• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • PATNA DECISION OF YOGI GOVERNMENT INCREASED TENSION OF BJP LEADERS REQUEST TO CM NITISH FOR INTERVENE BRVJ

योगी सरकार के फैसले ने बढ़ाई बिहार भाजपा की टेंशन! CM नीतीश से दखल देने की मांग, जानें पूरा मामला

योगी सरकार के फैसले से बिहार भाजपा के कई नेता परेशान( फाइल फोटो)

पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद ने सीएम नीतीश कुमार, जल संसाधन मंत्री और विभाग के प्रधान सचिव को लिखे पत्र में कहा है कि यूपी की एजेंसी सीमावर्ती नदी में चैनल का निर्माण करा रही है, जिससे उत्तर प्रदेश की नदियों की मुख्य धारा बिहार की गंडक नदी में हो जाएगी. इससे तटबंध पर दबाव बढ़ेगा.

  • Share this:
पटना. कोरोना महामारी के दौरान गंगा में बहते शवों की खबरों को लेकर बिहार और उत्‍तर प्रदेश की सरकारों के बीच 'सियासी टकराहट' भले ही देखने को न मिली हो, लेकिन एक अन्य मामले ने तनाव बढ़ा दिया है. इस ताजा प्रकरण के पीछे यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का एक फैसला है, जिसके विरोध में बिहार के सियासी जमात में आवाज मुखर होने लगी है. बिहार के चंपारण के भाजपा नेताओं और आम लोगों में यूपी सरकार के एक फैसले से बेचैनी और नाराजगी है. हालांकि, मामला कोरोना का नहीं, बल्कि नदी पर चैनल निर्माण से जुड़ा हुआ है.

दरअसल, भाजपा विधायक और पूर्व मंत्री विनय बिहारी के बाद राज्‍य के पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद ने बिहार और उत्तर प्रदेश की सीमा पर चैनल का निर्माण कर नदी की मुख्य धारा को बदलने के विरोध में आवाज बुलंद की है. मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने इसको लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, जल संसाधन मंत्री संजय झा और विभाग के प्रधान सचिव को पत्र लिखकर चैनल निर्माण कार्य बंद कराने का अनुरोध किया है.

भाजपा नेताओं ने सीएम नीतीश को लिखा पत्र
पर्यटन मंत्री ने अपने पत्र में लिखा है कि उत्तर प्रदेश की एजेंसी द्वारा चैनल का निर्माण किया जा रहा है, जिससे उत्तर प्रदेश की नदियों की मुख्य धारा बिहार की गंडक नदी में हो जाएगी. इससे चंपारण तटबंध पर दबाव बढ़ेगा, जिसका असर योगापट्टी, बैरिया तथा नौतन प्रखंड में पड़ेगा. बाढ़ की तबाही में जिला मुख्यालय बेतिया भी प्रभावित हो सकता है.

योगी सरकार के फैसले पर समीक्षा की अपील
पर्यटन मंत्री मंत्री नारायण प्रसाद ने आगे लिखा है कि बेतिया के एसडीओ द्वारा चैनल निर्माण पर रोक के बाद रात में काम कराया जा रहा है. इससे जनता में काफी आक्रोश है. अगर सरकार ने इस संदर्भ में कोई निर्णय लिया है तो उसकी समीक्षा होनी चाहिए. बता दें कि इससे पहले विनय बिहारी ने तो इस मुद्दे पर विधानसभा से इस्‍तीफा देने तक की चेतावनी दे दी है.

चंपारण के भाजपा नेताओं में इस बात का डर
गौरतलब है कि इस योजना का असर बिहार के पश्चिम चंपारण (बेतिया) जिले के कई प्रखंडों के दर्जनों गांवों पर पड़ सकता है. इन गांवों के लोगों का कहना है कि यूपी के कई गांवों में हर साल बाढ़ और कटाव से तबाही मचती है. अब जब यूपी सरकार ऐसा चैनल बना रही है, जिससे यह तबाही अब बिहार के हिस्‍से में आ सकती है.

चंपारण में भाजपा की मजबूत पकड़
भाजपा विधायक विनय बिहारी ने पिछले दिनों दावा किया था कि इस चैनल के बनने से योगापट्टी प्रखंड के दर्जनों गांवों को काफी नुकसान होगा. भाजपा नेताओं द्वारा विरोध की वजह यह भी है कि चंपारण भाजपा का गढ़ है. पर्यटन मंत्री के अलावा उपमुख्‍यमंत्री रेणू देवी और भाजपा के प्रदेश अध्‍यक्ष संजय जायसवाल भी चंपारण से ही आते हैं. ऐसे में भाजपा की परेशानी समझी जा सकती है.
Published by:Vijay jha
First published: