लाइव टीवी

राहुल गांधी रैली को 'ग्रैंड' बनाने की तैयारी में कांग्रेस, नेताओं को दिए भीड़ जुटाने के टारगेट
Patna News in Hindi

Vijay jha | News18 Bihar
Updated: February 2, 2019, 5:58 PM IST
राहुल गांधी रैली को 'ग्रैंड' बनाने की तैयारी में कांग्रेस, नेताओं को दिए भीड़ जुटाने के टारगेट
राहुल गांधी (फाइल फोटो)

विश्वस्त सूत्रों के अनुसार कांग्रेस के नेताओं, विधायकों, जिलाध्यकों सहित प्रखंड स्तर के नेताओं को 5 - 5 हजार लोगों को लाने का टारगेट दिया गया है. खबरें तो ऐसी भी हैं कि जो अधिक भीड़ ला पाए उन्हें लोकसभा का टिकट देने पर भी विचार किया जा सकता है.

  • Share this:
पटना के ऐतिहासिक गांधी मैदान में कांग्रेस पार्टी की रैली होने वाली है. कांग्रेस  इस रैली को ग्रैंड बनाने के लिए पूरे जोर-शोर से लगी है. सालों के बाद हो रही रैली को लेकर पार्टी ने पूरी ताकत झोंक दी है. पूरे पटना शहर को बैनर-पोस्टर और तोरण द्वार से पाट दिया गया है. सूत्रों के अनुसार कांग्रेस के नेताओं, विधायकों, जिलाध्यक्षों सहित प्रखंड स्तर के नेताओं को 5 - 5 हजार लोगों को लाने का टारगेट दिया गया है. खबरें तो ऐसी भी हैं कि जो अधिक भीड़ ला पाए उन्हें लोकसभा का टिकट देने पर भी विचार किया जा सकता है.

2 लाख लोगों के आने की उम्मीद
कांग्रेस नेता दावा कर रहे हैं कि रैली ऐतिहासिक होने वाली है और गांधी मैदान में हुई सभी रैलियों का रिकॉर्ड तोड़ देगी. हालांकि, पार्टी के सूत्रों के अनुसार 2 लाख लोगों के जुटने का अनुमान लगाया जा रहा है. अगर ऐसा हो गया तो रैली को सफल माना जाएगा.

पूरे पटना में बैनर-पोस्टर

राजधानी पटना के हर चौक चौराहे पर कांग्रेस का ही बैनर-पोस्टर और तोरण द्वार नजर आ रहे हैं. इनकम टैक्स चौराहा, पटना जंक्शन, गांधी मैदान समेत पटना का कोई भी ऐसा जगह नहीं बचा है जहां राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के साथ वाला पोस्टर न दिखता हो.

कांग्रेस की रैली के लिए पूरे पटना को बैनर-पोस्टर और तोरण द्वार से पाट दिया गया


तीन राज्यों के सीएम भी होंगे शामिलछत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल, मध्य प्रदेश के कमलनाथ और राजस्थान के अशोक गहलोत राहुल गांधी की इस रैली में शामिल होंगे. इसके अलावा महागठबंधन के प्रमुख नेता- तेजस्वी यादव, जीतन राम मांझी और शरद यादव जैसे नेता भी शामिल होंगे.

नेताओं को दिए गए टारगेट
विश्वस्त सूत्रों के अनुसार कांग्रेस के नेताओं, विधायकों, जिलाध्यकों सहित प्रखंड स्तर के नेताओं को 5 - 5 हजार लोगों को लाने का टारगेट दिया गया है. खबरें तो ऐसी भी हैं कि जो अधिक भीड़ ला पाए उन्हें लोकसभा का टिकट देने पर भी विचार किया जा सकता है.

ये भी पढ़ें- बिहार की राजनीति में 'फ्रंट फुट' से 'बैक फुट' पर चली गई कांग्रेस, जानिए वजह

400 से ज्यादा की सभाएं
राहुल गांधी की रैली को सफल बनाने के लिए बिहार में कांग्रेस ने 400 से अधिक जनसभाएं की हैं. कस्बे से लेकर गांवों तक में नेताओं ने इस रैली में आने के लिए लोगों को न्योता दिया है. सबसे अधिक मेहनत मिथिलांचल के इलाके में की गई है जहां कांग्रेस का पुराना जनाधार रहा है.

विधायकों के कैंपस में पंडाल
पटना आए लोगों को रहने में कोई दिक्कत न हो इसके लिए वर्तमान विधायकों के कैम्पस से लेकर स्कूल परिसरों और कई कम्यूनिटी हॉल, मंदिरों और धर्मशालाओं तक को बुक किया गया है. गांधी मैदान में पंडाल लगाए जा रहे हैं जहां 20 ट्रक पुआल बिछाया जा रहा है जिसपर लोग आराम कर सकें.

विधायकों और कांग्रेस नेताओं के आवास परिसर में लोगों के ठहरने का इंतजाम


2500 गाड़ियों का इंतजाम
आने वाले लोगों को किसी भी दिक्कत न हो इसके लिए विशेष इंतजाम किए गए हैं. प्रदेश के कोने-कोने से लाने के लिए लगभग 2500 गाड़ियों का इंतजाम किया गया है. ठीक वैसी ही कोशिश की जा रही है जैसा अमूमन भारतीय जनता पार्टी की रैलियों में देखा जाता है.

खाने-पीने के की व्यवस्था
खाने-पीने की भी खास व्यवस्था की गई है. पूड़ी-सब्जी और जिलेबी का इंतजाम किया जा रहा है. वहीं बाहुबली विधायक अनंत सिंह ने भी खास इंतजाम किए हैं. उनकी व्यवस्था में रहने वालों को अलग से रसगुल्ला भी परोसे जाने का इंतजाम किया गया है.

कांग्रेस की रैली में खाने-पीने का विशेष इंतजाम


नाच-गान का इंतजाम
हालांकि कांग्रेस पार्टी, आरजेडी जैसा खुल्लम खुल्ला तो नहीं कह रही है कि वह नाच-गान का इंतजाम करेगी. लेकिन विश्वस्त सूत्र बता रहे हैं कि कुछ विधायकों के परिसर में रात को नाच-गान की भी व्यवस्था की जा रही है ताकि आने वाले लोग रैली में शामिल होने तक टिके रहें.

ये भी पढ़ें- आक्रोश मार्च में RLSP कार्यकर्ताओं और पुलिस में झड़प, उपेन्द्र कुशवाहा की तबीयत बिगड़ी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 2, 2019, 4:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर