• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • Explained: नीतीश ने व्हाइट बोर्ड पर लिखा PM मोदी के लिए संदेश..., शुरू हो गई 'सफेद कमल' में रंग भरने की चर्चा!

Explained: नीतीश ने व्हाइट बोर्ड पर लिखा PM मोदी के लिए संदेश..., शुरू हो गई 'सफेद कमल' में रंग भरने की चर्चा!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्म दिन पर सीएम नीतीश कुमार ने बोर्ड पर बधाई संदेश लिखा.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्म दिन पर सीएम नीतीश कुमार ने बोर्ड पर बधाई संदेश लिखा.

आपके लिए इसका मतलब: वर्ष 2017 के फरवरी में जब बिहार में महागठबंधन की सरकार थी, तब पटना में प्रकाश पर्व के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक सफेद कैनवस पर बनी पेंटिंग में रंग भरा था, जिसके बाद बिहार की सियासत में जबरदस्त हलचल हुई थी.

  • Share this:

पटना. प्रधानमंत्री नरेंद्र  मोदी के जन्म दिन के अवसर पर एक तस्वीर की चर्चा खूब हो रही है. इसी तस्वीर को लेकर बिहार की सियासत में इसके मायने भी खोजे जाएं तो कोई हैरत की बात नहीं है. दरअसल  ये तस्वीर तब सामने आई है जब भाजपा (BJP) और जदयू (JDU) के संबंधों को लेकर कई तरह की चर्चाओं का बाजार गर्म है. दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्म दिन के मौके पर बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सफेद बोर्ड पर अपने हाथों से लिखकर जन्मदिन की बधाई दी. जबकि, इसके पहले भी नीतीश कुमार ने ट्वीट कर भी बधाई दी थी. लेकिन उसके बाद भी बोर्ड पर अपने हाथों से लिखकर बधाई देना बड़ा मैसेज देता है. जाहिर है इसी को लेकर सियासी चर्चा भी शुरू हो गई है. खास तौर पर सफेद कमल में रंग भरने की.

इस चर्चा की वजह भी है क्योंकि नीतीश कुमार की इस व्हाइट बोर्ड पर बधाई लिखने वाली तस्वीर से कई तरह के कयासों पर विराम लग सकता है. दरअसल हाल के दिनों में जनसंख्या नियंत्रण कानून, जातिगत जनगणना और किशनगंज में एक खास समुदाय की जनसंख्या बढ़ने को लेकर भाजपा नेताओं की ओर से बयानबाजी ने बिहार में NDA के सहयोगी भाजपा और जदयू में कुछ तनातनी बढ़ा रखी थी. लेकिन, नीतीश कुमार की बधाई लिखने वाली तस्वीर ने बहुत कुछ इशारा कर दिया है. आखिर ऐसा क्यों कहा जा रहा है?

वर्ष 2017 में महागठबंधन छोड़ भाजपा संग आए थे नीतीश
वर्ष 2017 के फरवरी में जब बिहार में महागठबंधन की सरकार थी. तब पटना में प्रकाश पर्व का आयोजन किया गया था. इसमें सीएम नीतीश कुमार ने एक व्हाइट पेंटिंग में रंग भरा था, जिसके बाद बिहार की  सियासत में जबरदस्त हलचल हुई थी. बता दें कि पेंटिंग में कमल का फूल बना था, जिसमें नीतीश कुमार ने रंग भरा था. वह भी केसरिया से मिलता-जुलता रंग. इसके चंद महीने बाद ही नीतीश कुमार ने महागठबंधन का साथ छोड़ भाजपा के साथ मिलकर सरकार बना ली थी.

वर्ष 2017 में सीएम नीतीश कुमार ने प्रकाश पर्व के मौके पर कमल की फूल वाले चित्र में रंग भरा था. (फाइल फोटो)

नीतीश कुमार ने जदयू-भाजपा नेताओं को दिया संदेश!
अब जब एक बार फिर जब कुछ मुद्दों पर भाजपा और JDU में अंदरूनी खींचतान की खबरें सामने आ रहीं हैं तब सीएम नीतीश कुमार का बोर्ड पर अपने हाथों से लिख कर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जन्मदिन की बधाई देना उसी तस्वीर की कड़ी बताई जा रही है. सियासत के जानकार बता रहे हैं कि यह साफ संकेत है कि नीतीश कुमार भाजपा से बेहतर संबंध की इच्छा का इजहार करते दिख रहे हैं.

पीएम मोदी विरोधी संग नहीं जाएंगे सीएम नीतीश कुमार!
बता दें कि नीतीश कुमार ने कुछ दिन पहले से ही इसकी शुरुआत कर दी थी. पहले केंद्र में मंत्रिमंडल विस्तार में JDU के शामिल होने पर हामी भरी, फिर हरियाणा के जिंद में चौधरी देवीलाल की जयंती समारोह में गैर NDA दलों के बड़े जुटान में न्योता मिलने के बाद भी शामिल नहीं होने का फैसला किया. तब भी यही समझा गया कि पीएम मोदी विरोधी गुट में सीएम नीतीश कुमार शामिल नहीं होंगे. प्रधानमंत्री के जन्मदिन के मौके पर भी सीएम नीतीश ने बिहार में वैक्सीनेशन में Record बनाने की बात भी कही. जाहिर है ये कुछ सियासी कदम हैं जिससे यह साफ जाहिर है कि सीएम नीतीश कुमार भाजपा और JDU के संबंधो को पुराने दौर में ले जाने की कोशिश में हैं.

पीएम मोदी को बधाई की आड़ में भाजपा के लिए खास मैसेज!
वरिष्ठ पत्रकार अरुण पांडे कहते हैं कि नीतीश कुमार को पता है कि बिहार में अपने सहयोगी भाजपा की वजह से मुख्यमंत्री बने हुए हैं. इसलिए वे कभी नहीं चाहेंगे कि भाजपा से संबंध में कोई तकरार बढ़े. वहीं, नीतीश कुमार भाजपा को, खासकर पीएम नरेंद्र मोदी को ये मैसेज देना चाहते हैं कि आज भी भाजपा की सबसे मजबूत और विश्वस्त सहयोगी JDU ही है.

सीएम नीतीश कुमार के इस ‘रंग’ पर विपक्ष को एतराज
हालांकि, राजद ने नीतीश कुमार के हाथों से लिख कर प्रधानमंत्री को जन्म दिन की बधाई देने पर चुटकी ली है. राजद के प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी कहते हैं कि नीतीश कुमार गुजरात का हाल देख कर डर गए हैं. (गुजरात में भाजपा ने एक तरह से पूरी सरकार ही बदल दी है) उन्हें लगता है कि कहीं भाजपा बिहार में भी ऐसा ही न कर दे. इसलिए भाजपा से संबंधों को और बेहतर करने की कोशिश में लगे हुए हैं. या यूं कहें कि भाजपा के सामने नतमस्तक हो गए हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज