बिहार: स्टार्टअप आइडिया के जरिये विद्यार्थी भरेंगे नयी उड़ान, प्रतियोगिता में शामिल हो जीत सकते हैं लाखों के इनाम
Patna News in Hindi

बिहार: स्टार्टअप आइडिया के जरिये विद्यार्थी भरेंगे नयी उड़ान, प्रतियोगिता में शामिल हो जीत सकते हैं लाखों के इनाम
पटना विश्वविद्यालय और मेधा की तरफ से ई यूथस्केप- स्टार्टअप बिहार प्रतियोगिता की ऑनलाइन लॉच की गई.

एक सितम्बर 2020 से 13 सितम्बर तक प्रतिभागी पटना विश्वविद्यालय की वेबसाइट के प्लेसमेंट सेल सेक्सन में और eYouthscape- start-up Bihar के फेसबुक पेज पर उपलब्ध एप्लिकेशन फॉर्म के जरिये अपना आइडिया भेज सकते हैं.

  • Share this:
पटना. कहते हैं जो वक्त के साथ चलता है वही अपने जीवन में सफल होता है. यही वजह है कि जब से देश में  स्टार्टअप को बढ़ावा मिलने लगा है तब से ही देश के युवा तेजी से इस तरफ आकर्षित हुए हैं. दरअसल यह उस संकल्प के लिए सबसे बड़ा हथियार साबित हो रहा है जिसके तहत पीम मोदी (PM Modi) ने देशवासियों आत्मनिर्भर भारत बनाने का आह्वान किया है. बिहार (Bihar) के लोग भी इस आह्वान में जुट रहे हैं. खासकर यहां के युवाओं में न तो हुनर की कमी है और न ही लगन की, जरूरत सिर्फ सही राह दिखाने की होती है. पटना विश्विद्यालय (Patna University) और मेधा मिलकर युवाओं को कुछ ऐसा ही प्लेटफॉर्म देने जा रहा है जहां स्टार्टअप आइडिया (Startup idea) के जरिये छात्र न सिर्फ ऊंची उड़ान भर सकेंगे बल्कि उनमें उद्यमिता की भावना भी जगेगी.

पटना विश्वविद्यालय और मेधा की तरफ से बुधवार को ई यूथस्केप- स्टार्टअप बिहार प्रतियोगिता की ऑनलाइन लॉचिंग की गई. यह राज्यस्तरीय प्रतियोगिता जिसमें बिहार के किसी भी कॉलेज, विश्वविद्यालय, पॉलिटेक्निक और आईटीआई के विद्यार्थी अपना स्टार्टअप आईडिया भेज सकते हैं और ईनाम पा सकते हैं. इस प्रतियोगिता में हिस्सा लेना बिल्कुल नि:शुल्क है,  लेकिन प्रतियोगिता में हिस्सा लेने वालों को तीन चरण से गुजरना पड़ेगा. शीर्ष दस में आने वाले प्रतिभागियों को मेधा की ओर से पुरस्कार देकर प्रोत्साहित किया जायेगा. इसके तहत शीर्ष तीन को क्रमश: तीन लाख, दो लाख और एक लाख की सीड फंडिंग दी जायेगी जिससे कि विजेता प्रतिभागी अपने आइडिया को जमीन पर उतार सकें.

वहीं  शीर्ष दस को प्रतियोगिता की इनक्यूबेशन पार्टनर, अटल इन्क्यूबेशन सेंटर- बिहार विद्यापीठ फाउंडेशन की तरफ से इन्क्यूबेशन सहायता मिलने की भी संभावना होगी. इस प्रतियोगिता के नॉलेज पार्टनर इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इंटरप्राइज एंड लीडरशीप डेवलपमेंट(आईआईईएलडी) है.  इसमें प्रतिभागियों के आईडिया को परखने के लिए राज्य और देश के विभिन्न क्षेत्रों के विशेषज्ञ भी सहयोग कर रहे हैं जो कि अपने जजमेंट के लिए पूरी तरह से स्वतंत्र होंगे. वहीं,  प्रतिभागियों के लिए दूसरे और तीसरे चरण में ऑनलाईन कार्यशाला का भी आयोजन किया जायेगा.



प्रतियोगिता की लॉचिंग करते हुए पटना विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो एच एन प्रसाद ने कहा कि हमारे देश को अभी ज्यादा से ज्यादा ऐसे युवाओं की जरूरत है जो नौकरियां दें. इन्होंने कहा कि मेधा का पटना विश्वविद्यालय के साथ यह पहल बिहार के विद्यार्थियों के लिए एक सुनहरा मौका है और इससे बिहार और देश को उद्यमियों की नई पौध मिलेगी.
प्रतियोगिता के बारे में विस्तार से बताते हुए मेधा के निदेशक श्री ब्योमकेश मिश्रा ने कहा कि मेधा की कोशिश रही है कि कॉलेज के विद्यार्थियों को हम हर वो मौका दें जिसके वो हकदार हैं. क्योंकि  बिहार के विद्यार्थी पहले से ही मेहनती रहे हैं अब हम उन्हें उद्यमी बनने में सहयोग करना चाहते हैं. इन्होंने कहा कि  हमारी तरफ से बिहार के विद्यार्थियों के लिए सकारात्मक माहौल बनाने की कोशिश है जो कि बिहार को आत्मनिर्भर बनाना भारत को आत्मनिर्भर बनाने के क्रम में पहला कदम होगा.

एआईसी- बिहार विद्यापीठ फाउंडेशन के चेयरमैन और सीईओ, विजय प्रकाश जी ने कहा, आइडिया को इंटरप्राइज तक पहुंचाने का काम इन्क्यूबेशन सेंटर करता है. इस प्रतियोगिता के माध्यम से एआईसी- बिहार विद्यापीठ, मेधा के साथ मिलकर अपने उसी काम को करना चाहता है. इस प्रतियोगिता में विजेता आइडिया के अलावा भी अगर किसी आईडिया में हमें आगे बढ़ने की क्षमता दिखेगी तो हमारी संस्था उस प्रतिभागी को सहयोग करेगी.

वहीं आइआइएलडी के प्रबंध निदेशक मनोज कुमार सिन्हा ने कहा कि यह प्रतियोगिता बिहार के विद्यार्थियों के लिए उद्यमिता के क्षेत्र में कदम रखने हेतु एक बड़ा अवसर है जहां उनके आइडिया को विशेषज्ञों द्वारा पुरुस्कृत करने के साथ विजेताओं को सीड फंडींग भी दी जायेगी।.

प्रतियोगिता के नॉलेज पार्टनर के रूप में आइआइइडी मेधा और पटना विश्विद्यालय के साथ इस प्रतियोगिता को सफल बनाने में काम कर रही है. वहीं ऑनलाइन लॉन्चिंग कार्यक्रम में मौजूद पीयू, कुलसचिव  कर्नल मनोज मिश्रा ने कहा कि ई यूथस्केप-स्टार्टअप बिहार, उद्यमी विद्यार्थियों का सहयोग करने के लिए एक अच्छी पहल है और बिहार के विद्यार्थियों को इस तरह के अवसर हमेशा मिलते रहना चाहिए. पीयू , ट्रेनिंग, काउंसलिंग और प्लेसमेंट सेल संयोजक डॉ. असीम लाल चक्रवर्ती  ने कहा, इस प्रतियोगिता के माध्यम से पटना विश्वविद्यालय और मेधा संयुक्त रूप से बिहारी विद्यार्थियों के लिए आंत्रप्रेन्योरशिप के क्षेत्र को एक मजबूत विकल्प बनाने को लेकर कृत संकल्प है. पटना विश्वविद्यालय विद्यार्थियों के सहयोग के लिए हमेशा तत्पर रहा है.

विश्विद्यालय के डीन प्रोफेसर एनके झा ने बताया कि पहले चरण की शुरुआत एक सितम्बर 2020 से होगी. प्रतिभागी 13 सितम्बर तक प्रतिभागी पटना विश्वविद्यालय की वेबसाइट के प्लेसमेंट सेल सेक्सन में और eYouthscape- start-up Bihar के फेसबुक पेज (https://facebook.com/events/s/eyouthscape-start-up-bihar/1194614414251895/?ti=cl) पर उपलब्ध एप्लिकेशन फॉर्म के जरिये अपना आइडिया भेज सकते हैं.

पहले चरण के बाद 18 सितम्बर तक चयनित प्रतिभागियों की जानकारी पटना विश्वविद्यालय के वेबसाइट और प्रतियोगिता के ऑफिसियल फेसबुक पेज से दी जायेगी. साथ में चयनित प्रतिभागियों को इसकी जानकारी उनके मेल आईडी पर भी दी जायेगी. वहीं दूसरे और तीसरे चरण में चयनित प्रतिभागियों को ऑनलाइन कार्यशाला का आयोजन होगा. जिसमें वो अपने आईडिया पर काम करेंगे. देश के सम्मानित विद्वान फाईनल राउंड के निर्णायक मंडल में होंगे जो प्रतिभागियों को परखेंगे.

प्रतियोगिता के विजेताओं की घोषणा एक ऑनलाइन कार्यक्रम प्रस्तावित दस या ग्यारह अक्टूबर 2020 में राज्य के किसी गणमान्य मुख्य अतिथि के द्वारा की जायेगी. जिसकी जानकारी प्रतियोगिता के आधिकारिक सोशल मीडिया पेज पर दी जायेगी. पुरस्कार प्रथम- तीन लाख और एक टैब, द्वितीय- दो लाख और एक टैब, तृतीय- एक लाख और एक टैब, चौथे से दसवें स्थान पर आने वाले प्रतिभागियों को एक एंड्रॉयड फोन दिया जायेगा. शीर्ष दस के प्रतिभागी अटल इन्क्यूबेशन केंद्र, बिहार विद्यापीठ फाउंडेशन की तरफ  से इनक्यूबेशन सहायता भो प्राप्त कर सकते हैं. इसके लिए वहां की टीम उनका अलग से साक्षात्कार करेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज