Covid 19: CM नीतीश ने दिया था 10 हजार का लक्ष्य लेकिन 5 हजार तक भी नहीं पहुंचा सैम्पल जांच का आंकड़ा
Patna News in Hindi

Covid 19: CM नीतीश ने दिया था 10 हजार का लक्ष्य लेकिन 5 हजार तक भी नहीं पहुंचा सैम्पल जांच का आंकड़ा
बिहार में कोरोना के मरीजों की संख्या 7 हजार के पास पहुंच गई है (सांकेतिक चित्र)

स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय की मानें तो कहीं भी संदिग्ध मरीजों की सूचना मिलती है तो उनका सैम्पल लिया जा रहा है जिसका नतीजा है कि 4000 के करीब आंकड़ा पहुंच गया है.

  • Share this:
पटना. बिहार में कोरोना (Corona Epidemic) के मरीजों के मिलने की रफ्तार में कमी नहीं आई हो लेकिन सैम्पल जांच की रफ्तार नहीं बढ़ पा रही है. स्वास्थ्य विभाग के दावों के बाद भी रोज 4000 से भी कम सैम्पल्स (Corona Samples) की जांच हो पा रही है जबकि राज्य के सभी 38 जिलों में सैम्पल जांच भी शुरू करा दी गयी है. बिहार में अब तक जहां कुल 134402 सैम्पल की जांच हुई है वहीं मरीजों की संख्या भी 7 हजार के करीब पहुंच गया है.

4 दिनों का आंकड़ा

शुरुआत में आरएमआरआई, एम्स और आईजीआईएमएस में सैम्पल की जांच शुरू की गई थी. ढाई महीनों में राज्य के सभी जिलों में जांच शुरू हो गयी है बावजूद अगर 4 दिनों के जांच का आंकड़ा देखें तो 4 हजार के पार भी नहीं पहुंच पाया है. राज्य में 13 जून को कुल 3543 सैम्पल की जांच हुई वहीं 14 जून को 3497 जबकि 15 जून को 3657 और 16 जून को 3619 सैम्पल की जांच हुई. विगत 7 दिनों पहले ही स्वास्थ्य मंत्री ने सभी सिविल सर्जन को निर्देश दिया था कि जांच की रफ्तार बढ़ाई जाए ताकि 15 जून तक 5 हजार से ज्यादा सैम्पल की जांच हो सके और जून के आखिरी तक 10 हजार का लक्ष्य भी पूरा किया जा सके.



इन मशीनों से हो रही है जांच
राज्य में जहां पहले आरटीपीसीआर मशीन, सीबी नेट मशीनों से जांच की जा रही थी वहीं केंद्र की मदद से कई मेडिकल कॉलेज अस्पतालों और जिला अस्पतालों में ट्रू नेट मशीनों की भी आपूर्ति करा दी गयी है साथ ही आरएमआरआई में आईसीएमआर के द्वारा 2 कोबास मशीनें भी मुहैया करा दी गयी, बावजूद तय लक्ष्य के मुताबिक रफ्तार में तेजी नहीं आ सकी है. स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय की मानें तो कहीं भी संदिग्ध मरीजों की सूचना मिलती है तो उनका सैम्पल लिया जा रहा है जिसका नतीजा है कि 4000 के करीब आंकड़ा पहुंच गया है.

रैंडमली जांच की व्यवस्था

इसका दूसरा पहलू ये भी है कि श्रमिक स्पेशल ट्रेन बन्द होने और क्वारेण्टाइन सेंटर्स बंद होने की वजह से भी नए मरीजों की पहचान करने में परेशानी हो रही है, हांलाकि क्वारेंटाइन सेंटर पर रह रहे मजदूरों का पहले ही रैंडमली सैम्पल भी लिया जा चुका है. सीएम नीतीश कुमार ने एक माह पहले ही स्वास्थ्य विभाग को प्रतिदिन 10 हजार सैम्पल जांच करने का निर्देश दिया था लेकिन फिलहाल यह सम्भव होता नहीं दिख रहा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading