लाइव टीवी

बिहारः पटना को जल-प्रलय से बचाएगा ये 'फूल-प्रूफ प्लान', डिप्टी सीएम की बैठक में हुए कई फैसले

Neel kamal | News18 Bihar
Updated: December 10, 2019, 7:49 PM IST
बिहारः पटना को जल-प्रलय से बचाएगा ये 'फूल-प्रूफ प्लान', डिप्टी सीएम की बैठक में हुए कई फैसले
पटना को जलजमाव से बचाने के लिए डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने सचिवालय में की बैठक.

भारी बारिश (Heavy Rain) की वजह से पटना (Patna) में दोबारा सितंबर के जलजमाव जैसी नारकीय स्थिति पैदा न हो, इसके लिए डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) ने सचिवालय में विभिन्न विभागों के मंत्रियों और अधिकारियों के साथ बैठक कर कार्ययोजना पर किया विचार.

  • Share this:
 

पटना. सितंबर के महीने में बेमौसम बारिश (Heavy Rain) की वजह से नरक बने पटना की स्थिति से बिहार सरकार (Bihar Government) की काफी किरकिरी हुई थी. राजधानी पटना (Patna) के कई इलाके 15 दिनों तक जलमग्न रहे. वीआईपी इलाका कहे जाने वाले राजेंद्र नगर की स्थिति और भी भयावह थी. प्रदेश के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी (Sushil Kumar Modi) का आवास भी उसी राजेंद्र नगर में है, जहां बारिश से बाढ़ जैसी स्थिति पैदा हो गई थी. जलजमाव के बीच सरकार की बदइंतजामी और प्रशासन की लापरवाही के खिलाफ लोगों ने जमकर अपनी भड़ास निकाली थी. अगले साल बारिश की वजह से ऐसी स्थिति न आए, इसके लिए सरकार ने अभी से प्रयास शुरू कर दिए हैं.

डिप्टी सीएम ने ली बैठक
पटना में अतिवृष्टि के बाद और असमय बारिश होने पर सितंबर 2019 जैसे हालात पैदा न हों, इसके लिए बिहार सरकार ने तैयारी शुरू कर दी है. मंगलवार को डिप्टी सीएम सुशील मोदी ने इसी कार्य योजना को लेकर सचिवालय में एक बैठक की. इसमें कई प्रकार के निर्णय लिए गए. बैठक में नगर विकास मंत्री सुरेश शर्मा, उद्योग मंत्री श्याम रजक, विधायक अरुण कुमार सिन्हा, मेयर सीता साहू, नगर विकास सचिव आनंद किशोर, बुडको के एमडी चन्द्रशेखर सिंह और नगर आयुक्त अमित कुमार पाण्डेय मौजूद रहे.

पटना को बचाने का प्लान
डिप्टी सीएम ने बैठक में पटना के सभी सम्प हाउस की स्थिति की समीक्षा की. बैठक में अधिकारियों ने बताया कि बारिश के बाद पटना को जलजमाव से निजात दिलाने के साथ-साथ जल निकासी की व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए वृहत कार्ययोजना बनाई गई है. दीर्घकालिक योजना के तहत 130 वर्ग किमी क्षेत्र के ड्रेनेज सिस्टम की प्लानिंग के लिए ग्लोबल टेंडर मंगाया गया है. पटना के सभी 39 सम्प हाउस को पानी में डूबने से बचाने के लिए ऊंची दीवार बनाने, पम्प गृह की मरम्मत कराने आदि के लिए टेंडर मंगाए गए हैं.

जलनिकासी के लिए खरीदेंगे जेनरेटरबिजली नहीं रहने पर भी सम्प हाउस चालू रहें, इसके लिए उच्च क्षमता के साइलेंट जेनरेटर सेट लगाए जाएंगे. ऐसे इलाके जहां सम्प हाउस नहीं है, अतिरिक्त ट्राॅली आधारित 40 डीजल पम्प सेट खरीदे जाएंगे. ये जेनरेटर अगले साल मई के पहले खरीदे जाएंगे, ताकि जलजमाव होने पर तेजी से पानी को निकाला जा सके. डेडिकेटेड फीडर के साथ ही सभी सम्प हाउस के लिए CCTV कैमरे व कम्प्यूटर प्रणाली से जुड़ा नियंत्रण कक्ष बनेगा, ताकि एक जगह से उनकी निगरानी की जा सके.

साफ होंगे पटना के सभी नाले
बैठक में बताया गया कि पटना नगर निगम अगले साल 1 अप्रैल से पटना के कुर्जी, सैदपुर, मंदिरी आदि सभी 9 बड़े नालों व उनसे जुड़ी नालियों की  सफाई कराएगा. सभी बड़े नालों के लिए एक-एक पदाधिकारी को प्रभारी बनाया गया है, जो सफाई, नाला की चौड़ाई, गहराई, अतिक्रमण की स्थिति और पक्कीकरण  लिए जिम्मेवार होंगे. इसके साथ ही सभी मेनहोल व कैचपिट का सर्वेक्षण कर नक्शा तैयार किया जाएगा.

ये भी पढ़ें -

नागरिक संशोधन बिल का विरोध करेगी RJD, तेजस्वी बोले- इधर- उधर मत कीजिए नीतीश जी, नहीं तो...

बक्सर ऑनर किलिंग: बेटी के आचरण से तंग परिवार ने रची हत्या की साजिश, पिता ने मारी थी गोली

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 10, 2019, 7:49 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर