लाइव टीवी
Elec-widget

सुशील मोदी बोले- चोट है तो जख्म दिखाएं, विधान परिषद में कांग्रेस MLC उतारने लगे कपड़े

RaviS Narayan | News18 Bihar
Updated: November 25, 2019, 4:45 PM IST
सुशील मोदी बोले- चोट है तो जख्म दिखाएं, विधान परिषद में कांग्रेस MLC उतारने लगे कपड़े
बिहार विधान परिषद में विरोध-प्रदर्शन करते विरोधी सदस्य

विभासभा (Bihar Assembly) में बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी (sushil kumar modi) ने कहा कि पुलिस की लाठीचार्ज में किसी को चोट लगी है तो वो जख्म दिखाएं. उनके इस बयान पर जमकर हंगामा हुआ.

  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा (Bihar Assembly) के मानसून सत्र के दूसरे दिन दोनों सदनों में जमकर हंगामा हुआ. कांग्रेस (Congress) के सोमवार को पटना में हुए मार्च में पुलिस (Police) द्वारा किए गए लाठीचार्ज का विरोध करते हुए विपक्ष ने सदन को चलने नहीं दिया. विधानसभा की कार्यवाही 10 मिनट के अंदर ही भोजनावकाश के लिए स्थगित कर देना पड़ा. विधान परिषद के अंदर भी कांग्रेस और आरजेडी (RJD) नेताओं ने जमकर नारेबाजी की. विधान परिषद में हंगामा इतना बढ़ा कि उप-मुख्यमंत्री सुशील मोदी (Sushil Kumar Modi) ने कांग्रेस नेता को सदन में कपड़े खोलकर चोट दिखाने की बात कह डाली. उसके बाद सदन के वेल में पहुंचकर जमकर नारेबाजी हुई.

सुशील मोदी ने के कपड़े खोलने की बात पर मचा हंगामा
विधान परिषद के अंदर उस समय अजीब सी स्थिति उत्पन्न हुई जब डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने हंगामा कर रहे कांग्रेस नेता प्रेमचंद्र मिश्रा को कपड़े खोलकर सदन के अंदर दिखाने को कहा. मोदी के ऐसा कहते ही मिश्रा कपड़े खोलने लगे. उन्होंने अपनी बंडी यानी कोट को सदन में ही उतार दिया, जिसके बाद उनको सभापति ने कपड़े उतारने से रोका.

कार्यवाही शुरू होते ही लाया गया कार्य स्थगन प्रस्ताव

विधान परिषद की कार्यवाही शुरू होते ही कांग्रेस नेता प्रेमचंद्र मिश्रा ने लाठीचार्ज के विरोध में कार्य स्थगन प्रस्ताव लाया. इसके बाद कांग्रेस और आरजेडी के नेता वेल में पहुंचकर नारेबाजी करने लगे. विपक्षी नेताओं ने हाथों में पोस्टर लेकर वेल के अंदर जमकर नारेबाजी की और सदन की कार्यवाही चलने से रोका. कांग्रेस नेता की मांग थी कि लाठीचार्ज पर सरकार जवाब दे और नेताओं पर हुए मुकदमे को सरकार वापस ले. काफी देर हंगामा चलने के बाद डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने उठकर कहा कि अगर चोट लगी है तो सदन के अंदर कपड़े खोलकर दिखाएं. उसके बाद विपक्षी नेताओं ने सुशील मोदी के खिलाफ सदन के अंदर जमकर नारे लगाए.

कांग्रेस नेताओं ने बोला- संसदीय परंपरा हुई शर्मसार
सुशील मोदी के कपड़े खोलने की बात कहते ही कांग्रेसी नेताओं ने नारेबाजी शुरू की, परिणाम स्वरूप सभापति ने परिषद की कार्यवाही 2:30 बजे तक के लिए स्थगित कर दी. प्रेमचंद्र मिश्रा ने सुशील कुमार मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि सदन के अंदर ऐसी शर्मनाक बात कभी नहीं हुई. प्रेमचंद्र मिश्रा ने सवाल खड़ा करते हुए कहा कि क्या महिला कार्यकर्ता होती तो भी मोदी यही बात करते. सुशील मोदी के इस बयान के लिए उन्हें माफी मांगनी चाहिए, अन्यथा सरकार बर्खास्त करें.
Loading...


परिषद की कार्यवाही शुरू होने से पहले ही मचा हंगामा
आरजेडी और कांग्रेस के नेताओं ने पहले से ही रणनीति बना ली थी कि लाठीचार्ज के विरोध में सदन में हंगामा करेंगे. विधान परिषद की कार्यवाही शुरू होने से पहले ही आरजेडी और कांग्रेस के नेताओं ने परिषद के पोर्टिको में आकर सरकार के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी. विपक्ष के इस नारेबाजी में कांग्रेस अध्यक्ष मदन मोहन झा एमएलसी प्रेमचंद्र मिश्रा आरजेडी नेता रामचंद्र पूर्वे सहित तमाम विपक्षी नेता मौजूद रहे.

मोदी के बयान पर नेताओं की मिलीजुली प्रतिक्रिया
सुशील मोदी के सदन के अंदर कपड़े खोलकर नोट दिखाने के बयान को जहां विपक्ष ने आड़े हाथों लिया वहीं एनडीए के नेताओं ने उसका बचाव किया. रामचंद्र पूर्वे ने कहा, 'परिषद के अंदर कभी ऐसी भाषा का इस्तेमाल नहीं किया गया है. इसके लिए सुशील मोदी को माफी मांगनी चाहिए.' बीजेपी नेता संजय मयूख ने कहा कि सुशील मोदी ने कुछ भी गलत नहीं कहा. कांग्रेस नेता इस मामले को बेवजह तूल दे रहे हैं. अगर चोट लगती तो फिर सदन कैसे आते. वो बेवजह सदन को बाधित करने का प्रयास कर रहे हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 25, 2019, 3:57 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...