बिहार: DSP के रिश्तेदार की ठसक! बिहार पुलिस मुख्यालय की स्टिकर लगी गाड़ी में राजनीतिक पार्टी का लगाया झंडा, जुर्माना

पटना ट्रैफिक पुलिस ने डीएसपी के रिश्तेदार पर ठोंगा 2000 का जुर्माना

Bihar News: गुरुवार काे कार जैसे ही डाकबंगला चाैराहा से गुजरने लगी, वहां तैनात पुलिस के जवानाें ने चेकिंग के दाैरान कार काे राेक लिया. कार चला रहे युवक से पूछताछ शुरू हुई ताे उसने कहा कि मेरे रिश्तेदार डीएसपी हैं इसलिए कार पर पुलिस मुख्यालय पर स्टीकर लगाए हैं.

  • Share this:
पटना. लाॅकडाउन में बिहार पुलिस से जुड़े कई मामले सामने आ रहे हैं. कहीं पुलिस पर लॉकडाउन की आड़ में अवैध वसूली का आरोप लग रहा तो कहीं किसी को प्रताड़ित करने का. इसी बीच राजधानी  पटना में एक पुलिस अफसर के रिश्तेदार ने तो हद कर दी. पुलिस मुख्यालय में तैनात एक डीएसपी के रिश्तेदार काे पुलिस मुख्यालय का स्टीकर और एक राजनीतिक पार्टी का झंडा कार में लगाकर घूम रहा था. हालांकि उसकी यह करतूत उसे महंगा पड़ गया और दो हजार का जुर्माना देना पड़ा.

बताया जा रहा है कि गुरुवार काे कार जैसे ही डाकबंगला चाैराहा से गुजरने लगी, वहां तैनात पुलिस के जवानाें ने चेकिंग के दाैरान कार काे राेक लिया. कार चला रहे युवक से पूछताछ शुरू हुई ताे उसने कहा कि मेरे रिश्तेदार डीएसपी हैं इसलिए कार पर पुलिस मुख्यालय पर स्टीकर लगाए हैं. उसने अपने काे एक पार्टी का नेता हाेने का हवाला देकर कहा कि पार्टी से जुड़े हैं इसलिए उसका झंडा कार में लगा है.

डाकबंगला पर तैनात ट्रैफिक के सेक्टर प्रभारी एमके सुमन ने बताया कि गाड़ी के मालिक का नाम सुधीर कुमार सिंह है जबकि कार चलाने वाले का नाम निशांत सिंह रणावत था. कार चालक से दाे हजार का जुर्माना वसूला गया. हालांकि ट्रैफिक पुलिस  ने तो शुरू में कार काे जाने दिया था, लेकिन बाद में सेक्टर प्रभारी का कर्तव्यबोध जग गया और फिर पकड़ा गया और उसे जुर्माना भी देना पड़ा.

दरअसल जैसे ही कार वहां से गुजरने लगी ताे कार पर पुलिस मुख्यालय का स्टीकर और पार्टी का झंडा देख उसे जाने दिया गया पर बाद में सेक्टर प्रभारी ने उसे राेक लिया. फिर स्टीकर व झंडा लगे होने की वजह पूछनी शुरू की तो युवक ने सेक्टर प्रभारी काे सटीक जवाब नहीं दिया और इधर-उधर की बात करने लगा. उसके बाद 2 हजार का चालान काटा गया. लेकिन केवल 2 हज़ार का चालान काटकर भी पटना की ट्रैफिक पुलिस सवालों के घेरे में है. सवाल पूछा जा रहा है कि क्या एक  गाडी पर पुलिस मुख्यालय का स्टिकर और राजनीतिक पार्टी के झंडे की तस्वीर लगाकर घूमने का जुर्माना क्या केवल दो हज़ार रुपये ही हो सकता है?