कोरोना संक्रमित मरीज ने पटना AIIMS की पांचवीं मंजिल से छलांग लगाकर दी जान, आत्महत्या की चौथी वारदात

पटना एम्स से छलागं लगाकर कोरोना मरीज ने दी जान (फाइल फोटो)

पटना एम्स से छलागं लगाकर कोरोना मरीज ने दी जान (फाइल फोटो)

Corona Patient Suicide: मृतक रामचंद्र बेंगलूर के एक राइस मिल में लेबर कांट्रेक्टर का काम करते थे और 2 मई को ही बेंगलुरु से अपने घर बेगूसराय वापस लौटे थे.

  • Share this:

पटना. बड़ी खबर पटना एम्स (Patna AIIMS) से है, जहां अस्पताल के कोरोना वार्ड (Corona Ward) में भर्ती मरीज ने पांचवीं मंजिल से कूदकर आत्महत्या (Suicide) कर ली है. मृतक की पहचान बेगूसराय के चितौरा गांव निवासी रामचंद्र शाह के रूप में हुई है, जिनकी उम्र 55 साल बताई जा रही है. जानकारी के मुताबिक, 12 मई को उनकी तबीयत बिगड़ने के बाद परिजनों ने करोना जांच कराई थी. उनकी कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी. इसके बाद 18 मई को उन्हें पटना एम्स के कोरोना वार्ड में एडमिट किया गया था.

कोरोना वायरस से संक्रमित होने की वजह से रामचंद्र शाह डिप्रेशन में चल रहे थे. इस बीच उन्होंने अस्पताल की पांचवीं मंजिल पर शौचालय की खिड़की से कूदकर आत्महत्या कर ली. पटना एम्स में इस तरह का पहला मामला नहीं, बल्कि इससे पहले भी तीन घटनाएं हो चुकी हैं. इस घटना से पहले भी पटना एम्स में एक युवक ने छत से कूदकर जान दी थी, उसके बाद एक युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी. एक अन्‍य युवक ने पांचवीं मंजिल से कूदकर आत्महत्या कर ली थी.

Youtube Video

पहले भी हो चुकी है आत्महत्या की घटना
पटना एम्स में आत्महत्या की यह चौथी घटना है जिसमें रामचंद्र शाह ने पांचवीं मंजिल से कूदकर जान दी है. रामचंद्र के पुत्र गोपाल शाह ने बताया कि बुधवार की सुबह पिता से बातचीत हुई थी वह काफी घबराए हुए थे. उन्होंने कहा था कि वह अब जीवित नहीं रहेंगे और शाम में उन्होंने छलांग लगा दी. गंभीर हालत में डॉक्टरों ने उन्हें बचाने का प्रयास किया, लेकिन इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. रामचंद्र बेंगलूर के एक राइस मिल में लेबर कांट्रेक्टर का काम करते थे और 2 मई को ही बेंगलुरु से अपने घर वापस लौटे थे. 12 मई को उनकी तबीयत खराब हुई और कोरोना जांच के दौरान वो पॉजिटिव पाए गए थे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज