...तो कांग्रेस के संपर्क में हैं चिराग पासवान! जानें क्या है RJD का दावा
Patna News in Hindi

...तो कांग्रेस के संपर्क में हैं चिराग पासवान! जानें क्या है RJD का दावा
सीएम नीतीश कुमार और चिराग पासवान के बीच तल्खी की खबरें.

आरजेडी ने भी चिराग का स्वागत करते हुए कहा है कि चिराग पासवान का मोह भंग हो रहा है. नीतीश से नाराजगी जगजाहिर है ऐसे में गठबन्धन में आते हैं तो स्वागत होगा.

  • Share this:
पटना. लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पासवान  (Chirag Paswan) की जेडीयू से चल रही कथित नाराजगी के बाद बिहार की सियासत गरमा गई है. कांग्रेस नेताओं के चिराग से समपर्क होने की बात के बाद चर्चाओं का बाजार गर्म है. दरअसल हाल में बिहार एनडीए के मद्देनजर जिस तरह से घटनाक्रम आगे बढ़ी हैं उससे तो यही लगता है कि LJP) अध्यक्ष के तेवर तल्ख हैं. बुधवार को जिस तरह से एनडीए (NDA) को अटूट बताने वाले मुंगेर जिलाध्यक्ष राघवेंद्र भारती को उन्होंने अनुशासनहीनता का आरोप लगाते हुए कुर्सी से बेदखल कर दिया, इससे भी ये लग रहा है कि एनडीए के भीतर सबकुछ सामान्य तो नहीं है. बता दें कि हाल में ही चिराग ने ये कहकर सबको चौंका दिया था कि गठबंधन का स्वरूप बदल रहा है. जाहिर है सवाल उठ रहा है कि क्या चिराग पासवान एनडीए छोड़ भी सकते हैं?

कांग्रेस के संपर्क में हैं चिराग
इस मामले में अब कांग्रेस नेता प्रेमचंद्र मिश्रा ने खुलकर कहा है कि चिराग पासवान और राम बिलास पासवान कांग्रेस के नजदीक रहे हैं. पासवान कांग्रेस सरकार में मंत्री भी रहे और आरजेडी ने अपने कोटे से सांसद भी बनाया.आने वाले दिनों में चौंकाने वालय तस्वीर दिख सकती है. वहीं बीजेपी ने कांग्रेस के दावे को ख्याली पुलाव बताया है. बीजेपी प्रवक्ता निखिल आनंद ने कहा कि कांग्रेस कि अपनी कोई साख नहीं. आरजेडी के जनाधार पर पार्टी चल रही है ऐसे में उनका दावा ख्याली पुलाव से ज्यादा कुछ भी नहीं.

आरजेडी ने कहा- स्वागत होगा
दूसरी तरफ आरजेडी ने भी चिराग का स्वागत करते हुए कहा है कि चिराग पासवान का मोह भंग हो रहा है. नीतीश से नाराजगी जगजाहिर है ऐसे में गठबन्धन में आते हैं तो स्वागत होगा. बता दें कि हाल में ही आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने भी कहा था कि अगर वे महागठबंधन का हिस्सा होना चाहेंगे तो उनका स्वागत किया जाएगा.  हालांकि राजनीतिक जानकारों का कहना है कि चिराग की नाराजगी सीएम नीतीश की उस चाल से जिसमें जीतन राम मांझी की एक बार फिर घर वापसी की पृष्ठभूमि तैयार की जा रही है.



क्या चिराग की प्रेशर पॉलिटिक्स है?
इसके साथ ही श्याम रजक और अशोक चौधरी जैसे नेताओं को भी लाइमलाइट में रखकर नीतीश कुमार ये जताना चाहते हैं कि एनडीए में दलित नेताओं की कमी नहीं है. बहरहाल सियासी दांव पेच के बीच ये खबरें भी सामने आ रही हैं कि ये चिराग की प्रेशर पॉलिटिक्स भर है ताकि एनडीए में अपनी अधिक से अधिक सीटों की हिस्सेदारी पा सकें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading