लाइव टीवी
Elec-widget

'NRC पर अभी फैसला नहीं', RJD बोली- 'धुंध की चादर में सरीखे गुनाह होना चाहते हैं'

News18 Bihar
Updated: November 28, 2019, 12:00 PM IST
'NRC पर अभी फैसला नहीं', RJD बोली- 'धुंध की चादर में सरीखे गुनाह होना चाहते हैं'
एनआरसी पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा अभी तय नहीं है पार्टी का स्टैंड. (फाइल फोटो)

बीजेपी नेता गोपाल नारायण सिंह ने कहा कि नीतीश सरकार के अल्पसंख्यक मंत्री को विरोध नहीं है तो सरकार को भी विरोध नहीं होना चाहिए. अगर इस मसले पर सीएम भी विचार कर रहे हैं तो मतलब सोच में परिवर्तन आया है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: November 28, 2019, 12:00 PM IST
  • Share this:
पटना. केंद्रीय गृह मंत्री के इस बयान के बाद कि नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन (NRC) पूरे देश में लागू किया जाएगा, पर बिहार (Bihar) में भी सियासत गरमाई हुई है. सबकी नजरें इस बात पर टिकी हुई हैं कि इस मुद्दे पर जेडीयू (JDU) क्या स्टैंड लेता है. हालांकि बुधवार को पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने साफ किया कि अभी वो अपनी पार्टी में इस पर रायशुमारी कर रहे हैं. खासकर पार्टी की नॉर्थ ईस्ट इकाई (North-East Unit) से से बातचीत अभी की जानी है इसलिए अभी तक पार्टी ने एनआरसी (NRC) पर फैसला नहीं किया है. बता दें कि विपक्ष की ओर से लगातार नीतीश कुमार (Nitish Kumar) से अपना स्टैंड साफ करने की मांग की जा रही है. अब सीएम के ताजा बयान को लेकर एक बार फिर विपक्ष ने सीएम नीतीश को घेरा है.

एनआरसी पर जेडीयू के स्टैंड पर आरजेडी सांसद मनोज झा ने कहा कि लगता है कि नीतीश कुमार किसी दबाव की वजह से ऐसा बयान दे रहे हैं. अपनी असफलताओं को छिपाने के लिए एनआरसी नाम की धुंध की चादर लेकर चले हैं. उन्होंने कहा कि अगर जेडीयू के रुख में होता है परिवर्तन तो फिर यह बात सिद्ध होगी, कुछ तो है जिस पर पर्दादारी हो रही है. मनोज झा ने शायराना अंदाज में कहा कि अगर मुख्यमंत्री (नीतीश कुमार) उस धुंध की चादर में सरीखे गुनाह होना चाहते हैं तो मुबारक हो उन्हें. पहले भी नीतीश ने कहा कुछ, किया कुछ.

वहीं, आरजेडी नेता भाई वीरेंद्र ने भी कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि नीतीश कुमार बीजेपी की गोद में बैठे हुए हैं इसलिए NRC पर बोलने से डर रहे हैं. NRC पर विरोध कर बिल लाएं तो विपक्ष भी सदन में एकजुट होकर साथ देगा. उन्होंने कहा कि नीतीश कुमार को कुर्सी प्यारी है इसलिए चुप्पी साधे हुए हैं.

इस बीच बीजेपी नेता गोपालनारायण सिंह ने कहा कि हमलोग पहले से एनआरसी की मांग करते रहे हैं. बिहार का सेंटिमेंट घुसपैठियों के विरोध में है क्योंकि बांग्लादेशियों के चलते परेशानी है. कई इलाकों में अल्पसंख्यक ्अब बहुसंख्यक हो गए हैं. लोगों का जीना दूभर हो गया है. अब निर्णय सीएम नीतीश कुमार को लेना है क्योंकि सरकार उनके साथ मिलकर चल रही है.

उन्होंने बिहार सरकार के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री खुर्शीद आलम के बयान का हवाला देते हुए कहा कि  जब नीतीश सरकार के अल्पसंख्यक मंत्री को विरोध नहीं है तो सरकार को भी विरोध नहीं होना चाहिए. अगर इस मसले पर सीएम भी विचार कर रहे हैं तो मतलब सोच में परिवर्तन आया है.

इनपुट- रवि एस नारायण

ये भी पढ़ें
Loading...


 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 28, 2019, 12:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...