कांग्रेस सांसद का दावा- रघुवंश बाबू से जबरन लिखवाई गई थी नीतीश कुमार के नाम चिठ्ठी
Patna News in Hindi

कांग्रेस सांसद का दावा- रघुवंश बाबू से जबरन लिखवाई गई थी नीतीश कुमार के नाम चिठ्ठी
कांग्रेस के राज्यसभा सांसद अखिलेश प्रसाद सिंह की (फाइल फोटो) सोर्स- एएनआई

Raghuvansh Prasad Singh Death: पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह की मौत के बाद उनके द्वारा सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) को लिखी गई चिट्ठी को लेकर बिहार की सियासत गर्माई हुई है. इस मुद्दे पर अभी तक राजद की तरफ से तेजस्वी यादव की प्रतिक्रिया नहीं आई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 14, 2020, 1:21 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार ने दिवंगत राजनेता रघुवंश प्रसाद सिंह (Raghuvansh Prasad Singh)द्वारा लिखी गई चिट्ठी को लेकर राजनीति गर्माती ही जा रही है. इस चिट्ठी को लेकर पक्ष और विपक्ष में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है. इस कड़ी में अब कांग्रेस (Congress) ने भी आरजेडी का साथ दिया है. पार्टी के सांसद अखिलेश प्रसाद सिंह ने दावा किया है कि रघुवंश बाबू से जबरन चिट्ठी लिखवाई गई थी.

राज्यसभा सांसद अखिलेश सिंह ने कहा कि रघुवंश बाबू को हम लंबे वक्त से जानते हैं, वो जहां थे काफी मजबूती से थे और उस वक्त भी मोदी सरकार (Modi Government) और नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) की बुराई कर रहे थे. राज्यसभा सांसद अखिलेश सिंह ने बताया कि वह रघुवंश बाबू से 1 सप्ताह पहले मिले थे लेकिन उस वक्त भी ऐसी कोई बात नहीं थी. रघुवंश बाबू उस समय भी लालू प्रसाद की ही तरफदारी कर रहे थे.

कांग्रेस सांसद ने दावा किया है कि यह चिट्ठी जबर्दस्ती लिखवाई गई है. उन्होंने कहा कि रघुवंश बाबू अपनी लड़ाई पार्टी में रहकर लड़ते थे थे ऐसे में इस प्रकरण की घोर निंदा होनी चाहिए. वहीं दूसरी ओर उनके ही सहयोगी और राजद के राज्यसभा सांसद मनोज झा ने इस प्रकरण पर बयान दिया है.



मनोज झा ने कहा कि आरजेडी सांसद मनोज झा ने कहा कि बीजेपी-जेडीयू के कुछ नेताओं की तरफ से रघुवंश प्रसाद सिंह के साथ आरजेडी के रवैए पर सवाल  उठाये गए थे. मनोज झा ने कहा कि हमारे रघुवंश बाबू का अभी दाह-संस्कार तक नहीं हुआ है, ऐसे में कौन हैं  ये लोग. ये इंसान हैं या इंसान के वेश में कुछ और हैं? झा ने कहा कि ऐसी बातें करने वाले लोग लालू जी का ख़त पढ़ लें, इस रिश्ते की बुनियाद ख़ून-पसीने से है. राजद नेता ने कहा कि उनलोगों के अंदर की संवेदना ही नहीं है कि वो लोग किसी का आदर करें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज