• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • PATNA EMOTIONAL POST OF FIRST SISTER OF FILM ACTOR SUSHANT SINGH ANNIVERSARY SISTER LAUNCHED ON SOCIAL MEDIA NODBK

फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह की पहली बरसी से पहले बहन का इमोशनल पोस्ट, आप भी पढ़ें

पटना के रजीवनगर थाने में परिजनों की तरफ से केस भी दर्ज कराया गया था. (File Photo)

एक्‍टर सुशांत सिंह की पहली बरसी से पहले बहन श्वेता सिंह कीर्ति (Shweta Singh Kirti) ने एक इमोशनल पोस्ट शेयर कर कहा कि वह जून का पूरा महीना पहाड़ों पर गुजारेंगी.

  • Share this:
पटना. दिवंगत फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) के निधन का एक साल पूरा होने वाला है. पिछले साल 14 जून 2020 को मुंबई स्थित अपने फ्लैट में सुशांत सिंह राजपूत मृत अवस्था में मिले थे. अभिनेता के निधन को भले ही एक साल होने को है, लेकिन उनकी मौत से जुड़े कई सवाल आज भी लोगों के जेहन में कौंध रहे हैं. अपने भाई को इंसाफ दिलाने के लिए सुशांत की बहन श्वेता सिंह कीर्ति (Shweta Singh Kirti) लड़ाई लड़ रही हैं, लेकिन अभी तक इसमें कोई उल्‍लेखनीय प्रगति नहीं हुई है.

भाई की पहली बरसी से पहले श्वेता सिंह कीर्ति द्वारा एक इमोशनल पोस्ट शेयर किया गया है. श्वेता ने लिखा है, 'मैं जून का पूरा महीना पहाड़ों पर गुजारूंगी. जहां पर मेरे पास न ही सेल सर्विस रहेगी और न ही इंटरनेट. भाई के गुजर जाने के बाद उनसे जुड़ी उनकी सभी मीठी यादों को शांति से याद करूंगी.' सुशांत की मौत मिस्ट्री अब तक अनसुलझी है. उनके पिता और बहनों ने उनकी गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती पर कई गंभीर आरोप लगाया था.

जांच को लेकर कई सवाल हुए थे खड़े
पटना के रजीवनगर थाने में परिजनों की तरफ से केस भी दर्ज कराया गया था. पटना पुलिस मुम्बई भी पहुंची थी. बाद में परिजनों की मांग पर यह मामला सीबीआई को सौंप दिया गया था. सुशांत के निधन के बाद उनकी चर्चित फिल्म छिछोरे ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार में सर्वश्रेष्ठ फिल्म (हिंदी) का अवार्ड अपने नाम किया था. आज भी उनके लाखो फैंस हैं जो बिहार के इस नौजवान की एक्टिंग के कायल हैं. बता दें कि दिवंगत फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के निधन की खबर फैलते ही पूरे देश में उनके चाहने वालों के बीच शोक की लहर दौर गई थी. उनको इंसाफ दिलाने के लिए उनके फैंस ने देश के हिस्सों में प्रदर्शन किया था. वहीं, मुंबई पुलिस की जांच को लेकर कई सवाल भी खड़े हुए थे.
Published by:Bankatesh Kumar
First published: