Home /News /bihar /

मासूम चेहरा, पर 'भ्रष्ट दिमाग'! निगरानी की रेड में सामने आ गई उत्पाद अधीक्षक की सारी काली कमाई!

मासूम चेहरा, पर 'भ्रष्ट दिमाग'! निगरानी की रेड में सामने आ गई उत्पाद अधीक्षक की सारी काली कमाई!

पूर्वी चंपारण जिले के उत्पाद अधीक्षक अविनाश प्रकाश के पटना, खगड़िया और मोतिहारी स्थित ठिकानों पर रेड.

पूर्वी चंपारण जिले के उत्पाद अधीक्षक अविनाश प्रकाश के पटना, खगड़िया और मोतिहारी स्थित ठिकानों पर रेड.

Corruption News: पूर्वी चंपारण के उत्पाद अधीक्षक अविनाश प्रकाश का पटना में फुलवारीशरीफ स्थित कुरकुरी में फार्म हाउसनुमा मकान बना रखा है जो करीब एक बीघे में फैला है. बताया जा रहा है कि सुसज्जित आलीशान घर की तलाशी के लिए जब टीम पहुंची तो खूबसूरत बगान, 10 गाय का खटाल और कई नौकर-चाकर भी वहां काम करते मिले. इसके अलावा पटना में एक फ्लैट खरीदने का सहमति पत्र भी बरामद हुआ.

अधिक पढ़ें ...

    मोतिहारी. पूर्वी चंपारण के उत्पाद अधीक्षक अविनाश प्रकाश की अकूत संपत्ति का पता चला है. ये प्रॉपर्टी उन्होंने शराब माफियाओं से सांठगांठ कर एकत्रित की है. मासूम से दिखने वाले इस अधिकारी ने इतनी दौलत इकट्ठी कर रखी है कि नोटों को गिनने के लिए मशीन तक रखी है. निगरानी में दर्ज हुए केस के बाद मोतिहारी (कर्मस्थल), पटना (निवास स्थल) और खगड़िया (पैतृक निवास स्थल) में कई ठिकानों पर विजिलेंस की टीम (Vigilance Unit Bihar) ने बुधवार को छापेमारी की थी. निगरानी की टीम ने आय से अधिक के मामले में अधीक्षक के खिलाफ यह कार्रवाई की है. अधीक्षक पर आय से अधिक संपत्ति का मामला और राज्य सरकार की शराब नीति को कमजोर करने का भी आरोप है.

    बता दें कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी लागू है. ऐसे में उत्पाद अधीक्षक पर राज्य सरकार की शराब नीति को कमजोर करने का आरोप है. इन दिनों शराब मामले में बिहार में ताबड़तोड़ कार्रवाई की जा रही है. शराब माफिया पर शिकंजा कसने के साथ भ्रष्ट अधिकारियों पर भी पर निगरानी विभाग की टीम कार्रवाई कर रही है. विशेष निगरानी इकाई (एसवीयू) ने अविनाश प्रकाश के इन तीनों ठिकानों पर छापेमारी करोड़ो की चल-अलच संपत्ति का पता लगाया है.

    इनके पास पटना में फार्म हाउसनुमा मकान के अलावा कई अन्य जगहों पर भी संपत्ति पाई गई. कुल तीन जेसीबी (पटना में दो, खगड़िया में एक) और नोट गिनने की मशीन भी बरामद हुई है. उनपर शराब माफियाओं से साठगांठ का भी आरोप है. एसवीयू के मुताबिक अविनाश प्रकाश खगड़िया के चित्रगुप्त नगर थाना के राजेन्द्रनगर स्थित डीएवी चौक के रहनेवाले हैं. इनपर पद का दुरुपयोग कर अपने सेवाकाल में ज्ञात स्रोतों से काफी अधिक धन-संपत्ति अर्जित करने के प्रमाण मिले हैं.

    अविनाश प्रकाश पर यह भी आरोप है कि इन्होंने अपने काले धन को सफेद बनाने के लिए अपने परिजनों और मित्रों के साथ अन्य माध्यमों से मनी लॉन्ड्रिंग का भी प्रयास किया. खगड़िया स्थित घर के अलावा पटना के कुरकुरी के आलीशान मकान और मोतिहारी के छितौना थाना के छोटा बरियारपुर स्थित राधिकाकुंज के घर की तलाशी ली गई. पटना स्थित इनके घर से नोट गिनने की मशीन भी बरामद की गई है.

    एसवीयू के अनुसार अविनाश प्रकाश का पटना में फुलवारीशरीफ स्थित कुरकुरी में फार्म हाउसनुमा मकान बना रखा है जो करीब एक बीघे में फैला है. बताया जा रहा है कि सुसज्जित आलीशान घर की तलाशी के लिए जब टीम पहुंची तो खूबसूरत बगान, 10 गाय का खटाल और कई नौकर-चाकर भी वहां काम करते मिले. इसके अलावा पटना में एक फ्लैट खरीदने का सहमति पत्र भी बरामद हुआ.

    अविनाश प्रकाश के पास 1 इनोवा और करोड़ों की चल-अचल संपत्ति होने का प्रमाण मिला है. वहीं परिजनों के नाम कई लाख रुपए का निवेश बैंक और जीवन बीमा में पाए गए. एसवीयू के अनुसार पत्नी के नाम 41 डिसिमिल के 3 प्लॉट और पिता नित्यानंद चौधरी के नाम 200 डिसिमिल के 20 प्लॉट हैं. इनकी खरीदारी 56.75 लाख रुपए में की गई है.

    इसके अलावा एचडीएफसी बैंक में 5, इलाहाबाद बैंक में 1, एसबीआई में 5, यूनियन बैंक में 3, केनरा बैंक में 1 खाता है. विभिन्न बीमा कंपनियों में भी निवेश के प्रमाण मिले हैं. तलाशी में एक टैक्सी का रजिस्ट्रेशन पेपर बरामद हुआ. एसवीयू के अनुसार अविनाश प्रकाश ने सरकारी सेवा में रहते हुए नाजायज ढंग से अकूत संपत्ति अर्जित की. उनपर आय से 94,0500 रुपए अधिक की संपत्ति गैरकानूनी और नाजायज ढंग से अर्जित करने के आरोप में एसवीयू द्वारा प्राथमिकी दर्ज कर छापेमारी की गई.

    Tags: Anti corruption branch, Corruption, Corruption news, East champaran, Motihari news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर