लाइव टीवी

बिहार: आज से शुक्रवार तक बंद रहेंगी दवा की दुकानें, जानें कहां मिलेंगी दवाएं
Patna News in Hindi

News18 Bihar
Updated: January 22, 2020, 8:15 AM IST
बिहार: आज से शुक्रवार तक बंद रहेंगी दवा की दुकानें, जानें कहां मिलेंगी दवाएं
बिहार में आज से तीन दिनों के लिए बंद रहेंगी दवा की दुकानें. (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)

बिहार सरकार (Bihar Government) ने हर दवा दुकान के लिए एक फार्मासिस्ट (Pharmacist) की नियुक्ति अनिवार्य कर दी है, जबकि दवा दुकानदार इससे छूट चाहते हैं.

  • Share this:
पटना. दवा दुकानों में फार्मासिस्ट (Pharmacist) की अनिवार्य नियुक्ति में छूट की मांग और दवा की ऑनलाइन बिक्री के विरोध में बिहार की सभी दवा दुकानें बुधवार से शुक्रवार तक बंद रहेंगी. हालांकि, बिहार केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन (BCDA) ने कहा है कि निजी एवं सरकारी अस्पताल परिसरों में दवा की दुकानें खुली रहेंगी और इस बंद का इमरजेंसी सेवा पर असर नहीं पड़ेगा.

बता दें कि सरकार ने हर दवा दुकान के लिए एक फार्मासिस्ट की नियुक्ति अनिवार्य कर दी है, जबकि दवा दुकानदार फार्मासिस्ट की नियुक्ति में छूट चाहते हैं. इस मुख्य मांग के साथ को लेकर बिहार केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन (BCDA) और स्वास्थ्य विभाग के बीच वार्ता का प्रयास विफल हो गया. दवा दुकानदारों का कहना है कि राज्य में वर्तमान में सात हजार फार्मासिस्ट हैं, जबकि 40 हजार से अधिक दवा दुकानें हैं.

ये हैं मांग
BCDA की प्रमुख मांगों में फार्मासिस्ट की समस्या के समाधान होने तक पूर्व की व्यवस्था लागू रहने देने, दवा दुकानदारों का लाइसेंस रद्द करने की कार्रवाई पर रोक, दवा दुकानों की निरीक्षण में एकरूपता और पारदर्शिता रहने, विभागीय निरीक्षण के दौरान उत्पीड़न पर रोक लगाने जैसी मांगे भी शामिल हैं. एसोसिएशन का कहना है कि बिहार सरकार को भी दूसरे राज्यों की तरह दवा दुकानदारों को विशेष कोर्स कराकर दुकान चलाने की अनुमति प्रदान करनी चाहिए. संघ का कहा है कि अन्य राज्यों में इस तरह की समस्या है, लेकिन ज्यादातर राज्यों ने इस समस्या का समाधान निकाल लिया है, पर बिहार सरकार दवा दुकानों को डराने की कोशिश कर रही है.

दी यह चेतावनी
गौरतलब है कि स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारियों ने BCDA को बातचीत के लिए बुलाया था, लेकिन संघ के सदस्यों ने इनकार कर दिया. संघ ने चेतावनी दी है कि अगर दवा दुकानदारों के साथ किसी प्रकार की जोर-जबरदस्ती की गई या अनावश्यक दबाव बनाने का प्रयास किया गया तो यह हड़ताल अनिश्चितकालीन भी हो सकती है.

ये भी पढ़ेंCM फेस के लिए कांग्रेस ने मीरा कुमार का नाम आगे क्यों किया? पढ़ें 5 वजह

CAA-NRC का विरोध कर बोलीं वामपंथी नेता - जो सेक्यूलर नहीं वो नेपाल चले जाएं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 22, 2020, 7:31 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर