'नीतीश कुमार की मदद से केंद्र में बन सकती है गैर बीजेपी सरकार'

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने बड़ा बयान दिया है. गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि 23 मई को चुनाव परिणाम आने के बाद नीतीश कुमार सरीखे कुछ नेताओं की मदद से केंद्र में गैर बीजेपी सरकार बनाई जा सकती है.

News18Hindi
Updated: May 16, 2019, 8:02 AM IST
'नीतीश कुमार की मदद से केंद्र में बन सकती है गैर बीजेपी सरकार'
गुलाम नबी आजाद (फाइल फोटो)
News18Hindi
Updated: May 16, 2019, 8:02 AM IST
जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने बड़ा बयान दिया है. गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि 23 मई को चुनाव परिणाम आने के बाद नीतीश कुमार सरीखे कुछ नेताओं की मदद से केंद्र में गैर बीजेपी सरकार बनाई जा सकती है. आजाद के मुताबिक बिहार के सीएम नीतीश कुमार गैर बीजेपी सरकार बनाने में अहम रोल अदा कर सकते हैं. गुलाम नबी आजाद ने यह बयान बुधवार को पटना में मीडिया से मुखातिब होते हुए दिया.

बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 के सातवें चरण का मतदान अभी खत्म भी नहीं हुआ है, लेकिन राजनीतिक दलों के सुरमाओं ने अभी से ही अगली सरकार बनाने और बिगाड़ने की रणनीति पर काम करना शुरू कर दिया है. खासतौर पर विपक्षी पार्टियों के नेताओं में केंद्र की अगली सरकार बनाने को लेकर कुछ ज्यादा ही उत्सुकता नजर आ रही है.





सरकार बनाने और बिगाड़ने का खेल शुरू

पिछले दो-तीन दिनों में विपक्षी दलों के कई बड़े नेताओं के बयान सामने आए हैं और सभी नेताओं के बयान एक-दूसरे से मेल नहीं खा रहे हैं. तेलांगना के सीएम चंद्रशेखर राव ने कहा है कि वह माइनस राहुल गांधी कांग्रेस नेतृत्व स्वीकारने को तैयार हैं. एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार कहते हैं, 'अगर राष्ट्रपति बीजेपी को सरकार बनाने के लिए बुलाते भी हैं तो वह सदन में अपना बहुमत सिद्ध नहीं कर सकेगी. मोदी सरकार का भी हश्र वही होगा, जो 1996 में अटल बिहारी वाजपेयी की 13 दिन की सरकार का हुआ था.'

बुधवार को पटना में कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद के बिहार के सीएम नीतीश कुमार पर दिए बयान के बाद तो कांग्रेसी नेताओं में सरकार बनाने की बौखलाहट साफ दिखाई नजर आता है. ऐसा माना जाता है कि नीतीश कुमार काफी सोच-समझ कर एनडीए में दोबारा आए हैं. पिछले कुछ महीनों में पीएम मोदी और नीतीश कुमार के बीच केमेस्ट्री भी ठीक है. जानकारों का मानना है कि दूर-दूर तक फिलहाल दिखाई नहीं दे रहा है कि नीतीश कुमार, एनडीए का साथ छोड़ेंगे.

सातवें चरण की वोटिंग में कुछ ही दिन बचेबता दें कि बुधवार को गुलाम नबी आजाद ने पटना में कहा कि नीतीश कुमार कुछ मजबूरी के कारण एनडीए में गए. नीतीश कुमार जैसे कुछ और लोग भी हैं, जिनकी विचारधारा बीजेपी से नहीं मिलती है. गुलाम के मुताबिक, 'कुछ लोग या सत्ता पाने या फिर किसी मजबूरी के कारण बीजेपी के साथ हैं. शायद इन दोनों कारणों में से कोई एक कारण है जो नीतीश कुमार सरीखे नेताओं को बीजेपी से जोड़े रखा है. अगर दूसरी पार्टियां भी इन जरूरतों को पूरा करती है तो उन पार्टयों को स्थान बदलने में दिक्कत नहीं आएगी.'



आजाद ने आगे कहा, ‘सातवें चरण के मतदान के लिए कुछ ही दिन बचे हैं. मैं पूरे देश में अपने चुनाव प्रचार के अनुभव के आधार पर कह सकता हूं कि नरेंद्र मोदी दोबारा से पीएम नहीं बनने जा रहे हैं.’

ये भी पढ़ें - 

भविष्य में नहीं कर पाएंगे वर्तमान मंदिर में बद्री विशाल के दर्शन!

चारधाम यात्रा: अमेरिका से आए अजय शाह ने बद्रीविशाल को चढ़ाए सोने के 3 मुकुट

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

News18 चुनाव टूलबार

चुनाव टूलबार