लाइव टीवी

CM नीतीश कुमार ने दी चेतावनी, पराली जलाने वाले किसानों को नहीं मिलेगी सरकारी सुविधा

भाषा
Updated: October 14, 2019, 9:11 PM IST
CM नीतीश कुमार ने दी चेतावनी, पराली जलाने वाले किसानों को नहीं मिलेगी सरकारी सुविधा
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए जल-जीवन-हरियाली अभियान की शुरुआत की गई है. जल और हरियाली है तभी जीवन है. इस अभियान के अंतर्गत 11 प्रकार की कार्य योजना तैयार की गई है.

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने कहा कि किसानों को यह बात समझानी होगी कि पराली (Stubble) जलाने से खेती की उपज में कमी तो आती ही है और साथ ही पर्यावरण संकट भी पैदा हो रहा है.

  • Share this:
पटना. बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने सोमवार को पराली जलाने वाले किसानों को चेतावनी दी. नीतीश कुमार ने कहा कि जो किसान पराली (Stubble) जलाएंगे वे सरकार की तरफ से मिलने वाली सुविधाओं से वंचित रह जाएंगे. पटना में फसल अवशेष प्रबंधन पर आयोजित दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए नीतीश ने कहा कि फसल कटाई के बाद पराली जलाने से पर्यावरण (Environment) पर बुरा असर पड़ता है. पहले दिल्ली-पंजाब में इसका प्रचलन ज्यादा था, जिसका असर दिल्ली के वातावरण पर भी पड़ता है.

उन्होंने कहा कि बिहार में भी कुछ जगहों पर अब पराली जलायी जाने लगी है. हवाई यात्राओं के दौरान मुझे भी इसका आभास हुआ. इसे रोकने के लिए कृषि विभाग को अभियान चलाने की सलाह दी गई है. उन्होंने कहा कि इसके विरुद्ध पंजाब और हरियाणा में भी अभियान चलाया गया है लेकिन फिर भी यह रुक नहीं पा रहा है. इसके मूल कारणों को भी जानना-समझना होगा. उन्होंने कहा कि किसानों को यह बात समझानी होगी कि पराली जलाने से खेती की उपज में कमी तो आती ही है और साथ ही पर्यावरण संकट भी पैदा हो रहा है.

पराली का दूसरे कार्यों में उपयोग किया जाए
नीतीश ने कहा कि किसानों को यह समझाना होगा कि अगर पराली का दूसरे कार्यों में उपयोग किया जाए, जैसे पराली को इकट्ठा कर कई अन्य प्रकार के चीजों का निर्माण कराया जाए तो अनाज के साथ-साथ इससे भी किसानों की आमदनी बढे़गी. उन्होंने कहा कि किसानों की हर संभव सहायता कर रहे हैं लेकिन जो किसान पराली जलाएंगे, वे सरकार की तरफ से मिलने वाली सुविधाओं से वंचित रह जाएंगे.

जल और हरियाली है, तभी जीवन है
मुख्यमंत्री ने कहा कि पर्यावरण संरक्षण के लिए जल-जीवन-हरियाली अभियान की शुरुआत की गई है. जल और हरियाली है, तभी जीवन है. इस अभियान के अंतर्गत 11 प्रकार की कार्य योजना तैयार की गई है.

ये भी पढ़ें-
Loading...

पटना के डूबने को लेकर सख्त हुआ हाईकोर्ट, 16 अक्टूबर को होगी सुनवाई

BPSC की 63वीं परीक्षा का फाइनल रिजल्ट घोषित, श्रेयांश तिवारी बने टॉपर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 14, 2019, 7:51 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...