होम /न्यूज /बिहार /फर्जी CJI बन ब‍िहार के DGP को कॉल करने वाले अभिषेक अग्रवाल ने उगले कई राज, अब यह IPS हो सकता है अरेस्‍ट!

फर्जी CJI बन ब‍िहार के DGP को कॉल करने वाले अभिषेक अग्रवाल ने उगले कई राज, अब यह IPS हो सकता है अरेस्‍ट!

आईपीएस आदित्य कुमार के इस फ्रॉड के बारे में दोस्त ने ईओयू के सामने कई राज उगले हैं.

आईपीएस आदित्य कुमार के इस फ्रॉड के बारे में दोस्त ने ईओयू के सामने कई राज उगले हैं.

Patna News: दूसरी तरफ फर्जी कॉल करने वाले आईपीएस अफसर के दोस्त अभिषेक अग्रवाल से ईओयू के अधिकारियों ने 2 दिनों तक सघन प ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

आईपीएस आदित्य कुमार पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है.
पुलिस सूत्रों के अनुसार, आईपीएस बिहार से बाहर जा चुके हैं.

फर्जी चीफ जस्टिस बनकर बिहार के डीजीपी को कॉल कराने के मामले में आर्थिक अपराध इकाई द्वारा रिमांड पर लिए गए जालसाज अभिषेक अग्रवाल के रिमांड की अवधि पूरी होने के बाद इसे वापस जेल भेज दिया गया है. आर्थिक अपराध इकाई ने उसे 2 दिनों के लिए रिमांड पर लिया था. आईपीएस आदित्य कुमार पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है. आईपीएस आदित्य कुमार के इस फ्रॉड के बारे में दोस्त ने ईओयू के सामने कई राज उगले हैं.

उधर, फर्जी चीफ जस्टिस बनकर डीजीपी एसके सिंघल को फोन कराने के मामले में आइपीएस आदित्य कुमार पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है. मामले की जांच कर रही आर्थिक अपराध इकाई कोर्ट से आइपीएस के विरुद्ध गैर जमानती वारंट मांगेंगी. ईओयू को एक से दो दिनों में कोर्ट से वांरट मिलने की संभावना है. पुलिस सूत्रों के अनुसार, आईपीएस बिहार से बाहर जा चुके हैं. ऐसे में गिरफ्तारी वारंट लेकर ईओयू की टीम उनके गृह जिले मेरठ भी जा सकती है.

दूसरी तरफ फर्जी कॉल करने वाले आईपीएस अफसर के दोस्त अभिषेक अग्रवाल से ईओयू के अधिकारियों ने 2 दिनों तक सघन पूछताछ की. हालांकि शुरू में वह कुछ भी बोलने से बचता रहा और यह कहता रहा कि आईपीएस आदित्य कुमार ही सब जानते हैं. बाद में अफसरों ने दबाव डाला तो उसने पूरी कहानी रुक-रुककर बताई. उसने आदित्य कुमार को अपना बेहद करीबी बताते हुए कहा कि वह उन्हें चार साल से जानता है. उसने बताया कि शराब वाले जिस मामले में आईपीएस को राहत मिली है, उसमें उसकी महत्वपूर्ण भूमिका है.

ईओयू सूत्रों के अनुसार, अभिषेक ने पूछताछ में स्वीकार किया कि उसने डीजीपी के अलावा कई दूसरे अधिकारियों को भी कॉ किया था. इसके लिए वह बाकायदा अभ्यास भी करता था. अभिषेक ने बताया कि आईपीएस आदित्य कुमार ही उसे बताता था कि कब और किसे कॉल करना है. अभिषेक अग्रवाल में ने आर्थिक अपराध इकाई के अधिकारियों को बताया कि वह एक साधारण शख्स है, लेकिन चीफ जस्टिस बंद कर डीजीपी से कैसे बात करनी है. इसके लिए आईपीएस आदित्य कुमार ने उसे बकायदा सलीका बताया. उसके बताए गए तरीके को अपनाकर ही वह फर्जी चीफ जस्टिस बना और इसके बाद डीजीपी से बातचीत की. अभिषेक अग्रवाल ने आर्थिक अपराध इकाई के अधिकारियों को बताया क‍ि उसके और आदित्‍य कुमार के बीच इस बात की डील हुई थी कि आईपीएस अमित कुमार आरोपों से मुक्त हो जाएगा और उसकी पोस्टिंग हो जाएगी तब इसके बदले में अभिषेक अग्रवाल को पैसे कमाने की छूट मिलेगी.

उसने बताया कि ना केवल बिहार के डीजीपी बल्कि डीजीपी के अलावा कुछ दूसरे अफसरों को भी फोन करता था. राज्य के बड़े-बड़े आईएएस अधिकारियों को भी आईपीएस आदित्य के कहने पर वह कॉल करता था. कई बार आदित्य अपने सामने बिठाकर ही अभिषेक को फर्जी चीफ जस्टिस बनाकर अफसरों को कॉल कराता था.

पुलिस सूत्रों के अनुसार, आईपीएस आदित्य कुमार अपने ऊपर चल रही विभागीय कार्रवाई को जल्द से जल्द समाप्त कराकर एसपी की पोस्टिंग चाह रहा था. इसके लिए आईपीएस ने अभिषेक को पुलिस मुख्यालय से जुड़े कई गोपनीय दस्तावेज और रिपोर्ट उपलब्ध कराये थे. व्हाट्सएप पर तस्वीरों के साथ कई गोपनीय दस्तावेज की हार्ड कॉपी भी आईपीएस ने अभिषेक को उपलब्ध करा दी थी. इस बीच अभिषेक के वित्तीय लेन-देन की भी जांच की जा रही है. उसके दो-दो बैंक खातों के डिटेल निकाले गए हैं. खातों में मोटा लेन-देन हुआ है. कर्ज पर गाड़ी लिए जाने की भी जानकारी मिली है. अभिषेक अग्रवाल की पटना के एक्जीबिशन रोड में टाइल्स की दुकान है. एक दुकान की बदौलत वह इतनी महंगी लाइफस्टाइल कैसे मैनेज करता था, इसकी भी जांच की जा रही है. जांच टीम को यह भी शक है कि वह कई लोगों को पैरवी का झांसा देकर मोटी राशि भी वसूल करता होगा, इस बिंदु पर भी जांच जारी है.

Tags: Bihar News, PATNA NEWS

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें