शक्ति सिंह गोहिल ने किसान विधेयक को बताया काला कानून, बोले- बिहार चुनाव में हम जनता अदालत में जाएंगे

बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल.
बिहार कांग्रेस प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल.

Farmers Bill: राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो चुनाव के ठीक पहले कांग्रेस के हाथ लगाने या किसी कानून ऐसा हथियार है जिसे कांग्रेस हर हाल में भुनाने को तैयार बैठी है.

  • News18 Bihar
  • Last Updated: September 24, 2020, 11:19 AM IST
  • Share this:
रिपोर्ट- धर्मेंद्र कुमार

पटना. बिहार में होने वाले चुनाव से ठीक पहले किसान विधेयक (Farmers Bill) को लेकर कांग्रेस आंदोलन के मूड में है. पार्टी के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल (Shakti Singh Gohil) ने किसान विधेयक को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा है. बिहार प्रभारी ने कहा कि किसानों के लिए ये काला कानून है. ये सरकार पूंजिपतियो को मजबूत करने के लिए ऐसे-ऐसे कानून लाती है जिससे देश का भला नहीं हो सकता है. गोहिल ने कहा कि सरकार सिर्फ झूठ पर झूठ बोल रही है. मिनिमम सपोर्ट प्राइस को सरकार खत्म नहीं करने पर बोल रही है जो झूठ है.

पटना पहुंचे गोहिल ने कहा कि ये नया कानून किसानों को बर्बाद करने का कानून है और सारी पार्टियां इस कानून का विरोध कर रही हैं. हम इस बिल का विरोध करते हैं और हम बिहार में भी जनता की अदालत में जायेगे. गांधी जी ने भी चंपारण सत्याग्रह किया था और यहां से लड़ाई शुरू की थी हम भी यहीं से शुरुआत करेंगे.



बिहार प्रभारी ने कहा कि बिहार में हम चरणबद्ध आंदोलन करेंगे और हमारे और नेता बिहार आएंगे. हम लोग रणनीति बनाकर इस कानून का विरोध करेंगे. राजद के साथ मिलकर आंदोलन करने पर गोहिल ने कहा कि जो भी पार्टी इस विधेयक का विरोध करेगी हम उनके साथ है और किसान आंदोलन को मिलकर लड़ेगे. संसद में भी 12 पार्टियों ने इसका विरोध किया है. भाजपा के मंत्री भी इसका विरोध कर रहे हैं और विरोध में इस्तीफा दे रहे हैं.
रालोसपा प्रभारी उपेंद्र कुशवाहा की महागठबंधन से नाराजगी और महागठबंधन को छोड़ने के सवाल पर बिहार प्रभारी गोहिल ने कहा कि कयास पर हम नहीं जाते हैं. सीटों के बंटवारे को लेकर सबसे बात हो रही है और हम चाहते हैं कि सब साथ मिलकर रहें और एक साथ बीजेपी के खिलाफ लड़ें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज