• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • PATNA EXCISE DEPARTMENT SEIZED BIG CONSIGNMENT OF LIQUOR OF 2 CRORE RUPEES IN PATNA BRAMK

पटना में दो करोड़ रूपए की शराब बरामद, पुलिस स्टेशन के पास ही हो रही थी डिलीवरी

पटना में दो करोड़ रूपए की शराब पकड़ने वाली एक्साइज विभाग की टीम

Liquor Smuggling: पटना में हुई शराब की बरामदगी के बाद पुलिस हिरासत में लिए गए मजदूरों और ट्रक ड्राइवरों से कड़ी पूछताछ कर रही है ताकि तस्करों के पास पहुंचा जा सके.

  • Share this:
पटना. अवैध शराब की सप्लाई पर रोक लगाए जाने के मुख्यमंत्री के सख्त आदेश के बावजूद भी सूबे में शराब का कारोबार जोरों पर है. अवैध शराब माफियाओं के हौसले इतने बुलंद हो गए हैं कि अब वो थाना से महज चंद कदम की दूरी पर ही शराब का कारोबार करने से नहीं हिचक रहे हैं. ताजा मामला राजधानी पटना का है जहां सिटी इलाके में बाईपास थाना क्षेत्र के मरचा मर्ची रोड में उत्पाद विभाग की टीम ने बाईपास थाने से महज चंद कदम की दूरी पर स्थित एक खाली सीमेंट के गोदाम से भारी मात्रा में विदेशी शराब बरामद किया है.

उत्पाद विभाग की टीम ने मौके से विभिन्न ब्रांड के लगभग 4000 कार्टन विदेशी शराब बरामद किया है, जिसकी कीमत लगभग दो करोड़ के आसपास बतायी जाती है. टीम ने मौके से तीन ट्रक और चार पिकअप वैन को भी जप्त किया है, वहीं इस मामले में उत्पाद विभाग की टीम ने मौके पर मौजूद 6 मजदूरों के अलावे दो ट्रक ड्राइवरों को भी गिरफ्तार कर लिया है, जिनसे कड़ी पूछताछ चल रही है.

बताया जाता है कि उत्पाद विभाग की टीम को यह गुप्त सूचना मिली की बाईपास थाने के बगल स्थित एक गोदाम से ट्रकों और पिकअप वैन में डिलीवरी को लेकर अवैध शराब को लोड किया जा रहा है. सूचना मिलते ही टीम ने त्वरित कार्रवाई करते हुए छापेमारी कर लगभग दो करोड़ मूल्य का शराब जप्त कर लिया. उत्पाद विभाग की छापेमारी की सूचना मिलते ही पटना सिटी डीएसपी मौके पर पहुंच कर पूरे मामले की छानबीन में जुटे हैं. फिलहाल पुलिस अवैध शराब माफियाओं और गोदाम मालिक की पहचान को लेकर सघन छापेमारी अभियान में जुटी है.

बाईपास थाने से महज चंद कदम की दूरी पर भारी मात्रा में विदेशी शराब की बरामदगी पुलिस की कार्यप्रणाली पर एक सवालिया निशान है, ऐसे में सबसे बड़ा सवाल यह है कि थाने से महज चंद कदम की दूरी पर अवैध शराब माफियाओं द्वारा यह अवैध कारोबार किया जा रहा था और पुलिस को इस बात की भनक तक नहीं थी.
Published by:Amrendra Kumar
First published: