बिहार: डॉक्टरों ने पेश की मिसाल, कोविड पॉजिटिव महिला ने जुड़वां बच्चों को दिया जन्म

पटना में कोरोना पॉजिटिव महिला ने जुड़वां बच्चे को जन्म दिया.

पटना में कोरोना पॉजिटिव महिला ने जुड़वां बच्चे को जन्म दिया.

Patna News: आरोप के अनुसार पीएमसीएच में जांच के बाद जब गर्भवती महिला कोरोना पॉजिटिव निकलीं तो अस्पताल में इलाज से इनकार कर दिया गया.

  • Share this:
पटना. कोरोना संक्रमण काल के दौरान एक ओर जहां हमें मानवीय संवेदनाओं को तार-तार करती तस्वीरें दिखने को मिल रही हैं वहीं, कई ऐसे उदाहरण भी सामने आते रहे हैं जो इस संक्रमण के समय में भी हमें सुकून का अहसास भी करवाती हैं. ऐसा ही वाकया शुक्रवार को पटना में तब सामने आया जब बिहार के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच में सामने आया जब एक कोरोना पॉजिटिव गर्भवती महिला को प्रसव कराने के लिए इनकार कर दिया. वहीं, एक निजी अस्पताल में महिला ने दो जुड़वां बच्चों को सकुशल जन्म दिया.

क्या है मामला?- गोपालगंज जिले के जलालपुर की निवासी एक 38 वर्षीय गर्भवती महिला शुक्रवार को पटना पहुंची और पीएमसीएच में प्रसूति वार्ड में भर्ती हुई थी.  लेकिन कोरोना जांच के बाद रिपोर्ट आते ही महिला का इलाज बंद कर दिया गया. पति पंकज राय ने कहा कि वह बेहतर इलाज के लिए वो पटना पहुंचे थे और पीएमसीएच में पत्नी का प्रसव करवाना चाहते थे. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा है कि उन्हें पता नहीं था कि उसकी पत्नी रीना राय कोविड पॉजिटिव हैं.

PMCH ने प्रसव कराने से किया इनकार

आरोप के अनुसार पीएमसीएच में जांच के बाद जब कोरोना पॉजिटिव निकलीं तो अस्पताल में इलाज से इनकार कर दिया गया. इसके बाद उन्होंने इलाज के लिए कई अस्पतालों का चक्कर लगाया पर किसी ने भर्ती नहीं लिया. पति पंकज राय पटना के निजी अस्पताल में पत्नी को लेकर पहुंचे तो यहां अस्पताल प्रबंधन ने हालत गंभीर बताते हुए उसे भर्ती ले लिया. भर्ती होने के साथ ही महिला के ऑपरेशन की तैयारी शुरू हुई और महज कुछ घंट बाद ही मरीज रीना राय का डॉक्टरों ने सफलतापूर्वक प्रसव कराया और जुड़वां बच्चे ने जन्म लिया.
बच्चों के कोविड रिपोर्ट का इंतजार

जुड़वां बच्चे के जन्म के बाद बताया जा रहा है कि बच्चे में फिलहाल कोई परेशानी नहीं है और स्वस्थ है. बावजूद डॉक्टरों ने जन्म लेते ही जुड़वां बच्चे का सैम्पल लिया है और उसे आरटीपीसीआर के लिए जांच में भेजा है. उदयन अस्पताल के निदेशक नीरज कुमार की मानें तो शनिवार को सैम्पल की रिपोर्ट आ जायेगी उसके बाद पता चलेगा कि जुड़वां बच्चा कोरोना पॉजिटिव है या निगेटिव.

डॉक्टरों ने पेश की मानवता की मिसाल



अस्पताल के निदेशक की मानें तो बिहार का यह पहला मामला है जब कोई कोरोना पॉजिटिव महिला ने जुड़वां बच्चे को जन्म दिया है. उन्होंने कहा कि डॉक्टरों के लिए बड़ी चुनौती थी महिला का सुरक्षित प्रसव कराना क्योंकि महिला पॉजिटिव थी, लेकिन सफलतापूर्वक प्रसव करा लिया गया. इधर मरीज के पति पंकज राय ने भी अस्पताल प्रबंधन को बेहतर इलाज करने के लिए धन्यवाद दिया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज