अपना शहर चुनें

States

आपके लिए इसका मतलबः बिहार क्यों लाए गए शाहनवाज? क्या है BJP का बिग प्लान

शाहनवाज हुसैन ने आज बीजेपी की तरफ विधान परिषद के लिए नामांकन दाखिल किया. (फोटो- टि्वटर)
शाहनवाज हुसैन ने आज बीजेपी की तरफ विधान परिषद के लिए नामांकन दाखिल किया. (फोटो- टि्वटर)

Explainer: दो बार के सांसद और केंद्र में मंत्री रह चुके सैयद शाहनवाज हुसैन (Syed Shahnawaz Hussain) को बिहार की राजनीति में उतारने के BJP के फैसले पर सियासी गलियारों में चर्चाओं का दौर शुरू. सियासत के जानकार शाहनवाज की एंट्री को मान रहे हैं बीजेपी का बड़ा दांव.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 18, 2021, 3:22 PM IST
  • Share this:
पटना. दो दशक से भी ज्यादा समय से केंद्र की राजनीति में सक्रिय शाहनवाज हुसैन (Syed Shahnawaz Hussain) को भाजपा ने बिहार लाने का फैसला किया. जाहिर है सवाल उठने शुरू हो गए कि आखिर भारतीय जनता पार्टी (BJP) एक मुस्लिम व्यक्ति को बिहार के राजनीति में सक्रिय क्यों कर रही है? राजनीतिक जानकारों की मानें तो भाजपा ने शाहनवाज की बिहार की राजनीति में एंट्री करवा कर एक दूरगामी दांव खेला है. पहला पार्टी को एक चेहरा मिला है, दूसरा और सबसे बड़ा कि पार्टी को एक मुस्लिम चेहरा मिला है. बीजेपी के इस दांव को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ऊपर एक दबाव के तौर पर भी माना जा रहा है. साथ ही AIMIM के नेता असदुद्दीन ओवैसी की बिहार में बढ़ती सक्रियता के मद्देनजर भी शाहनवाज की एंट्री को महत्वपूर्ण माना जा रहा है.

सीमांचल के मुस्लिम बहुल इलाके किशनगंज से पहली बार और फिर भागलपुर लोकसभा सीट से संसद तक पहुंचने वाले बीजेपी के युवा नेता शाहनवाज हुसैन को बिहार में विधान परिषद के रास्ते एंट्री मिली है. उन्हें पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी के राज्‍यसभा जाने से खाली हुई विधान परिषद की सीट पर प्रत्‍याशी बनाया गया है. शालीन व्यवहार और वाकपटुता के लिए पहचाने जाने वाले शाहनवाज हुसैन वर्ष 2014 में हुए लोकसभा के चुनाव में भागलपुर संसदीय सीट से बीजेपी के उम्मीदवार थे, जिसमें उन्हें जेडीयू प्रत्याशी से शिकस्त खानी पड़ी थी. 2019 के चुनाव में उन्हें पार्टी की तरफ से चुनाव का टिकट नहीं दिया गया था. बिहार विधानसभा चुनाव के समय भी शाहनवाज का नाम तेजी से उछला था, लेकिन तब भी पार्टी में इस मामले पर चुप्पी बनी रही थी.

बिहार में बीजेपी का चेहरा बनेंगे शाहनवाज

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज