• Home
  • »
  • News
  • »
  • bihar
  • »
  • Explained: सेक्स स्कैंडल में फंसे प्रिंस राज, चिराग पासवान पर भी लगे 'दाग'! क्या होगा सियासी असर?

Explained: सेक्स स्कैंडल में फंसे प्रिंस राज, चिराग पासवान पर भी लगे 'दाग'! क्या होगा सियासी असर?

चिराग पासवान के चचेरे भाई प्रिंस राज का सेक्स स्कैंडल में नाम आने से उनकी छवि को गहरा धक्का लगा है.

चिराग पासवान के चचेरे भाई प्रिंस राज का सेक्स स्कैंडल में नाम आने से उनकी छवि को गहरा धक्का लगा है.

आपके लिए इसका मतलब: चिराग पासवान को लेकर भाजपा के नेताओं ने एनडीए में वापस लेने की बात कई बार कही है. मुजफ्फरपुर से सांसद अजय निषाद ने तो मुखर रूप से कहा भी है कि अगर वह एनडीए में आते हैं तो सीएम नीतीश कुमार को इस पर आपत्ति नहीं करनी चाहिए. पर सवाल यह है कि प्रिंस राज सेक्स स्कैंडल सामने आने के बाद क्या चिराग पासवान को एनडीए सहजता से अपना पाएगा?

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

पटना. लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद और बिहार एलजेपी (पारस) गुट के प्रदेश अध्यक्ष प्रिंस राज सेक्स स्कैंडल (Samastipur MP Prince Raj Sex Scandal) में फंस गए हैं. प्रिंस राज एलजेपी के संस्थापक अध्यक्ष और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (Ram Vilas Paswan) के छोटे भाई दिवंगत रामचंद्र पासवान (Ramchandra Paswan) के बेटे हैं. एलजेपी (चिराग) गुट के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान (Chirag Paswan) के चचेरे भाई भी हैं. इसके साथ ही मोदी मंत्रिमंडल में हाल ही में शामिल पशुपति कुमार पारस (Pashupati Kumar Paras) के भतीजे भी हैं. जाहिर है यह सेक्स स्कैंडल एक प्रतिष्ठित कहे जाने वाले सियासी बिरादरी से आने वाले परिवार के एक सदस्य पर रेप जैसे संगीन अपराध के आरोपी होने का दाग लगा है. सबसे खास बात यह कि चिराग पासवान पर अपने भाई को बचाने का आरोप दर्ज करते हुए एफआईआर में उनका भी नाम आया है. ऐसे में सवाल यही है कि चिराग और प्रिंस राज के साथ ही पासवान परिवार का राजनीतिक भविष्य किस ओर करवट लेता दिखाई दे रहा है?

एक ओर जहां दिवंगत राम विलास पासवान का परिवार परिवारिक और सियासी, दोनों ही स्तरों पर टूट चुका है, उस पर इस तरह की बदनामी का दाग पासवान परिवार की सियासत के लिहाज से ठीक नहीं माना जा रहा है. सियासी जानकार बताते हैं कि सियासत में इमेज परसेप्शन का बड़ा महत्व है. अगर आप बाहुबली हैं तो उस रूप में भी आप लोकप्रिय हो सकते हैं, लेकिन सामने सही और छिप छिपाकर कुकर्म करने वालों को जनता नहीं बख्शती. ऐसे में सवाल यह है कि प्रिंस राज के साथ ही चिराग पासवान पर इसका क्या असर हो सकता है?

एनडीए में वापसी को लेकर उठे सवाल
हाल में चिराग पासवान को लेकर भाजपा के नेताओं ने एनडीए में वापस लेने की बात कई बार कही है. मुजफ्फरपुर से सांसद अजय निषाद ने तो मुखर रूप से कहा भी है कि अगर वह एनडीए में आते हैं तो सीएम नीतीश कुमार को इस पर आपत्ति नहीं करनी चाहिए. वहीं, हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष व पूर्व सीएम जीतन राम मांझी ने भी कहा है कि चिराग पासवान अगर एनडीए में आते हैं तो उनको कोई दिक्कत नहीं है. पर सवाल यह है कि प्रिंस राज सेक्स स्कैंडल सामने आने के बाद क्या चिराग पासवान को एनडीए सहजता से अपना पाएगा जैसी पहले उम्मीद थी?

ये भी पढ़ें- Bihar News: छठी क्लास के दो बच्चे रातो रात बन गए अरबपति, अकाउंट में आए 900 करोड़ से अधिक रुपए

चिराग पासवान की छवि को लगा गहरा धक्का
सियासत के जानकार यह भी कहते हैं कि इस केस में चिराग पासवान का भी नाम एफआईआर में आया है. यह भी कहा जा रहा है कि उन्होंने प्रिंस राज को बचाने की कोशिश भी की थी. हालांकि उनका दावा है कि युवती उनके भाई को ब्लेकमेल कर रही थी और हनी ट्रैप में फंसा लिया था. ऐसे में कोर्ट से जो भी फैसला होगा वह उन्हें मंजूर होगा. जाहिर है एक राजनेता का यही रिएक्शन होगा कि कोर्ट जो कहेगा उसे मानेंगे. लेकिन सवाल सुचिता का है? आखिर प्रिंस राज ने यह बात भी तो स्वीकार किया है कि उसने उस लड़की के साथ सेक्स किया था. जाहिर है एक सांसद के लिए यह बेहद अशोभनीय है. ऐसे में चिराग पासवान की छवि को भी गहरा धक्का लगा है.

ये भी पढ़ें- अजब-गजबः बिहार में कभी चांदी की बारिश तो कभी बच्चा बन जाता है रातों रात करोड़पति…

परसेप्शन की सियासत में पिछड़े चिराग!
हाल में जब चिराग पासवान ने आशीर्वाद यात्रा निकाली थी तब उन्हें व्यापक जन समर्थन मिलता दिख रहा था. पिता राम विलास पासवान की पुण्यतिथि मनाने में बीते 12 सितंबर को जितनी ऊर्जा उन्होंने खर्च की और इसका जितना पॉलिटिकल बेनिफिट उन्हें मिलने वाला था, वह एक झटके में ही खोता हुआ नजर आ रहा है. सियासत के जानकार बताते हैं कि नेताओं का सेक्स स्कैंडल में फंसना कोई नहीं बात नहीं है, लेकिन उसके बाद उनका करियर पूरी तरह समाप्त ही हो जाता है. पार्टी को अपनी इमेज की चिंता रहती है तो ऐसे नेताओं से दरकिनार करने लगती है. हालांकि यहां चिराग पासवान को यह फायदा है कि पार्टी उन्हें दरकिनार नहीं कर पाएगी, लेकिन पब्लिक परसेप्शन का क्या?

ये भी पढ़ें- Bihar Politics: आखिर ‘लालू की लालटेन’ पर क्यों शुरू हुई चर्चा? क्या तेज प्रताप बढ़ा रहे तेजस्वी की टेंशन!

चिराग-तेजस्वी को उम्मीद से देख रहे बिहार के लोग
वरिष्ठ पत्रकार प्रेम कुमार कहते हैं कि दरअसल युवा तेजस्वी यादव और युवा चिराग पासवान की ओर बिहार नजरें टिकाए हुए है कि कब ये लोग बिहार को नयी दिशा देने प्रदेश की बागडोर संभालेंगे. लेकिन, जब चिराग पासवान का नाम सेक्स स्कैंडल में फंसे भाई को बचाने के लिए एफआईआर में आता है. जब तेजस्वी यादव जैसे नेता बर्थडे मनाते हुए किसी चार्टर्ड प्लेन में दिखते हैं, तो पब्लिक थोड़ी निराश जरूर होती है. उम्मीद बिहार की गरीब जनता जिनसे उम्मीद लगाए बैठी है, वह उनके भरोसे पर आने वाले समय में खरे उतरेंगे. चिराग पासवान और तेजस्वी यादव के साथ तो उनकी पिता की भरी-पूरी सियासी विरासत है, ऐसे में अपनी एक गलती भर से जनता की नजरों में गिरने का कोई काम नहीं करेंगे, ऐसी उम्मीद बिहार की जनता रखती है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज