• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • आपके लिए इसका मतलब: चिराग पासवान के केंद्र में शामिल होने पर क्या करेगी JDU? मिल रहे ये संकेत

आपके लिए इसका मतलब: चिराग पासवान के केंद्र में शामिल होने पर क्या करेगी JDU? मिल रहे ये संकेत

लोजपा ने सीएम नीतीश पर साधा निशाना.

लोजपा ने सीएम नीतीश पर साधा निशाना.

Bihar Politics Explained: जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी (KC Tyagi) ने स्पष्ट रूप से कहा कि हम यह मानकर चलते हैं कि चिराग पासवान राजग (NDA) से बाहर हैं.

  • Share this:

पटना. बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान लोक जन शक्ति पार्टी (LJP) के अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) ने जिस तरह से सीएम नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) को निशाना बनाया और करीब 40 सीटों पर जेडीयू (JDU) को नुकसान पहुंचाया. इसको लेकर जेडीयू नेताओं में अब भी क्षोभ व्याप्त है. शनिवार को दिल्ली में होने वाली एनडीए की बैठक में चिराग पासवान के शामिल होने के सवाल पर जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष आरसीपी सिंह (RCP Singh) ने झल्लाते हुए जवाब दिया कि दूसरी पार्टी की बात हम नहीं करते, जिनका आप नाम लेते हैं, उस पर मुझे कोई कमेंट नहीं करना है.

इसी मसले पर न्यूज 18 से बात करते हुए जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी त्यागी (KC Tyagi) ने स्पष्ट रूप से कहा कि हम यह मानकर चलते हैं कि चिराग पासवान एनडीए (NDA) से बाहर हैं. उनको किसी भी स्तर पर एनडीए के कार्यक्रमों का या फिर सरकारों का हिस्सा बनाने का अगर प्रयास होता है तो जरूर यह अनफ्रेंडली एक्ट होगा. ऐसे लोग अगर एनडीए में आएंगे तो हम इसका विरोध करेंगे.

एलजेपी ने पहुंचाया जेडीयू को नुकसान- केसी त्यागी

केसी त्यागी ने कहा कि चुनाव के दौरान जिस तरह से एलजेपी ने अपने उम्मीदवार खड़े किए, उससे एनडीए का संख्याबल कमजोर हुआ. न सिर्फ जेडीयू बल्कि बीजेपी और अन्य सहयोगी दलों के उम्मीदवारों के विरुद्ध भी उम्मीदवार खड़े किए, उससे एनडीए की एकता को नुकसान पहुंचा.

‘हम नहीं मानते एनडीए का हिस्सा’

जेडीयू नेता ने कहा कि पीएम और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा स्वयं घोषित कर चुके हैं कि बिहार में एनडीए का मतलब नीतीश कुमार के नेतृत्व वाली गठबंधन, जिसमें बीजेपी, जेडीयू, हम और वीआइपी है. लिहाजा हम उनको और उनकी पार्टी को बिहार एनडीए का हिस्सा नहीं मानते हैं और न ही स्वीकार करते हैं.

‘पीएम मोदी की भी बात नहीं मानी गई’

केसी त्यागी ने कहा कि जिन लोगों ने बिहार में एनडीए के लिए मैदान खराब किए, जिन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की भी बात नहीं मानी, उनका फिर से एनडीए के साथ आना कतई ठीक नहीं होगा. जेडीयू नेता ने कहा कि पीएम मोदी ने यह बात बार-बार दोहराई थी कि संख्या कम हो या ज्यादा, नीतीश कुमार ही मुख्यमंत्री बनेंगे. फिर लोजपा नेता का ऐसा आचरण जरूर सवालिया निशान छोड़ता है.

‘एनडीए नेतृत्व ने की ढिलाई’

जेडीयू नेता ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मंत्री नरेंद्र मोदी, जेपी नड्डा  और बिहार के भाजपा  अध्यक्ष डॉक्टर संजय जायसवाल ने मजबूती के साथ एनडीए की सरकार बिहार में बनाई है. प्रदेश में एनडीए की सरकार है, लेकिन इतना अफसोस जरूर है कि लोक जनशक्ति पार्टी ने जिस तरह से लगभग 40 सीटों पर जेडीयू को पराजित किया या विरोधियों की मदद कर जेडीयू को रोकने का प्रयास किया, इसे  रोकने के और अतिरिक्त प्रयास एनडीए के नेतृत्व की ओर से होनी चाहिए थी.

जेडीयू के रुख में स्पष्टता

दरअसल, सियासी गलियारों में यह बात आम तौर पर सभी मानते हैं कि लोजपा का एनडीए (NDA) से अलग होकर लड़ने की रणनीति के पीछे भारतीय जनता पार्टी (BJP) का गेम प्लान रहा होगा, ताकि बिहार में जेडीयू के मुकाबले वह बड़ा भाई बन पाए. ऐसा लोजपा के अध्यक्ष चिराग पासवान की बातों से भी बार-बार जाहिर होता रहा कि वह भाजपा को नुकसान नहीं पहुंचाना चाहते थे. अब जब चुनाव परिणाम के बाद फिर एक बार सीएम नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए की सरकार बनी है तो जेडीयू नेता इस मामले में बेहद स्पष्ट दिखते हैं कि चिराग पासवान की फिर से एनडीए में वापसी न हो.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज