बिहार के मरीजों को नयी सौगात देंगे CM नीतीश, 134 करोड़ के अस्पताल का करेंगे शिलान्यास
Patna News in Hindi

बिहार के मरीजों को नयी सौगात देंगे CM नीतीश, 134 करोड़ के अस्पताल का करेंगे शिलान्यास
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (फाइल फोटो)

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे (Mangal Pandey) ने बताया कि इसमें आधुनिकतम सभी सुविधाएं भी उपलब्ध रहेंगी.

  • Share this:
पटना. इंदिरा गांधी हृदय रोग संस्थान (IGIC) का नया भवन बनकर तैयार हो चुका है और कोरोना काल मे ही सीएम नीतीश कुमार ( CM Nitish Kumar) बिहार के मरीजों को बड़ी सौगात देनेवाले हैं. अस्पताल के नए भवन का आज शाम 4 बजे उद्घाटन होना है जिसको लेकर सभी तैयारियां पूरी कर ली गयी हैं. सीएम नीतीश संवाद कक्ष से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये इसका उद्घाटन करेंगे. लगभग 60 करोड़ की लागत से बने नवनिर्मित भवन का निरीक्षण करने पहुंचे स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे (Mangal Pandey) ने बताया कि इंदिरा गांधी हृदय रोग संस्थान में इस नये भवन में 20 करोड़ के फर्नीचर और 53 करोड़ के अत्याधुनिक उपकरण लगाये जाएंगे और स्वास्थ्य विभाग इस संस्थान पर लगभग 134 करोड़ रुपये खर्च कर रही है.

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे (Mangal Pandey) ने बताया कि इसमें आधुनिकतम सभी सुविधाएं भी उपलब्ध रहेंगी. हालांकि अभी संस्थान में कुछ ही विशेषज्ञ चिकित्सकों की नियुक्ति की गयी है और एक माह में नियुक्ति प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी. मंत्री ने नवनिर्मित भवन में बाहरी मरीजों को तुरंत देखने की व्यवस्था करने का निर्देश भी दिया. निरीक्षण के दौरान हृदय रोग संस्थान में छह बेडों के स्टेप डाउन इंटेंसिव केयर यूनिट का भी स्वास्थ्य मंत्री ने उद्घाटन किया.

बता दें कि पहले यहां इस तरह के दो बेड की सुविधा उपलब्ध थी. शल्य चिकित्सा के बाद मरीजों को तत्काल इस आईसीयू की  आवश्यकता होती है  और इसकी शुरुआत होने से मरीजों को अत्याधुनिक सुविधा का लाभ मिलेगा और उन्हें बड़ी राहत मिलेगी. अस्पताल के डिप्टी डायरेक्टर डॉ एके झा ने भी खुशी जाहिर करते हुए कहा कि आईजीआईसी पर हाल के वर्षों में काफी दबाव बढ़ गया है क्योंकि यहां बायपास सर्जरी से लेकर चेकअप तक करवाने वाले राज्यभर के मरीजों की भीड़ जुटती है.



IGIMS का निरीक्षण करते हुए स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय.

उन्होंने कहा कि हाल के दिनों में अनियमित खान पान,बदलती जीवनशैली की वजह से हार्ट अटैक के केसेज बढ़ गए हैं ऐसे में अब 235 बेड के अतिरिक्त नए अस्पताल भवन बन जाने से न सिर्फ मरीजों को अत्याधुनिक सुविधाएं मिलेंगी बल्कि भर्ती करने में अस्पताल प्रशासन को भी परेशानी नहीं होगी. डिप्टी डायरेक्टर ने कहा कि कोरोना काल में इस भवन को तैयार करवाना सरकार और एजेंसी के लिए किसी चुनौती से कम नहीं था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज