कोरोना काल में फिर से उठा सवाल- सीएम नीतीश कुमार लेकिन स्वास्थ्य मंत्री BJP का ही क्यों ?
Patna News in Hindi

कोरोना काल में फिर से उठा सवाल- सीएम नीतीश कुमार लेकिन स्वास्थ्य मंत्री BJP का ही क्यों ?
बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय की फाइल फोटो

कांग्रेस के विधान पार्षद प्रेमचंद्र मिश्रा कहते हैं कि राज्य की लाचार स्वास्थ्य सेवाओं के लिए भाजपा जिम्मेवार है. 15 वर्षों के नीतीश कुमार के शासन में साढ़े 13 वर्षों तक बिहार का स्वास्थ्य मंत्री का पद भाजपा नेताओं के पास रहा है.

  • Share this:
पटना. नीतीश कुमार के मुख्यमंत्री (CM Nitish Kumar) रहते बिहार का स्वास्थ्य मंत्री भाजपा के नेता ही क्यों बनते हैं, आख़िर नीतीश जी की ऐसी क्या मजबूरी है कि मुख्यमंत्री रहते कभी भी स्वास्थ्य विभाग जेडीयू (JDU) के नेताओं को नहीं दिया जाता. बिहार की स्वास्थ्य व्यवस्था का हाल बेहाल करने में भाजपा नेताओं का ही सबसे बड़ा हाथ है. ये सवाल और आरोप दोनों है कांग्रेस के एमएलसी प्रेमचंद्र मिश्रा के.

चमकी के बाद अब कोरोना को लेकर हमले

दरअसल बिहार में कोरोना संक्रमण के दौरान इलाज से लेकर स्वास्थ्य व्यवस्था तक पर सवाल उठ रहे हैं और विरोधी दलों के निशाने पर स्वास्थ्य व्यवस्था कुछ ज़्यादा ही है. सत्ताधारी दल स्वास्थ्य विभाग का लगातार बचाव कर रहे हैं. पिछले साल भी जब चमकी बुखार ने कई बच्चों की जान ली थी तब भी निशाने पर स्वास्थ्य विभाग और मंत्री मंगल पांडे आए थे और इस बार भी कोरोना संक्रमण में इलाज को लेकर सवाल खड़े हुए तो निशाने पर मंगल पांडेय और उनका स्वास्थ्य विभाग ही है.



कांग्रेस ने पूछे सवाल



प्रेमचंद्र मिश्रा कहते हैं कि राज्य की लाचार स्वास्थ्य सेवाओं के लिए भाजपा जिम्मेवार है. 15 वर्षों के नीतीश कुमार के शासन में साढ़े 13 वर्षों तक बिहार का स्वास्थ्य मंत्री का पद भाजपा नेताओं के पास रहा है. बीच  के डेढ़ साल राजद के साथ रहने से तेजप्रताप यादव ने सम्भाला था. प्रेमचंद्र मिश्रा नीतीश कुमार से पूछते हैं कि मंत्रिमंडल में स्वास्थ्य मंत्री का पद हमेशा भाजपा नेताओं के पास ही क्यों रहा है. क्या यह संयोग है या प्रयोग? कुछ ऐसा ही आरोप राजद के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी लगाते हैं कि बिहार के सरकारी अस्पताल लूट-खसोट का अड्डा बन गए हैं और नीतीश कुमार स्वास्थ्य विभाग की लाचारी के बावजूद बीजेपी के दबाव में कोई कार्रवाई नहीं कर सकते हैं.

स्वास्थ्य मंत्री की कुर्सी पर बैठने वाले बीजेपी के चेहरे

2005 से लेकर अभी तक कुछ महीनों को छोड़ दें तो लगातार भाजपा नेताओं चंद्रमोहन राय, अश्विनी  चौबे, नंदकिशोर यादव और अभी मंगल पांडेय ने स्वास्थ्य मंत्री का जिम्मा संभाल रखा है. विरोधी दलों के आरोप पर बिहार सरकार के मंत्री नीरज कुमार कहते हैं कि विरोधी दलों के लोग कुछ भी आरोप लगा लें लेकिन सब लोगों ने देखा और देख रहे हैं कि कोरोना संक्रमण के दौरान लोग सरकारी अस्पताल पर ही भरोसा कर इलाज करवा रहे है. स्वास्थ्य विभाग का मंत्री कौन बनता है ये कोई सवाल नहीं है.

ये भी पढ़ें- पैसे देख दोस्तों की बिगड़ी नियत, पहले हत्या की फिर शव को नहर में फेंका

ये भी पढ़ें- कृषि विभाग में 'प्रमोशन घोटाला', 10वीं पास अधिकारी और ग्रेजुएट हैं कर्मचारी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading