Home /News /bihar /

बड़ी खबर : CM नीतीश कुमार फिर शुरू करेंगे 'जनता दरबार', लोगों से सीधे लेंगे फीडबैक

बड़ी खबर : CM नीतीश कुमार फिर शुरू करेंगे 'जनता दरबार', लोगों से सीधे लेंगे फीडबैक

बिहार विधानसभा चुनाव में जेडीयू के खराब प्रदर्शन के बाद नीतीश कुमार को लेकर अटकलों का बाजार गर्म था. (फाइल फोटो)

बिहार विधानसभा चुनाव में जेडीयू के खराब प्रदर्शन के बाद नीतीश कुमार को लेकर अटकलों का बाजार गर्म था. (फाइल फोटो)

बिहार (Bihar) के मुख्‍यमंत्री के तौर पर सातवीं बार शपथ लेने वाले नीतीश कुमार (Nitish Kumar) फिर से 'जनता दरबार' शुरू करने जा रहे हैं. इसके माध्‍यम से वह लोगों से सीधे विकास कार्यों की फीडबैक लेंगे.

पटना. बिहार की राजनीति में एक नया इतिहास रचते हुए नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने दो दशक में सातवीं बार प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ग्रहण की है. सोमवार को राजभवन में आयोजित समारोह में राज्यपाल फागू चौहान ने नीतीश कुमार को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई. इस दौरान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा (JP Nadda) जैसे राजग के शीर्ष नेता मौजूद थे. यही नहीं, इस बार नीतीश के अलावा 14 अन्‍य लोगों ने मंत्री पद की शपथ ली है, जिसमें भाजपा विधानमंडल दल के नेता तारकिशोर प्रसाद (Tarkishore Prasad) और उपनेता रेणु देवी के अलावा विजय कुमार चौधरी, अशोक चौधरी, मंगल पांडे आदि शामिल हैं. इस बार भाजपा से सात, जेडीयू से पांच, हम और वीआईपी से एक-एक मंत्री बना है. सूत्रों के मुताबिक, एक बार फिर बिहार के मुख्‍यमंत्री बनने के बाद नीतीश कुमार जनता दरबार शुरू करेंगे. इसके माध्‍यम से वह जनता से विकास कार्यों की फीडबैक लेंगे.

2005 में शुरू किया था जनता दरबार
आपको बता दें कि नीतीश कुमार ने 2005 में जनता दरबार की शुरुआत की थी, जो कि खूब चर्चा में रहा था. यही महीने के हर सोमवार को पटना में आयोजित किया जाता था और इसमें बिहार के सभी जिलों के लोग पहुंचते थे. जनता के दरबार में मुख्यमंत्री के साथ मंत्री और सचिव दोनों रहते थे. इस जनता दरबार के सहारे नीतीश कुमार को पूरे राज्‍य के विकास के बारे में जानकारी मिलती रहती थी, लेकिन इसे 2016 में बंद कर दिया गया. हालांकि फिर से जनता दरबार शुरू करने की खबर ने लोगों में दिलचस्‍पी पैदा कर दी है. वहीं, नीतीश कुमार भी अपनी इस कवायद से राज्‍य के सभी जिलों के लोगों से संवाद कर सकेंगे. वैसे भी जेडीयू को इस बार 43 सीटों पर जीत मिली है, जो कि उसका खराब प्रदर्शन है. जबकि भाजपा ने 74 पर बाजी मारी है. वहीं, एनडीए के अन्‍य साथी हम और वीआईपी ने चार-चार सीट जीतने में कामयाबी हासिल की है.



नीतीश ने बनाया रिकॉर्ड
नीतीश कुमार राज्य के मुख्यमंत्री पद पर सर्वाधिक लंबे समय तक रहने वाले श्रीकृष्ण सिंह के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ने की ओर बढ़ रहे हैं जिन्होंने आजादी से पहले से लेकर 1961 में अपने निधन तक इस पद पर अपनी सेवाएं दी थीं. कुमार ने सबसे पहले 2000 में प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी लेकिन बहुमत नहीं जुटा पाने के कारण उनकी सरकार सप्ताह भर चली और उन्हें केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में मंत्री के रूप में वापसी करनी पड़ी थी. पांच साल बाद वह जेडीयू-भाजपा गठबंधन की शानदार जीत के साथ सत्ता में लौटे और 2010 में गठबंधन के भारी जीत दर्ज करने के बाद मुख्यमंत्री का सेहरा एक बार फिर से नीतीश कुमार के सिर पर बांधा गया. इसके बाद मई 2014 में लोकसभा चुनाव में जेडीयू की पराजय की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए उन्होंने मुख्यमंत्री पद से त्यागपत्र दे दिया, लेकिन जीतन राम मांझी के बगावती तेवरों के कारण उन्हें फरवरी 2015 में फिर से कमान संभालनी पड़ी थी.

Tags: Bihar Assembly Election, Bihar Assembly Election Results 2020, Bjp jdu, CM Nitish Kumar

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर