लॉ एंड ऑर्डर पर घिरे CM नीतीश, 20 दिन में दूसरी बार बुलाई बड़ी बैठक
Patna News in Hindi

लॉ एंड ऑर्डर पर घिरे CM नीतीश, 20 दिन में दूसरी बार बुलाई बड़ी बैठक
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

राज्य में हाल में हुई हत्याओं और कैश लूट की कई बड़ी वारदातों ने कानून-व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं. बीते एक हफ्ते में राज्य भर में 80 से अधिक हत्याएं और लूट की बड़ी वारदातें हो चुकी हैं

  • Share this:
बिहार में लगातार बढ़ रहे अपराध के ग्राफ और बिगड़ती जा रही कानून-व्यवस्था को लेकर नीतीश

सरकार कठघरे में हैं. इस मसले पर महज 20 दिन में ही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार दूसरी बार बड़ी बैठक करने जा रहे हैं. पटना में संवाद कक्ष में होने जा रही इस मीटिंग में मुख्य सचिव और डीजीपी के अलावा पुलिस विभाग के आला अधिकारी मौजूद रहेंगे.


मर्डर और लूट की घटनाओं में बेतहाशा बढ़ोतरी

बता दें कि प्रदेश में हाल ही हुई हत्याओं और कैश लूट की कई बड़ी वारदातों ने कानून-व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं. बीते एक हफ्ते में राज्य भर में 80 से अधिक हत्याएं और लूट की बड़ी वारदातें हो चुकी हैं.


20 दिन के भीतर दूसरी बड़ी बैठक



बीते 7 जून को सीएम नीतीश कुमार ने कानून-व्यवस्था के मुद्दे पर आला अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की थी. इसमें गृह सचिव आमिर सबहानी और डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे के अतिरिक्त राज्य स्तर के कई आला अधिकारी भी मौजूद रहे थे. लगभग तीन घंटे तक चली इस मीटिंग में मुख्यमंत्री ने इससे जुड़े कई आदेश दिए थे.


IG-DIG को फील्ड में रहने के दिए थे आदेश

सीएम नीतीश ने आदेश दिया था कि राज्य के सभी IG और DIG अब महीने में 10 दिन फील्ड में रहा करेंगे. अनुमंडलों में जाकर खुद जांच करेंगे और वहीं रात्रि विश्राम भी करेंगे. डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे ने बताया कि जांच में जो भी पुलिस पदाधिकारी गलत पाए जाएंगे उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी.

DG टीम को इन्सपेक्शन के दिए थे आदेश
इस बैठक में मुजफ्फरपुर, वैशाली और पटना को सबसे सेंसिटिव जिला बताया गया था जहां अपराध की घटनाएं सबसे अधिक होती हैं. इसके तहत बैठक के अगले दिन यानी 8 जून से राजधानी पटना के 9 अनुमंडलों में डीजी की टीम को इंस्पेक्शन करने के आदेश दिए गए थे.

SP-DSP को गश्ती अवलोकन का दिया था आदेश
उस बैठक के बाद गृह सचिव आमिर सुबहानी ने बताया था कि सीएम नीतीश कुमार के आदेशों के अनुसार अब DIG हफ्ते में 3 दिन, SP हफ्ते में 4 दिन, DYSP हफ्ते में 5 दिन गश्ती का अवलोकन करेंगे. क्षेत्रों में पुलिस टीम की गश्त (पेट्रोलिंग) बढ़ाई जाएगी और पुलिस कप्तान खुद इसकी मॉनीटरिंग करेंगे.

(इनपुट- आनंद अमृतराज)

ये भी पढ़ें-
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज