Bihar Elections : चुनाव आयोग की योजना हुई नाकाम, डिस्प्ले बोर्डों पर नहीं दिखेगी काउंटिंग

तीन चरणों में हुए बिहार विधानसभा चुनाव के मतदान की काउंटिंग 10 नवंबर को होनी है.
तीन चरणों में हुए बिहार विधानसभा चुनाव के मतदान की काउंटिंग 10 नवंबर को होनी है.

काउंटिंग टेबल पर प्रत्याशियों के एजेंटों की भीड़ कम कर बड़े डिस्प्ले बोर्ड से सूचना देने की तैयारी की गई थी. लेकिन कार्य एजेंसी एनआईसीएसआई इस व्यवस्था में नाकाम रही.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2020, 9:25 PM IST
  • Share this:
पटना. बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Assembly Elections) की मतगणना (Counting of votes) के दरम्यान कोरोना संक्रमण (Corona infection) के खतरों से बचाने के लिए काउंटिंग टेबल पर भीड़ कम करने के प्रयासों को झटका लगा है. काउंटिंग टेबल पर प्रत्याशियों के एजेंटों की भीड़ कम कर बड़े डिस्प्ले बोर्ड से सूचना देने की तैयारी की गई थी. लेकिन कार्य एजेंसी एनआईसीएसआई इस व्यवस्था में नाकाम रही. चुनाव आयोग (Election commission) ने सभी जिलों को इसकी सूचना देते हुए काउंटिंग टेबल पर बैठने की व्यवस्था बनाने का आदेश दिया है.

ऐसे किया जाना था वोट काउंटिंग का डिस्प्ले

चुनाव आयोग ने ऐसी व्यवस्था बनाने में जुटा था कि ईवीएम के नतीजे देखने के लिए प्रत्याशियों के एजेंट को टेबल के पास खड़ा रहने की जरूरत नहीं रहे. एनआईसीएसआई को यह जिम्मेवारी दी गई थी कि वह ईवीएम की स्क्रीन को बड़े डिस्पले बोर्ड पर दिखाता. इसका लाभ यह होता कि प्रत्याशियों के एजेंट दूर से ही नतीजे देख सकते थे. चुनाव आयोग ने इसके लिए सभी विधानसभा के काउंटिंग टेबल पर 3888 कैमरा लगाने का टेंडर दिया था. लेकिन एनआईसीएसआई यह व्यवस्था करने में नाकाम रही.



डिस्प्ले सिस्टम से चुनाव आयोग असंतुष्ट
इस व्यवस्था का जब डेमो किया गया तो चुनाव आयोग उससे संतुष्ट नहीं हुआ. इसके बाद निर्णय किया गया है कि काउंटिंग का आंकड़ा व ईवीएम की स्क्रीन का डिस्पले नहीं किया जाएगा. चुनाव आयोग ने अब सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वे काउंटिंग टेबल पर प्रत्याशियों के एजेंटों के बैठने की व्यवस्था करें.

एजेंटों को खुद का ख्याल रखना होगा

ऐसे में अब उम्मीदवारों के एजेंटों को अपनी सेहत का ख्याल खुद रखना होगा. इन दिनों कोरोना वायरस का संक्रमण पूरे देश में तेजी से फैला है. त्योहारी सीजन होने के कारण लोगों का एक-दूसरे से मिलना जुलना बढ़ गया है. लोग खरीदारी के लिए बाजार जा रहे हैं. नतीजा है कि कोरोना का संक्रमण एक-दूसरे से होता हुआ तेजी से फैला है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज