Home /News /bihar /

DGP ने मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण मामले की CBI जांच से किया इंकार

DGP ने मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण मामले की CBI जांच से किया इंकार

डीजीपी एस के द्विवेदी ( फाइल फोटो)

डीजीपी एस के द्विवेदी ( फाइल फोटो)

बिहार पुलिस के डीजीपी के एस द्विवेदी ने मुजफ्फरपुर यौन शोषण मामले में सीबीआई जांच से इंकार किया है. उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर सरकार गंभीर है और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है.

    बिहार के डीजीपी के एस द्विवेदी ने मुजफ्फरपुर बालिका गृह में यौन शोषण मामले की सीबीआई जांच से इंकार किया है. मंगलवार को मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि बिहार पुलिस पूरे मामले की सीबीआई जांच की जरूरत नहीं महसूस करती है.

    उन्होंने कहा कि 44 लड़कियों में से 42 का मेडिकल टेस्ट कराया गया है, जिनमें 29 लड़कियों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई है. उन्होंने कहा कि मुजफ्फरपुर बालिका गृह में यौन शोषण मामले में 11 लोगों को अभियुक्त बनाया गया है और अब तक 10 लोग गिरफ्तार किये जा चुके हैं. अभियुक्त दिलीप वर्मा अभी भी फरार है.

    डीजीपी ने कहा कि मुजफ्फरपुर मामले में 31 मई को केस दर्ज किया गया था और 2 जून को आठ आरोपियों को गिरफ्तार किया गया. पीड़ित लड़कियों को फिलहाल पटना और मोकामा में रखा गया है. उन्होंने कहा कि बाकी अन्य जगहों के मामलों में पुलिस मुख्यालय की पहल पर सीआईडी जांच कर रही है. उन्होंने कहा कि छपरा से भी यौन शोषण का मामले में तीन में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया जा चुका है.

    के एस द्विवेदी ने कहा कि बालिका गृह में यौन शोषण मामले को लेकर सरकार काफी गंभीर है. भविष्य में ऐसी घटनाएं ना हों, इसके लिए तमाम कदम उठाये जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि बालिका गृहों में सुधार लाने के मकसद से ही सोशल ऑडिट कराया गया था.

    क्या है मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण मामला?

    पिछले एक जून को इस पूरे मामले के खुलासा तब हुआ था, जब समाज कल्याण विभाग के आदेश पर बालिका गृह चलाने वाले एनजीओ सेवा संकल्प एवं विकास समिति के संचालकों पर मुजफ्फरपुर के सामाजिक सुरक्षा कोषांग के सहायक निदेशक ने पॉक्सो और यौन उत्पीड़न की धाराओं में केस दर्ज कराया गया था. इससे पहले मुम्बई की संस्था टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ सोशल साइसेंस की टीम ने बालिका गृह के सोशल ऑडिट रिपोर्ट में यौन शोषण का खुलासा किया था.

    इस मामले में सेवा संकल्प एवं विकास समिति के संचालक ब्रजेश ठाकुर समेत 10 आरोपी जेल में हैं जबकि एक फरार है. इनमें आठ महिलाएं भी है. बालिका गृह यौन शोषण मामले में कई बड़े सफेदपोश और रसूखदार पुलिस की रडार पर हैं. ( इनपुट- संजय कुमार)

    ये भी पढ़ें- लड़कियों के शरीर पर मिले जलने-कटने के निशान, रेप से पहले लगाया जाता था नशे का इंजेक्शन

    ये भी पढ़ें- अल्पावास गृह यौन शोषण केस : तेजस्वी ने सरकार पर लगाया आरोपियों को बचाने का आरोप

    Tags: Bihar News, PATNA NEWS

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर