COVID-19: डिप्टी सीएम सुशील मोदी का दावा- कोरोना से लड़ने में बिहार सबसे आगे
Patna News in Hindi

COVID-19: डिप्टी सीएम सुशील मोदी का दावा- कोरोना से लड़ने में बिहार सबसे आगे
बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने कहा कि इस समय उन्हें बना बनाया भोजन देना विकल्प नहीं है. (फाइल फोटो)

बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने दावा किया है कि आज कोरोना वायस से लड़ने में बिहार देश में सबसे आगे निकल गया है. उनका कहना है कि बिहार की कोरोना से लड़ने की नीति सबसे पहले झारखंड ने लागू की नतीजा सबके सामने है. अन्य राज्य भी बिहार की नीति लागू करने की तैयारी कर रहे है.

  • Share this:
पटना. बिहार के उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी (Deputy CM Sushil Kumar Modi) ने दावा किया है कि आज कोरोना (Coronavirus) से लड़ने में बिहार देश मे सबसे आगे निकल गया है. सुशील मोदी ने कहा कि प्रवासियों को 1-1 हजार की मदद, स्वास्थ्य कर्मियों को एक माह का अतिरिक्त वेतन (Extra Salary to Doctors, Nurses and Medical Staffs) और घर-घर जाकर प्लस पोलियो की तर्ज पर व्यापक सर्वेक्षण, स्क्रीनिंग कर संक्रमितों की पहचान करने वाला बिहार देश का पहला राज्य बन गया है. बिहार ने वैश्विक महामारी कोरोना का मजबूती से मुकाबला किया है. इसी का नतीजा है कि दूसरे राज्यों की तुलना में आबादी के अनुपात में बिहार में अब तक कोरोना संक्रमितों की संख्या मात्र 85 और मरने वालों की तादाद केवल 02 तक सीमित है. बिहार का अनुसरण करते हुए झारखंड ने योजना प्रारंभ की है- वहीं उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और उड़ीसा भी शुरूआत करने की तैयारी में हैं.

स्वास्थ्यकर्मियों को एक माह का अतिरिक्त वेतन

उन्होंने कहा कि बिहार देश का पहला राज्य है जिसने कोरोना की लड़ाई में सबसे पहले चिकित्सकों, नर्सों और अन्य स्वास्थ्य कर्मियों को एक माह का अतिरिक्त वेतन देने का निर्णय लिया. जिससे कोरोना योद्धाओं के मनोबल को बढ़ाने में सफलता मिली. चिकित्सकों और स्वास्थ्यकर्मियों की मेहनत का ही नतीजा रहा कि बिहार में अब तक 37 मरीज पूरी तरह से स्वस्थ्य होकर अपने घर लौट चुके हैं.



11 लाख प्रवासी बिहारियों के खातों में राशि भेजी
बिहार देश का पहला राज्य है जिसने दूसरे राज्यों में रुके प्रवासी बिहारियों के खाते में आपदा राहत कोष से विशेष सहायता के तौर पर 1-1 हजार रुपये भेजने का निर्णय लिया. अब तक आए करीब 16 लाख आवेदनों में से 11 लाख से ज्यादा प्रवासियों के खाते में राशि भेज दी गयी है.

मरीज के तीन किलोमीटर के दायरे में सघन स्क्रीनिंग

सुशील मोदी ने कहा कि इस मामले में भी बिहार देश का पहला राज्य है जिसने पल्स पोलियो की तर्ज पर राज्य के हाॅटस्पाॅट के तौर पर चिन्हित चार जिलों में 01 मार्च से पहले विदेश से आए व्यक्ति के गांवों को चिन्हित किया और मरीजों के घर के तीन किलोमीटर के दायरे की सघन स्क्रीनिंग की.

ये भी पढ़ें: कश्मीर में हुए आतंकी हमले में बिहार का लाल शहीद, गांव में पसरा मातमी सन्नाटा

लॉकडाउन में मछली पार्टी करने वाले शिक्षा मंत्री के स्टाफ समेत 25 के खिलाफ केस
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading