अपना शहर चुनें

States

बिहार में Corona को हराने की मुहिम! 2700 लोगों की टीम ने 4 जिलों में शुरू की डोर टू डोर स्क्रीनिंग

कर्नाटक में 38 नए केस.
कर्नाटक में 38 नए केस.

Fight Against COVID-19: बिहार में 2700 लोगों की टीम बनाई गई है. इसमें पारामेडिकल स्‍टाफ के अलावा पुलिसकर्मी और नगरपालिका के कर्मचारी भी शामिल हैं.

  • Share this:
पटना. बिहार में कोरोना मरीजों (Corona patients) में लगातार इजाफा हो रहा है. बुधवार को 12 घंटे के भीतर 6 नए मरीजों में कोरोना वायरस के संक्रमण की पुष्टि हुई. राज्य में मरीजों का आंकड़ा बढ़कर 72 पहुंच गया है. वैशाली का रहने वाला मरीज एम्स पटना में संदिग्ध के तौर पर भर्ती था. यानि कोरोना ने अब वैशाली में भी पांव पसार लिया है. इसके साथ ही बिहार के 12 जिले कोरोना संक्रमण (Corona infection) के खतरे के दायरे में हैं. इस बीच, बिहार में कोरोना महामारी की चपेट में आए इलाकों में डोर टू डोर स्क्रीनिंग का काम से शुरू कर दिया गया है. पहले चरण में राज्य के चार कोरोना प्रभावित जिले सीवान, बेगूसराय, नवादा और नालंदा में स्क्रीनिंग हो रहा है. दूसरे चरण में बाकी आठ जिलों में यह काम होगा.

2700 लोगों की बनाई गई टीम
स्वास्थ्य विभाग ने इसके लिए 2700 लोगों की टीम बनाई है. इसमें पारामेडिक्स स्टाफ, नगर पालिका और पुलिस की टीम शामिल है. दो चरण के अभियान में करीब चार लाख से अधिक घर स्कैन होने हैं. कोरोना मरीजों की पहचान के लिए ये टीम हर घर जाएगी और घर के मुखिया को एक प्रिंटेड फॉर्म दिया जाएगा.

घर के मुखिया को भरना होगा फॉर्म
इस फॉर्म में परिवार के मुखिया को लिखित में परिवार की कुछ अहम जानकारी देनी होगी. मसलन उनके घर मे कितने सदस्य हैं और कोई सदस्य पिछले एक महीने में विदेश से या कहीं अन्य जगह से तो नहीं आया है. घर के किसी सदस्य को सर्दी, खांसी, बुखार या सांस लेने में समस्या तो नहीं है. परिवार के सदस्यों की उम्र कितनी है. गांव, मोहल्ला, थाना जैसी जानकारी भी शामिल की गई है.



इसके साथ फॉर्म में एक कॉलम में कहा गया है कि यदि परिवार के किसी सदस्य को ऊपर दी गई कोई बीमारी होती है, तो परिवार के सदस्य यह जानकारी अपने जिले के सिविल सर्जन नियंत्रण कक्ष और जिला नियंत्रण कक्ष को तत्काल दें.

कोरोना को हराने की मुहिम
स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार के अनुसार, कोरोना के फैलाव को रोकने और इसे पूरी तरह समाप्त करने के लिए यह अभियान शुरू किया गया है. राज्य के लोगों का दायित्व है कि वे सरकार को मदद करें, ताकि कोरोना महामारी को जड़ से समाप्त किया जा सके.

ये भी पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज