लाइव टीवी

ये कैसा घालमेल? जो कंपनी 10 वर्षों में भी DPR तैयार नहीं कर सकी उसे फिर दी गई जिम्मेदारी

News18 Bihar
Updated: October 12, 2019, 1:56 PM IST
ये कैसा घालमेल? जो कंपनी 10 वर्षों में भी DPR तैयार नहीं कर सकी उसे फिर दी गई जिम्मेदारी
झारखंड में जिस मैनहर्ट कंपनी को ब्लैक लिस्टेड किया गया है उसे ही पटना में DPR की जिम्मेदारी दी गई है.

मैनहर्ट प्राइवेट लिमिटेड कंपनी पड़ोसी राज्य झारखंड में ब्लैक लिस्टेड है. न्यूज 18 ने जब ये बात नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा को बताई तो उन्होंने जांच कर कार्रवाई का भरोसा दिया.

  • Share this:
पटना. बीते 27 से 29 सितंबर के बीच बिहार (Bihar) की राजधानी पटना (Patna) में ऐसी जोरदार बारिश (Rain) हुई कि उसने सरकार के दावे और प्रशासन (Adminstration) के इंतजामों की पोल खोल कर रख दी. राजधानी के ज्यादातर इलाके भारी जलजमाव (Water Logging) में घिर गए और जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया. ऐसा क्यों हुआ अब इसके कारण तलाशे जा रहे हैं. इसके साथ ही इस कुव्यवस्था के अंदर की कहानी भी खुलने लगी है. इसी क्रम में नगर विकास विभाग (Urban Development Department) से संबंधित एक सनसनीखेज खुलासा हुआ है. दरअसल जो कंपनी पिछले 10 वर्षों में भी पटना का डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट यानी (DPR) तैयार नहीं कर सकी, उसे फिर से जिम्मेदारी दे दी गई है. 25 अगस्त, 2019 को जारी एक आदेश के तहत ये जिम्मेदारी दी गई है.

10 वर्षों में भी नहीं तैयार कर सकी DPR
बता दें कि पटना को जलजमाव से कैसे मुक्ति मिले इसको लेकर वर्ष 2009 में सिंगापुर की कंपनी मैनहर्ट प्राइवेट लिमिटेड को DPR तैयार करने का जिम्मा सौंपा गया था. इस काम को तीन वर्ष में पूरा किया जाना था, लेकिन वो अब तक पूरा नहीं हो पाया है.

BUDCO भी तैयार नहीं कर सका DPR

कहानी सिर्फ यहीं खत्म नहीं होती. वर्ष 2012 में कांट्रेक्ट (अनुबंध) खत्म होने के बाद भी जब DPR तैयार नहीं हुआ तो कंपनी को एक साल का एक्सटेंशन दे दिया गया. 2012 के बाद यह मामला बुडको (BUDCO) को ट्रांसफर हुआ और हाल तक बुडको ही इसकी मॉनिटरिंग कर रहा था. बावजूद इसके DPR तैयार नहीं हुआ.

मैनहर्ट कंपनी को फिर से डीपीआर तैयार करने की जिम्मेदारी दी गई


अधूरी रिपोर्ट सौंपी गई
Loading...

वहीं, विभाग की तरफ से जब कंपनी पर दबाव बनाया गया तो जैसे-तैसे रिपोर्ट बनाकर सौंप दी गई. खास बात है कि ये रिपोर्ट भी अधूरी थी क्योंकि इसमें पूरा पटना नहीं बल्कि राजधानी के कुछ इलाके ही शामिल किए गए थे. जाहिर है इसको लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं.

हाईकोर्ट ने डेटा के उपयोग पर रोक लगाई थी
हालांकि नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा से जब इस मामले पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने अपना पल्ला झाड़ लिया. बहरहाल सवाल खड़ा होता है कि जब हाईकोर्ट ने 2015 में इसके डेटा को उपयोग में लाने से मना किया था तो भी डाटा उपयोग कैसे किया गया. सवाल सिर्फ इतना भर नहीं है. एकरारनामे के अनुसार समय पर काम पूरा नहीं होने पर साढ़े सात प्रतिशत की दर से जुर्माना की भी बात थी, पर आज तक जुर्माना भी नहीं वसूला गया.

कंपनी पर पेनल्टी भी चार्ज किया जा चुका है.


पहले भी की जा चुकी है शिकायत
ऐसा नही है कि नगर विकास विभाग के इस कारनामे की बड़े अधिकारियों को पता नहीं. वार्ड के पार्षद से लेकर जनप्रतिनिधियों ने कई बार सवाल उठाए लेकिन उसपर कोई सुनवाई नहीं हुई. वार्ड नंबर 57 के तत्कालीन पार्षद रामनाथ चौधरी ने बुडको के तत्कालीन प्रबंध निदेशक को खत लिखकर सारी बात बताई थी. हद तो तब हो गई जब इस कंपनी को फिर से एसटीपी को मॉनिटरिंग करने का जिम्मा दे दिया गया.

कई बार इस कंपनी की नाकामी की शिकायत भी की जा चुकी है.


पटना में नहीं है कोई कार्यालय और कर्मी
नगर विकास विभाग और बुडको के कारनामे यहीं खत्म नहीं होते. मिली जानकारी के अनुसार मैनहट कंपनी का पटना में फिलहाल न तो कोई कार्यालय है और न ही इसमें काम करने वाला कोई व्यक्ति पटना में बैठता है. हालांकि कुछ वर्ष पहले दो-तीन साल के लिए कार्यालय किराया पर लिया गया था. पर आज के दिन इसका कोई भी कार्यालय पटना में मौजूद नहीं है.

झारखंड में काली सूची में है कंपनी
एक और चौंकाने वाली जानकारी ये सामने आई कि मैनहर्ट प्राइवेट लिमिटेड कंपनी पड़ोसी राज्य झारखंड में ब्लैक लिस्टेड है. न्यूज़ 18 ने जब ये बात नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा को बताई तो उन्होंने जांच कर कार्रवाई का भरोसा दिया.

झारखंड सरकार ने मैनहर्ट कंपनी को ब्लैक लिस्टेड कर रखा है.


बहरहाल नगर विकास विभाग और निगम के कारनामों की परतें खुलने की यह शुरुआत भर है. अगर विभाग नगर निगम और अधिकारियों के कारनामों की जांच पारदर्शिता के साथ करें तो न जाने और कितनी लापरवाहियों और घोटालों पर से पर्दे उतरेंगे.

ये भी पढ़ें- 

हत्या और गोली मारने की वारदातों से दहला बेगूसराय, कानून-व्यवस्था पर उठे सवाल

कॉपलिंग जोड़ने के दौरान ट्रेन में करंट आने से रेलकर्मी की मौत,जांच करेगी रेलवे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 12, 2019, 1:24 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...