Bihar Corona Update: बिहार में कोरोना के आंकड़े घटे, रिकवरी रेट बढ़ा, 24 घंटे में 13466 नए केस

यूपी के ग्रामीण इलाकों में कोरोना संक्रमण तेजी से फैलता दिख रहा है.. (सांकेतिक तस्वीर)

Bihar Corona Update: बिहार में 24 घंटों के दौरान कोरोना के 13466 नए मामले सामने आने के बाद एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़कर 1,15,066 पर पहुंची. राजधानी पटना में सबसे ज्यादा मामले मिले. एक दिन में 2410 लोगों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है.

  • Share this:
पटना. बिहार में पिछले 24 घंटों के दौरान कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में कमी दर्ज की गई है. एक दिन में 13466 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है, वहीं इस अवधि के दौरान 62 लोगों की मौत हुई है. सबसे ज्यादा 2410 मरीज पटना जिले में मिले हैं, जबकि बेगूसराय में 488, भागलपुर में 512, गया में 517, मुजफ्फरपुर में 630, नालन्दा में 548, मुंगेर में 603, वैशाली में 509, वेस्ट चम्पारण में 537, सीवान में 425, सारण में 509, पूर्णिया 459 और समस्तीपुर में 378 मरीजों में कोरोना की पुष्टि हुई है.

बिहार में अब एक्टिव केस की संख्या बढ़कर 1,15,066  तक पहुंच गई है, जबकि पटना जिले में यह संख्या 22330 है. मौत के आंकड़ों की बात करें तो पिछले 24 घंटों के दौरान पटना एम्स में 12 मरीजों की मौत हुई है, जबकि पीएमसीएच में भी 7 मरीजों की जान गई है. अच्छी बात ये है कि राज्य में रिकवरी दर में 1 प्रतिशत इजाफा हुआ है और रिकवरी रेट बढ़कर 79.16 तक पहुंच गया है. सिविल सर्जन ऑफिस में कार्यरत डॉक्टर अनुपमा सिंह की मानें तो टेस्टिंग 1 लाख से ज्यादा हो रहा है. ऐसे में अगर पॉजिटिव केसेज कम हो रहे हैं तो ये अच्छा संकेत है और रिकवरी रेट में धीरे-धीरे सुधार होना बता रहा है कि लोग जागरूक हो रहे हैं.



इधर, न्यूज 18 की खबर का एक बड़ा असर देखने को मिला है जहां पहले सरकार एक्शन में आई और निजी एम्बुलेंस की दरें तय कर दी गईं. इसके बाद पटना जिला प्रशासन भी एक्शन में गया है. पटना जिला प्रशासन ने मनमाना किराया लेने के आरोप में निजी एम्बुलेंस वालों के खिलाफ गांधी मैदान थाने में केस दर्ज कराया है. शिकायत मिलने के बाद एम्बुलेंस मालिक और चालक के खिलाफ केस दर्ज हुआ है. आरोप है कि बिना ऑक्सीजन के पटना से बेगूसराय का एम्बुलेंस वालों ने 16000 रुपए किराया मांगा था.

वहीं बना अनुमति के कोविड मरीजों को इलाज करनेवाले तीन अस्पतालों के खिलाफ भी धावा दल ने कार्रवाई की है. इन अस्पतालों को नोटिस भेजा गया है, साथ ही एफआईआर की कार्रवाई की जा रही है. पटना के सारांश अस्पताल, सैम्फोर्ड अस्पताल और श्री इमरजेंसी हॉस्पिटल के खिलाफ प्रशासन ने कार्रवाई की है. धावा दल ने 5 अस्पतालों का  निरीक्षण किया, जिसमें सभी पकड़ में आए.