बिहार में गहराने लगा बाढ़ का खतरा, 9 नदियां खतरे के निशान से ऊपर, कई गांव में घुसा बाढ़ का पानी
Patna News in Hindi

बिहार में गहराने लगा बाढ़ का खतरा, 9 नदियां खतरे के निशान से ऊपर, कई गांव में घुसा बाढ़ का पानी
उत्तर बिहार के लिए सबसे खतरनाक कोसी नदी भी उफान पर है.

उत्तरी बिहार (North Bihar) में भारी बारिश के कारण नदियां खतरे के निशान को पार कर चुकी हैं, जिससे कई नदियों के बांधों पर खतरा मंडराने लगा है. मधुबनी के झंझारपुर में पुनर्दाहा के पास कमला बलान तटबंध में हेवी रेन कट के बाद उसकी सुरक्षा में जल संसाधन विभाग की टीम जुट गई है.

  • Share this:
पटना. नेपाल (Nepal) के तराई क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश (Rain) और उत्तर बिहार में दो दिनों से हो रही भारी बारिश के बाद बिहार के कई इलाकों में बाढ़ (Flood)की स्थिति विकराल होती जा रही है. चंपारण, मिथिलांचल, कोसी, सीमांचल और पूर्वी बिहार के जिलों की नदियों के जलस्तर में लगातार वृद्धि हो रही है. सूबे की अधिकांश नदियां लाल निशान को पार कर गयी हैं. कोसी (Kosi) , बागमती, कमलाा और गंडक के साथ-साथ लालबकेया, अधवारा आदि कुछ छोटी नदियों में भी उफान से लगभग 50 से अधिक गांव पानी में घिर गये हैं.

कई बांधों पर मंडरा रहा है खतरा
भारी बारिश के कारण नदियां खतरे के निशान को पार कर चुकी हैं, जिससे कई नदियों के बांधों पर खतरा मंडराने लगा है. मधुबनी के झंझारपुर में पुनर्दाहा के पास कमला बलान तटबंध में हेवी रेन कट के बाद उसकी सुरक्षा में जल संसाधन विभाग की टीम जुट गई है. मुजफ्फरपुर के औराई-कटरा में तटबंध पर बागमती के बढ़े जलस्तर का भारी दबाव आ गया है. चंपारण, मुजफ्फरपुर, मधुबनी, दरभंगा, सीतामढ़ी और शिवहर के निचले इलाकों में स्थिति विकट होती जा रही है. पानी से घिरे गांव के लोग बांध और एनएच जैसे ऊंचे स्थानों पर तंबू गाड़ शरण लेने लगे हैं. ऊपर से लगातार हो रही बारिश में बाढ़ पीड़ित दोहरी मुसीबत झेल रहे हैं.

ये भी पढ़ें- अमिताभ की सलामती के लिए पटना में हवन, फैन्स बोले- जल्द स्वस्थ होंगे बिग बी
कोसी गंडक भी उफान पर


उत्तर बिहार के लिए सबसे खतरनाक कोसी नदी भी उफान पर है. सुपौल में पिछले दो दिनों से कोसी में ढाई लाख क्यूसेक पानी के डिस्चार्ज के बाद नदी का जलस्तर काफी बढ़ गया है. तटबंध के अंदर बसे लगभग तीन दर्जन गांव में बाढ़ का पानी फैल गया है. इधर चंपारण में वाल्मीकिनगर बराज से  2.51 लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने के बाद गंडक का दबाव पीपरा-पिपरासी टतबंध पर बढ़ गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading