लाइव टीवी

पटना की हवा खराब बताने वाली रिपोर्ट पर बोले डिप्टी सीएम- लोगों को डराएं नहीं, सुधर रहे हैं हालात

Neel kamal | News18 Bihar
Updated: November 23, 2019, 9:37 PM IST
पटना की हवा खराब बताने वाली रिपोर्ट पर बोले डिप्टी सीएम- लोगों को डराएं नहीं, सुधर रहे हैं हालात
पटना की हवा की गुणवत्ता संबंधी रिपोर्ट का विमोचन करते डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी व अन्य.

पटना (Patna) में वायु प्रदूषण (Air Pollution) और आने वाले 10 साल में हवा की खराबी (Patna Air Quality) को लेकर पेश रिपोर्ट पर डिप्टी सीएम सुशील मोदी (Deputy CM Sushil Modi) ने दिया बयान. वैज्ञानिक तरीके से रिपोर्ट तैयार करने की दी सलाह.

  • Share this:
पटना. क्या पटना की हवा (Patna Air Quality) वास्तव में खराब है? क्या आने वाले दस साल में हवा और भी खराब होगी? पटना की हवा को ठीक करने के लिए क्या ढाई हजार करोड़ रुपए खर्च करने होंगे? इन सारे तथ्यों को लेकर शनिवार को पटना में 'कॉम्प्रीहेंसिव क्लीन एयर एक्शन प्लान फॉर दी सिटी ऑफ पटना' नामक रिपोर्ट (Comprehensive Clean Air Action Plan for the City of Patna) पेश की गई. पटना की वायु गुणवत्ता पर आधारित इस शोधपरक रिपोर्ट में आने वाले 10 वर्षों में हवा की स्थिति और परिणाम के बारे में बताया गया है. लेकिन डिप्टी सीएम सह प्रदेश के पर्यावरण मंत्री सुशील कुमार मोदी (Deputy CM Sushil Modi) का मानना है कि पिछले 3 साल में इस स्थिति में सुधार आया है. ऐसे में पटनावासियों को डरने की जरूरत नहीं है. उन्होंने यह रिपोर्ट तैयार करने वालों को सलाह भी दी कि लोगों को डराएं नहीं, बल्कि वैज्ञानिक तरीके से रिपोर्ट तैयार करें.

कई संस्थाओं ने मिलकर तैयार की है रिपोर्ट
पटना के एयर क्वालिटी पर किए गए शोध के बाद तैयार यह रिपोर्ट आद्री, स्टेप अर्बन मिशन इंफो, शक्ति सस्टेनेबल एनर्जी फाउंडेशन जैसी कई संस्थाओं ने मिलकर तैयार की है. डिप्टी सीएम ने शनिवार को इसका विमोचन किया. इस मौके पर उन्होंने कहा कि पटना की हवा की गुणवत्ता में पिछले 4 साल में लगातार सुधार हुआ है. 4 साल पहले जो हालत थी, अब वैसी नहीं है, इसलिए पटना के लोगों को पैनिक होने की जरूरत नहीं है. रिपोर्ट में विभिन्न अस्पतालों के रिकॉर्ड के आधार पर लंग्स-इंफेक्शन की वजह से मौत के जिक्र पर डिप्टी सीएम ने कहा कि रिपोर्ट वैज्ञानिक तरीके से तैयार की जानी चाहिए. हॉस्पिटल के रिकॉर्ड से काम नहीं चलेगा, बल्कि फेफड़ों में इंफेक्शन के कई और भी कारण हो सकते हैं. उन्होंने कहा कि रिपोर्ट बता रही है कि दिन के समय वायु गुणवत्ता सही होती है. साथ ही वेरी पुअर एयर क्वालिटी घट रही है और गुड एयर क्वालिटी बढ़ रही है.

Deputy CM Sushil Modi says on Patna Air Quality Report- Do not scare people, things are improving
आद्री, स्टेप अर्बन मिशन इंफो, शक्ति सस्टेनेबल एनर्जी फाउंडेशन जैसी संस्थाओं ने शोध के बाद रिपोर्ट तैयार की है.


सरकारी इंतजामों की दी जानकारी
डिप्टी सीएम ने कार्यक्रम में कहा कि वायु प्रदूषण को कम करने के लिए आम जनों को भी आगे आना चाहिए. मीडिया को सलाह दी कि वह लोगों को जागरूक करे. उन्होंने बताया कि बिहार सरकार ने पटना में 15 साल पुराने वाहनों के परिचालन पर रोक लगा दी है. तीन पहिया वाहनों को पेट्रोल-डीजल की जगह सीएनजी से चलाने की योजना में 40 हजार तक की सब्सिडी दी जा रही है. 12वीं पास छात्रों को भी पॉल्यूशन कंट्रोल सेंटर खोलने का निर्णय कैबिनेट ने लिया है, ताकि वाहनों के प्रदूषण जांच केंद्रों की संख्या बढ़ सके. हर वाहन के लिए इन केंद्रों द्वारा जारी प्रमाणपत्र लेना अनिवार्य कर दिया गया है. सरकार की इन कोशिशों से आने वाले दिनों में प्रदूषण पर काफी हद तक नियंत्रण पाया जा सकेगा. कार्यक्रम के दौरान प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अध्यक्ष अशोक घोष ने बिहार सरकार द्वारा 10 इलेक्ट्रिक कारों की खरीद, पटना और प्रदेश के कुछ अन्य जिलों में एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन खोलने की जानकारी दी.

ये भी पढ़ें -
Loading...

'BJP के कुशल नेतृव ने सारे पासे उल्टे कर दिए', फडणवीस सरकार को JDU का समर्थन

बिहार: आठ विश्वविद्यालयों के रजिस्ट्रार के वेतन पर रोक, जानें क्या है मामला

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 23, 2019, 9:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...