कांग्रेस ने चिट्ठी लिखकर तेजस्वी यादव को याद दिलाया वादा, RJD बोली- जो देना था पहले ही दे चुके
Patna News in Hindi

कांग्रेस ने चिट्ठी लिखकर तेजस्वी यादव को याद दिलाया वादा, RJD बोली- जो देना था पहले ही दे चुके
तेजस्वी यादव के साथ शक्ति सिंह गोहिल. (फाइल फोटो)

Rajya Sabha Election 2020: कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने पत्र लिखकर तेजस्‍वी को उनका वादा याद दिलाया है. वहीं, RJD ने इससे पल्‍ला झाड़ लिया है.

  • Share this:
पटना. बिहार में होने वाले राज्यसभा चुनाव (Rajya Sabha Election) को लेकर सूबे की सियासत गर्माने लगी है. कांग्रेस (Congress) ने राज्यसभा की एक सीट पर अपनी दावेदारी ठोकी है, लेकिन आरजेडी के समर्थन के बिना कांग्रेस उम्मीदवार का राज्यसभा पहुंचाना संभव नहीं है. अब इसको लेकर प्रेशर पॉलिटिक्स शुरू हो गई है. कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने पत्र लिखकर आरजेडी को याद दिलाया है कि लोकसभा चुनाव के दौरान तेजस्वी ने कांग्रेस के एक उम्मीदवार राज्यसभा भेजने का वादा किया था. वहीं, आरजेडी ने यह साफ कर दिया है कि किसी भी सूरत में कांग्रेस को सीट नहीं दी जाएगी.

राज्यसभा चुनाव को लेकर बिहार में आरजेडी और कांग्रेस आमने-सामने आ गए हैं. कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने एक पत्र जारी किया है, जिसमें उन्होंने लिखा- प्राण जाए पर वचन न जाए. शक्ति सिंह गोहिल का यह पत्र आरजेडी के नाम है. दरअसल, कांग्रेस ने राज्यसभा की एक सीट पर अपनी दावेदारी ठोकी है, लेकिन उसके उम्मीदवार को राज्यसभा पहुंचने के लिए राजद के समर्थन की जरूरत है. यही वजह है कि कांग्रेस अब राजद को उसके वादे याद दिला रही है.

'लोकसभा चुनाव के दौरान तेजस्वी ने किया था वादा'
कांग्रेस के बिहार प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल ने पत्र के जरिये आरजेडी से कहा, 'लोकसभा चुनाव के समय महागठबंधन की पीसी में तेजस्वी यादव ने कांग्रेस से वादा किया था कि अपने कोटे से कांग्रेस के एक उम्‍मीदवार को राज्यसभा राज्यसभा में भेजेंगे.' उन्होंने आगे लिखा है कि उम्मीद है कि आरजेडी के नेता अपने वचन का पालन करेंगे. शक्ति सिंह गोहिल के इस पक्ष से ये तो साफ हो गया कि राज्यसभा चुनाव में सीट को लेकर आरजेडी और कांग्रेस में ठनी हुई है.



क्या है राज्यसभा का गणित?


दरअसल, राज्यसभा चुनाव में एक सीट पर जीत के लिए 41 विधायकों की जरूरत है. इस लिहाज से देखें तो आरजेडी के पास 80 विधायक हैं और कांग्रेस के पास 26 एमएलए. यानी दोनों दलों के विधायकों की संख्या को अगर मिला भी दें फिर भी इनके कोटे में दो सीटें ही आने वाली है. यही वजह है कि 26 विधायकों वाली पार्टी कांग्रेस की पूरी आस आरजेडी से है, लेकिन राजद को कांग्रेस से किया गया वो वादा याद नहीं है.

कांग्रेस और राजद के नेता आमने-सामने
अब तक कांग्रेस यह मान कर चल रही थी कि राजद उन्हें अपने कोटे की एक सीट देगा जिस पर कांग्रेस के कई नेताओं की दावेदारी भी शुरू हो गई थी. अब जब शक्ति सिंह गोहिल का पत्र सार्वजनिक हो गया है तो यह साफ है कि दोनों दलों के बीच सीट पर बात नहीं बन पा रही है. ऐसे में अब दोनों दलों के बीच बयानबाजी शुरू हो गई है. कांग्रेस नेता प्रेमचंद्र मिश्रा ने कहा है कि लोकसभा चुनाव के दौरान महागठबंधन की पीसी में राजद ने कांग्रेस से ये वादा किया था कि वह अपने कोटे की एक राज्यसभा की सीट हमें देंगे. कांग्रेस पार्टी राजद को उसी वादे की याद दिला रही है, क्योकि दोस्ती में वादे तोड़े नहीं जाते हैं. वहीं, शक्ति सिंह गोहिल के पत्र जारी करने के तुरंत बाद राजद ने भी पलटवार किया है. राजद विधायक भाई वीरेंद्र ने कहा कि जो सीट देना था वह कांग्रेस को पहले ही दे दी गई है. इस बार राज्यसभा की सीट देने का कोई सवाल ही नहीं है.

ये भी पढ़ें- आर्केस्ट्रा संचालक की हत्या कर नर्तकी को किया किडनैप, एक अन्य को भी मारी गोली

ये भी पढ़ें- बिहार: विधानपरिषद की 27 सीटों के लिए होंगे चुनाव, जानें किसका पलड़ा है भारी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading