होम /न्यूज /बिहार /

बिहार में RJD के रास्ते पर कांग्रेस, मंत्रिमंडल में 'MD' समीकरण साध सबको चौंकाया

बिहार में RJD के रास्ते पर कांग्रेस, मंत्रिमंडल में 'MD' समीकरण साध सबको चौंकाया

बिहार मंत्रिमंडल में कांग्रेस ने दलित और मुसलमान को जगह दी है (दोनों मंत्री की फोटो)

बिहार मंत्रिमंडल में कांग्रेस ने दलित और मुसलमान को जगह दी है (दोनों मंत्री की फोटो)

Congress Ministers In Bihar: बिहार में कांग्रेस अपनी स्थिति को सुधारने के लिए MD समीकरण के सहारे कोशिश में जुट गई है. राजद जहां माई समीकरण के सहारे मजबूत स्थिति में है तो वहीं अब कांग्रेस भी उसी रास्ते चलने की तैयारी कर रही है. इसकी बानगी मंत्रिमंडल विस्तार में भी देखने को मिली है.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

बिहार मंत्रिमंडल में कांग्रेस को दो सीटें मिली हैं
कांग्रेस ने कैमूर जिले से मुरारी गौतम को मंत्री बनाया है
मुस्लिम चेहरा के रूप में अफाक आलम को कैबिनेट में जगह मिली है

पटना. देश की राजनीति में लगातार मिल रही हार के बाद कांग्रेस धीरे-धीरे राज्यों की सरकार और सत्ता में शामिल होने के लिए नई रणनीति पर काम कर रही है. कांग्रेस पार्टी राष्ट्रीय पार्टी होने के बावजूद राज्यों में स्थानीय सियासत और समीकरण के रास्ते सत्ता में भागीदारी बनाए रखना चाहती है. इसी रणनीति के तहत बिहार के बदली सियासत में सरकार में शामिल होने के बाद मंत्रिमंडल की भागीदारी में जातीय समीकरण का ख्याल रखा है.

कांग्रेस ने आरजेडी के माई समीकरण के तर्ज पर MD यानी मुस्लिम और दलित समीकरण पर भरोसा जताया है. कांग्रेस को बिहार की महागठबंधन सरकार में मंत्री के लिए दो सीटें मिली, जिसमें से एक मुस्लिम और दूसरा दलित चेहरा को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया. पार्टी ने ऐसे नामों को मंत्री बनाकर अपने सहयोगियों को भी चौंका दिया क्योंकि मंत्री बनने वाले चेहरे पार्टी की लाइम लाइट में नहीं थे. पार्टी ने कसबा विधायक अफाक आलम और दलित चेहरा मुरारी गौतम को शामिल किया. मुस्लिम और दलित को मंत्री पद देकर कांग्रेस ने संदेश दिया है कि बिहार में मुस्लिम वोट बैंक और दलित वोट बैंक में सेंध लगाने की तैयारी है.

सवर्णों को नहीं मिली कोई जगह

मंत्रिमंडल विस्तार में लगातार कयास लगाए जय रहे की एक चेहरा स्वर्ण जाति से जरूर होगा पर कांग्रेस ने नई रणनीति के तहत मुस्लिम दलित चेहरे  सामने लाकर संदेश दिया है। स्वर्ण चेहरों के रूप में विधायक दल के नेता अजीत शर्मा और प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा के नामो की चर्चा बनी रही पर पार्टी ने नई रणनीति और सियासत का संदेश दे दिया है।माना जा रहा है की मुस्लिम चेहरे में शकील अहमद खान की जगह अफाक आलम को जगह देकर मुस्लिमो में भी पिछड़े मुसलमानो के बीच अपनी पकड़ मजबूत बनाना चाहती है।चूंकि अजीत शर्मा पहले से विधायक दल के नेता और मदन मोहन झा प्रदेश अध्यक्ष के पद पर है इसलिए पार्टी और कार्यकर्ताओं के बीच मजबूत संकेत देकर बिहार में नई शुरुआत करना चाहती है। भक्त चरण दास को बिहार प्रभारी बनाने के साथ ही बिहार में दलित सियासत के संकेत कांग्रेस ने दे दिया था।

Tags: Bihar News, Bihar politics, Congress

अगली ख़बर