Covid 19: कोरोना विस्फोट के बाद बढ़ाई गई आइसोलेशन सेंटर्स की संख्या, जानें किस सेंटर पर है कितनी क्षमता
Patna News in Hindi

Covid 19: कोरोना विस्फोट के बाद बढ़ाई गई आइसोलेशन सेंटर्स की संख्या, जानें किस सेंटर पर है कितनी क्षमता
पटना के एक आइसोलेशन सेंटर का जायजा लेते डीएम

डीएम कुमार रवि ने बताया कि कोरोना संक्रमितों की जांच और कोरोना पॉजिटिव मामले में संक्रमित व्यक्ति को आइसोलेशन सेंटर में आवश्यक चिकित्सीय लाभ मिल पाए इसके लिए पदाधिकारी की प्रतिनियुक्ति की गई है

  • Share this:
पटना. बिहार में कोविड-19 (Covid-19) के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए राज्य सरकार लगातार आइसोलेशन सेंटरों (Corona Isolation Center) की संख्या बढ़ा रही है. बिहार में कोरोना से संक्रमित मरीजों की संख्या 12 हजार के पास पहुंच गई है खास बात यह है कि इस बीमारी ने पटना (Corona In Patna) को भी अब तेजी से अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया है, ऐसे में सरकार के समक्ष चुनौती इस बीमारी से निपटने को लेकर है.

सबसे अधिक बेड एनएमसीएच में

पटना में सरकार द्वारा कोरोना के मरीजों के लिए कई जगहों पर आइसोलेशन सेंटर्स का निर्माण किया गया है. इसको लेकर जिला प्रशासन द्वारा आइसोलेशन सेंटर्स की सूची और वहां रहने के लिए मरीजों की क्षमता निर्धारित की गई है. सबसे ज्यादा 447 बेड की व्यवस्था एनएमसीएच में है. दूसरे नंबर पर है ईएसआई बिहटा 304 बेड, तीसरे नंबर पर है डिस्ट्रिक्ट एजुकेशन एंड ट्रेनिंग सेंटर मसौढी और विक्रम दोनों जगहों पर 250-250 बेड हैं. इसके बाद है दीप नारायण इंस्टीट्यूट शेखपुरा जहां 244 बेड हैं. एनएसएमसीएच बिहटा पटना में 235 बेड, पटना पीएमसीएच में 192 बेड, एम्स पटना में 175 बेड की व्यवस्था कई गई है. पाटलिपुत्रा स्पोर्ट्स कंपलेक्स में 100 बेड है जबकि बामेती बीएमपी पटना में 84 बेड, होटल पाटलिपुत्र अशोका पटना में 85 बेड, सब डिविजनल हॉस्पिटल दानापुर में 24 बेड, सब डिविजनल हॉस्पिटल मसौढ़ी और बाढ़ में 30- 30 बेड के आइसोलेशन सेंटर्स हैं.



सिविल सर्जन को मिला टास्क
डीएम कुमार रवि ने बताया कि कोरोना संक्रमितों की जांच और कोरोना पॉजिटिव मामले में संक्रमित व्यक्ति को आइसोलेशन सेंटर में आवश्यक चिकित्सीय लाभ मिल पाए इसके लिए पदाधिकारी की प्रतिनियुक्ति की गई है. आइसोलेशन केंद्र में भर्ती संक्रमित व्यक्ति के नियमित चिकित्सीय जांच, पी पी ई कीट, मास्क एवं सैनिटाइजर की उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश सिविल सर्जन को दिया गया है.

डिस्चार्ज होने वाले मरीजों को 7 दिन रहना होगा होम क्वारेंटाइन

डीएम ने बताया कि आइसोलेशन केंद्र से संबंधित चिकित्सा पदाधिकारी, प्रतिनियुक्त पदाधिकारी डिस्चार्ज होने वाले व्यक्तियों के संबंध में सभी प्रोटोकॉल का अनुपालन सुनिश्चित कराएंगे, साथ ही डिस्चार्ज होने के उपरांत 7 दिनों तक का होम क्वॉरेंटाइन रहने हेतु निर्देशित करते हुए उसका अनुश्रवण करना भी सुनिश्चित करेंगे. आइसोलेशन केंद्रों का प्रतिदिन जांच कर उस केंद्र पर आने वाले संक्रमित डिस्चार्ज होने वाले व्यक्तियों आइसोलेशन केंद्र की साफ-सफाई, संक्रमितो के लिए नियमित रूप से भोजन की व्यवस्था ,चिकित्सकों की उपस्थिति एवं दवा की उपलब्धता के संबंध में विहित प्रपत्र में प्रतिवेदन उप विकास आयुक्त पटना को उपलब्ध कराना सुनिश्चित करेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading