कांग्रेस के कमजोर प्रदर्शन के चलते बिहार में नहीं बन पाई महागठबंधन की सरकार: तारिक अनवर

उन्होंने कहा कि एआईएमआईएम का बिहार में प्रवेश शुभ संकेत नहीं है.  (फाइल फोटो)
उन्होंने कहा कि एआईएमआईएम का बिहार में प्रवेश शुभ संकेत नहीं है. (फाइल फोटो)

तारिक अनवर (Tariq Anwar) ने कहा कि हम एक राष्ट्रीय पार्टी हैं और अपने विचार पार्टी नेतृत्व के सामने ही रखेंगे. कांग्रेस नेता ने कहा कि अब जनादेश आ गया है और राजग को बहुमत मिला है तो इसे स्वीकार करना चाहिए.

  • भाषा
  • Last Updated: November 14, 2020, 10:44 AM IST
  • Share this:



पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) में कांग्रेस के 19 सीटों पर सिमट जाने के बाद पार्टी महासचिव तारिक अनवर (Tariq Anwar) ने बृहस्पतिवार को कहा कि हमें इस सच्चाई को स्वीकार करना चाहिए कि कांग्रेस के कमजोर प्रदर्शन के कारण ही महागठबंधन की सरकार नहीं बन पाई. ऐसे में हमारी पार्टी को आत्मचिंतन करना चाहिए कि चूक कहां हुई. तारिक अनवर ने ट्वीट किया, ‘‘ हमें सच को स्वीकार करना चाहिए. कांग्रेस के कमज़ोर प्रदर्शन के कारण महागठबंधन की सरकार से बिहार महरूम रह गया.  कांग्रेस (Congress) को इस विषय पर आत्म चिंतन ज़रूर करना चाहिए कि उस से कहां चूक हुई ? ’’

उन्होंने कहा कि एआईएमआईएम का बिहार में प्रवेश शुभ संकेत नहीं है. कांग्रेस नेता ने कहा कि बिहार चुनाव में भले ही भाजपा गठबंधन येन केन प्रकारेण चुनाव जीत गया, परन्तु सही में देखा जाए तो ‘बिहार’ चुनाव हार गया.  उन्होंने कहा कि इस बार बिहार परिवर्तन चाहता था और पांच वर्षों की निकम्मी सरकार से छुटकारा और बदहाली से निजात चाहता था. नीतीश कुमार पर तंज करते हुए अनवर ने कहा कि भाजपा की मेहरबानी रही तो नीतीश जी इस बार अंतिम रूप से मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे.
एआईएमआईएम ने पांच सीटों पर जीत दर्ज की


बिहार विधानसभा चुनाव में बेहद रोमांचक मुकाबले में नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) ने 243 सीटों में से 125 सीटों पर कब्जा कर बहुमत का जादुई आंकड़ा हासिल कर लिया जबकि महागठबंधन खाते में 110 सीटें आई. भाजपा की 74 और जद (यू) की 43 सीटों के अलावा सत्तारूढ़ गठबंधन में शामिल हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा को चार और विकासशील इंसान पार्टी (वीआईपी) को चार सीटें मिलीं. वहीं, विपक्षी महागठबंधन में राजद को 75, कांग्रेस को 19, भाकपा (माले) को 12 और भाकपा एवं माकपा को दो-दो सीटों पर जीत मिली. बिहार में कांग्रेस ने 70 सीटों पर विधानसभा चुनाव लड़ा था और उसे सिर्फ 19 सीटों पर जीत हासिल हुई. वहीं, असदुद्दीन ओवैसी की एआईएमआईएम ने पांच सीटों पर जीत दर्ज की.

चितंन तो होना चाहिए कि कहां चूक हुई
तारिक अनवर ने इस बारे में पूछे जाने पर कहा कि चितंन तो होना चाहिए कि कहां चूक हुई. हम 50 सीट हार गए तो यह झटका है. उन्होंने कहा कि हम एक राष्ट्रीय पार्टी हैं और अपने विचार पार्टी नेतृत्व के सामने ही रखेंगे. कांग्रेस नेता ने कहा कि अब जनादेश आ गया है और राजग को बहुमत मिला है तो इसे स्वीकार करना चाहिए.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज