बिहार में बड़े अस्पतालों में ऑक्सीजन के लिए हाहाकार, स्वास्थ्य मंत्री ने कही ये बात 

बिहार के अस्पतालों में कोरोनाकी किल्लत (सांकेतिक फोटो)

बिहार के अस्पतालों में कोरोनाकी किल्लत (सांकेतिक फोटो)

Oxygen Crisis In Bihar: बिहार में कोरोना के मरीजों की बढ़ती संख्या के बीच ऑक्सीजन की डिमांड लगातार बढ़ रही है, ऐसे में इसकी सप्लाई को दुरुस्त करना सरकार के लिए बड़ी चुनौती है.

  • Share this:
पटना. बिहार में कोरोना (Bihar Corona Crisis) से लोग त्राहिमाम कर रहे हैं. सरकार की तमाम तैयारियों की पोल खुल गई है. सबसे खराब स्थिति तो राजधानी पटना (Patna) की है. हालात ऐसे कि कोरोना मरीजों की भर्ती के लिए अस्पतालों में बेड नहीं है. सरकार की तमाम कोशिशों के बाद भी ऑक्सीजन की किल्ल्त (Bihar Oxygen Crisis) खत्म होने का नाम नहीं ले रही. पटना के कई अस्पतालों में ऑक्सीजन की भारी किल्लत है. पटना के दूसरे बड़े अस्पताल IGIMS में भी ऑक्सीजन सिलेंडर की किल्लत हो गई है.

IGIMS के अधीक्षक मनीष मंडल ने कहा कि हमारे पास सिर्फ 1 घंटा के लिए ऑक्सीजन का बैकअप है. ऑक्सीजन खत्म होने के बाद जिम्मेदारी किसकी होगी यह देखा जाएगा. उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन को इसकी सूचना दी गई है और तत्काल सिलेंडर उपलब्ध कराने की मांग की गई है. जिला प्रशासन ने समीक्षा के बाद ऑक्सीजन देने को कहा है, वहीं स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि अस्पतालों में ऑक्सीजन उपलब्ध कराने को लेकर काम किया जा रहा है.

जिला प्रशासन ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए लगातार काम कर रहा है. उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन खत्म होने के समाचार के बाद हम लोगों ने समय रहते सचेत हुए और स्थिति सामान्य की. जिलाधिकारी हर जगह पर ऑक्सीजन की व्यवस्था कर रहे हैं. ऑक्सीजन की सप्लाई और रिफिलिंग का काम जारी है . ऑक्सीजन की जब जितनी जरूरत पड़ रही है व्यवस्था की जा रही है. स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि 120 MT से ज्यादा ऑक्सीजन की आपूर्ति रोज की जा रही है. उन्होंने आगे कहा कि पूरे देश में यह समस्या है, लोगों को धैर्य रखनी चाहिए. कई राज्यों में स्थिति बिहार से ज्यादा भयावह है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज