पूर्व मंत्री मंजू वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में दाखिल की अग्रिम जमानत की याचिका

आर्म्स एक्ट के मामले में फरार चल रही मंजू वर्मा के पति इसी मामले में कोर्ट में सरेंडर कर चुके हैं.

  • Share this:
मुजफ्फरपुर बालिका गृह यौन शोषण कांड में विवादों में फंसकर कुर्सी गंवाने वाली पूर्व मंत्री मंजू वर्मा की मुश्किलें लगातार बढ़ती जा रहीं हैं. बिहार की पूर्व समाज कल्याण मंत्री मंत्री मंजू वर्मा को जेडीयू से निलंबित कर दिया गया है. वहीं, इस बीच, मंजू वर्मा ने आर्म्स एक्ट केस में गिरफ्तारी से बचने के लिए सुप्रीम कोर्ट में अग्रिम जमानत की याचिका दाखिल की है. इस मामले में सुप्रीम कोर्ट अगले हफ्ते सुनवाई कर सकता है.

वहीं, मंझौल कोर्ट ने मंजू वर्मा के खिलाफ धारा 82 और धारा 83 के तहत पुलिस को कार्रवाई का आदेश जारी किया है. मिली जानकारी के अनुसार पुलिस ने कुछ दिन पूर्व कोर्ट से मंजू वर्मा के खिलाफ इश्तेहार और कुर्की जब्ती का आदेश मांगा था. इस संबंध में मंजू वर्मा के वकील सत्यनारायण महतो ने कोर्ट को एक लिखित आवेदन देकर मंजू वर्मा को फरारी न मानते हुए उनके खिलाफ इश्तेहार और कुर्की जब्ती के आदेश पर रोक लगाने की अपील की थी. इस मामले में मंझौल कोर्ट के एसीजीएम प्रभात त्रिवेदी ने मंजू वर्मा के वकील की दलील को खारिज करते हुए ये आदेश जारी किया है.

बताते चलें कि आर्म्स एक्ट के मामले में फरार चल रही मंजू वर्मा के पति इसी मामले में कोर्ट में सरेंडर कर चुके है और इस वक्त जेल में बंद हैं. वहीं, मंजू वर्मा फरारी मामले को लेकर एडीजी (मुख्यालय) एस के सिंघल ने गुरुवार को बताया कि उनकी गिरफ्तारी को लेकर लगातार छापेमारी की जा रही है. बिहार के चार जिले के अलावा दूसरे प्रदेशों में भी छापेमारी की जा रही है. उन्होंने कहा कि बेगूसराय पुलिस ने एअरपोर्ट ऑथिरिटी को भी सूचित किया है.



ये भी पढ़ें- 
प्रधानमंत्री कार्यालय की मिलीभगत से हो रहा हमारे परिवार का चरित्र हनन : तेजस्वी यादव

बिहार डीजीपी बोले, मंजू वर्मा पर अपराधी की तरह होगी कार्रवाई, कुर्की का दिया आवेदन

वशिष्ठ नारायण सिंह बोले, जेडीयू में आने वालों का स्वागत, रालोसपा का पलटवार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज