होम /न्यूज /बिहार /

CM नीतीश के मंत्रिमंडल में शामिल होने पर CPI बोली- 'सम्मानजनक' हिस्सेदारी मिले

CM नीतीश के मंत्रिमंडल में शामिल होने पर CPI बोली- 'सम्मानजनक' हिस्सेदारी मिले

नीतीश सरकार मंत्रिमंडल का विस्तार मंगलवार 16 अगस्त को होने की संभावना है (फाइल फोटो)

नीतीश सरकार मंत्रिमंडल का विस्तार मंगलवार 16 अगस्त को होने की संभावना है (फाइल फोटो)

Bihar News: भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के वरिष्ठ नेता अतुल कुमार अंजान ने रविवार को कहा कि महागठबंधन सरकार के सहयोगियों के साथ हमारी बातचीत चल रही है. सीपीआई को सम्मानजनक प्रतिनिधित्व दिए जाने पर हम नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल का हिस्सा बनना चाहेंगे. उन्होंने कहा कि सीपीआई देश की सबसे बड़ी वामपंथी पार्टी है, इसलिए, हमें महागठबंधन सरकार के मंत्रिमंडल में सम्मानजनक प्रतिनिधित्व दिया जाना चाहिए

अधिक पढ़ें ...

पटना. बिहार में सत्ता परिवर्तन के बाद बनी महागठबंधन सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार (Mahagathbandhan Government) को लेकर महामंथन का दौर जारी है. इस सरकार को बाहर से समर्थन देने के अन्य वाम दलों के फैसले से इतर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीआई) ने कहा कि पार्टी को ‘सम्मानजनक प्रतिनिधित्व’ मिलने पर ही भाकपा नीतीश कुमार (Nitish Kumar) के मंत्रिमंडल में शामिल होना चाहेगी. रविवार को पार्टी के वरिष्ठ नेता अतुल कुमार अंजान (Atul Kumar Anjan) ने कहा कि उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने हाल में दिल्ली में पार्टी (सीपीआई) के राष्ट्रीय महासचिव डी. राजा से मुलाकात की थी, और बिहार में महागठबंधन सरकार की प्राथमिकताओं के बारे में चर्चा की थी.

अंजान ने कहा कि महागठबंधन सरकार के सहयोगियों के साथ हमारी बातचीत चल रही है. सीपीआई को सम्मानजनक प्रतिनिधित्व दिए जाने पर हम नीतीश कुमार के मंत्रिमंडल का हिस्सा बनना चाहेंगे. उन्होंने कहा कि सीपीआई देश की सबसे बड़ी वामपंथी पार्टी है, इसलिए, हमें महागठबंधन सरकार के मंत्रिमंडल में सम्मानजनक प्रतिनिधित्व दिया जाना चाहिए. केंद्र की तत्कालीन एच.डी देवगौड़ा और इंद्र कुमार गुजराल सरकार में हमारे दिवंगत नेता इंद्रजीत गुप्ता वर्ष 1996 से 1998 तक केंद्रीय गृह मंत्री रहे थे.

हालांकि, अतुल अंजान ने इस बारे में विस्तार से नहीं बताया कि वो ‘सम्मानजक प्रतिनिधित्व’ क्या होगा, जिसकी मांग उनकी पार्टी ने महागठबंधन सरकार में शामिल होने के लिए की है.

बिहार विधानसभा में सीपीआई के दो सदस्य हैं और राज्य विधान परिषद में भी पार्टी के इतने ही सदस्य हैं.

बता दें कि, शनिवार को सीपीआई (एमएल) ने यह फैसला लिया था कि वो महागठबंधन सरकार में शामिल नहीं होगी. पार्टी के द्वारा सरकार को बाहर से समर्थन देने पर सहमति बनी है जिसके बाद उसने मंत्रिमंडल में शामिल नहीं होने का ऐलान किया. पार्टी के महासचिव कामरेड दीपांकर भट्टाचार्य ने बताया कि बिहार की सत्ता से बीजेपी को दूर करने और महागठबंधन की सरकार बनाने के लिए नीतीश कुमार को हम बधाई देते हैं.

Tags: Bihar News in hindi, Bihar politics, Cabinet expansion, Communist Party, Mahagathbandhan

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर