन लोगों को मालूम नहीं है कि सौर्य ऊर्जा अक्षय ऊर्जा है. यही असली बिजली है. जो ग्रिड से बिजली आती है वो कोयले की बिजली है. कोयले की सीमा है और यह एक दिन खत्म हो जाएगा.

'पूरे बिहार में अभियान चलाएंगे'

मुख्यमंत्री ने कहा कि जल, जीवन व हरियाली होगी तभी खुशहाली होगी. इसके लिए हम लोगों को प्रेरित करेंगे. उन्होंने कहा कि वर्षा अनुपात में कमी आयी है और यही जलवायु परिवर्तन है. कुएं के इस्तेमाल न करने से जलस्तर में गिरावट आयी है. हम पूरे बिहार में एक अभियान चलाएंगे.

'बादल थमने का नाम नहीं ले रहे'
उन्होंने कहा कि पहले 145 जून को वर्षा ऋतु की शुरुआत होती थी, लेकिनअब हो बिगड़ गया है. पहले वर्षापात 11 सौ से 15 सौ मिली के बीच मे होती थी. पिछले वर्ष 772 मिली ही बारिश हुई थी. हमलोगों ने 242 प्रखंड को सुखा घोषित किया था. कल से बादल आ रहा है लेकिन थम नहीं रहा है.
Loading...

'लोगों को सचेत रहने की जरूरत'
सीएम ने कहा कि ग्लेशियर कम होते जा रहे हैं. रेगिस्तान बढ़ता जा रहा है. ऐसा क्यों हो रहा है इसका परिणाम क्या होगा. वृक्ष में ही शक्ति है. अब लोगों को सचेत होना पड़ेगा. अब वज्रपात भी अधिक हो रहा है . यह सब बिगड़ते पर्यावरण की वजह से हो रहा है. लू को ही देख लीजिए. ये पर्यावरण के असन्तुलन की वजह से हो रहा है.

'पोखर-तालाब पर कब्जा करने वालों की खैर नहीं'
उन्होंने लोगों से पूछा कि कभी आपने सोचा है कि मिथिला में जल स्तर नीचे जाएगा. ये भयावह स्थिति है.  इसके लिए अभियान ही नहीं ठोस कार्ययोजना बनाई जा रही है. एक-एक गांव में पोखर और तालाब की ठीक तरीके से खुदाई कराएंगे. पोखर तालाब पर यदि कोई कब्जा कर लिया है, अब उनकी खैर नहीं. सबको कब्जा मुक्त करेंगे.

'सरकारी भवनों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग'
मुख्यमंत्री ने कहा कि आहर पइन को फिर से शुरू कराएंगे. कुंआ और चापाकल को फिर से दुरुस्त कराएंगे. पहाड़ी इलाकों में हरियाली कराएंगे. राजगीर की पहाड़ी हरी हो रही है. कुआं और कल को बेहतर करके हर जगह सोख्ता लगाएंगे. वर्षा के पानी को भूगर्भ में ले जाएंगे. रेन वाटर हार्वेस्टिंग कराएंगे और इसकी शुरुआत सरकारी भवनों से करेंगे. निजी घरों पर भी लोग करें.

इनपुट- बृजम पांडे

ये भी पढ़ें-

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 9, 2019, 2:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...