कोरोना काल में किया 125 लोगों का दाह-संस्कार, अब बिहार के ब्लड मैन को Dettol का सलाम

बिहार में ब्लड मैन के नाम से विख्यात मुकेश हिसारिया

बिहार में ब्लड मैन के नाम से विख्यात मुकेश हिसारिया

Bihar Blood Man: पटना सहित पूरे बिहार में ब्लड मैन के नाम से विख्यात मुकेश हिसारिया पेशे से व्यवसायी हैं लेकिन अपने सामाजिक काम के लिए उन्हें ज्यादा जाना जाता है. उनको बिग बी से लेकर किंग खान तक सम्मानित कर चुके हैं.

  • Share this:

पटना. कोरोना काल और लॉकडाउन (Lockdown) में लोगों की मदद करने वाले बिहार के ब्लडमैन के नाम से विख्यात मुकेश हिसारिया (Bloodman Mukesh Hisaria) को डेटॉल ने सैल्यूट किया है. अगले छह महीने तक डेटॉल अपने उत्पादों पर मुकेश हिसारिया की फोटो लगाएगा. मुकेश को लोग ब्लडमैन के नाम से जानते हैं. पटना के इस ब्लडमैन ने कोरोना काल में अपनी टीम की मदद से कई ऐसे कई लोगों के आंसू पोंछे जिनका कोई नहीं था या जिनके अपनों ने साथ छोड़ दिया था.

ऐसे विकट समय मे मुकेश ने कोरोना पीड़ितों की जहां सेवा की वही कोरोना से मृत 125 लोगो का वैदिक रिवाज से दाह संस्कार भी करवाया. डेटॉल ने मुकेश को इसी काम के कारण आवर प्रोटेक्टर सम्मान' से नवाजा है. दरअसल कोरोना महामारी के कारण सभी लोग डरे हुए थे और कोरोना से मौत होने के बाद घर परिवार वाले दाह संस्कार में नहीं पहुंच पा रहे थे, ऐसे में मुकेश ने कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में 125 से अधिक शवों का सम्मान के साथ अंतिम संस्कार करवाया. ब्लडमैन मुकेश ने न्यूज़ 18 से बातचीत में बताया कि उन्हें एक फोन कॉल आया और बताया गया कि आपके बेहतर कार्य के लिए आपको डेटॉल द्वारा सम्मानित किया जाएगा और आपके चेहरे का इस्तेमाल डिटॉल हैंड वॉश पर किया जाएगा.

Dettol के प्रोडक्ट पर बिहार के ब्लड मैन मुकेश हिसारिया की तस्वीर

थैलेसीमिया पीड़ित बच्चों की इलाज का खर्च उठाए कंपनी
मुकेश ने बताया कि डेटॉल ने उनसे कहा कि आने वाले अगले 6 महीने तक उनकी तस्वीर को कोई और कंपनी इस्तेमाल नहीं कर सकती. इसके लिए एग्रीमेंट भी करवाया गया. मुकेश हिसारिया ने डेटॉल कंपनी से इसके एवज में कुछ देने की मांग की. मुकेश ने बताया कि उन्होंने मांग की है कि कंपनी थैलेसीमिया पीड़ित चार बच्चों का वेल्लोर में रहने का खर्च उठाए जिन चार बच्चों का बोन मैरो ट्रांसप्लांट होना है क्योंकि ऑपरेशन के बाद बच्चों को 6 महीने वहां रहना होता है जिसमें करीब 50000 से ₹100000 खर्च होते हैं.

मुकेश ने न्यूज़ 18 के माध्यम से भी डेटॉल कंपनी से अनुरोध किया है कि कंपनी अगर इसमें सहायता करेगी तो बिहार के बच्चों को लाभ मिल सकेगा और उन्हें हर 15 दिन पर खून की जरूरत नहीं पड़ेगी. मुकेश हिसारिया पेशे से बिजनेसमैन हैं और काफी लंबे समय से सामाजिक कार्य में जुड़े हैं. वे कई सालों से लोगों की सहायता करते आ रहे हैं. उनके सामाजिक कार्यों के कारण ही उन्हें उन्हें अमिताभ बच्चन ने 2013 में कौन बनेगा करोड़पति में विशेष रूप से बुलाकर सम्मानित किया था. फिल्म स्टार शाहरुख खान ने भी 2016 में अपनी फिल्म के प्रमोशन में बुलाकर सम्मानित किया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज